Advertisements

Vaimanika Shastra Pdf / अंक ज्योतिष बुक पीडीएफ डाउनलोड

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Vaimanika Shastra Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Vaimanika Shastra Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

Advertisements
Vaimanika Shastra Pdf Hindi Free
यहां से वैमानिका शास्त्र Pdf Free Download करें। 
Advertisements

 

 

aviation knowledge pdf download
Advertisements

 

 

aviation knowledge pdf download 2
Advertisements

 

 

Vaimanika Shastra Pdf
यहां से अंक ज्योतिष बुक पीडीएफ डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

Vaimanika Shastra Pdf
यहां से बेस्ट अंक ज्योतिष बुक डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

Vaimanika Shastra Pdf
यहां से वैभव लक्ष्मी मंत्र Pdf Download करें।
Advertisements

 

 

 

Vaimanika Shastra Pdf
यहां से दुर्गा सहस्त्रनाम Pdf Download करें।
Advertisements

 

 

 

Shri Durga Sahasranama, धार्मिक पुस्तकें - Ahuja Prakashan, New Delhi | ID:  4453878897
यहां से Durga Sahasranamam Pdf Download करें।
Advertisements

 

 

 

 

वैमानिका शास्त्र, वैभव लक्ष्मी मंत्र और दुर्गा सहस्रनाम मंत्र नीचे से डाउनलोड करें।

 

 

 

जिस प्रकार कद्रू ने वनिता को दुःख दिया था वैसे ही दुःख तुम्हे कौशल्या देगी। भरत कारागार में रहेंगे और लक्ष्मण राम नायब सलाहकार होंगे।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- कैकेयी मंथरा की कटु वाणी को सुनते ही डरकर सूख गयी। उससे कुछ बोलते न बना। कैकेयी का सारा शरीर पसीने से भीग गया, वह केले की तरह कांपने लगी।

 

 

 

तब कुबड़ी मंथरा ने अपनी जीभ को दांतो तले दबाते हुए भयभीत होकर सोचा कि भविष्य की डरावनी बात को सुनकर कही कैकेयी के हृदय की गति न रुक जाय, जिससे सारा काम ही उलटकर बिगड़ न जाय।

 

 

 

 

2- फिर कपट पूर्ण करोड़ो कहानियां कहते हुए उसने रानी को भली भांति से समझाया कि धीरज रखो। कैकेयी की बुद्धि को मंथरा ने अपने आधीन कर लिया था। उसने बगुली को हंसिनी मानकर अर्थात शत्रु को हित मानकर उसकी सराहना करने लगी।

 

 

 

 

3- कैकेयी ने कहा – मंथरा! सुन,मुझे तेरी बात सत्य लगती है क्योंकि मेरी दाहिनी आंख नित्य ही फड़कती है। मैं प्रतिदिन रात को बुरे स्वप्न देखती हूँ किन्तु अपने अज्ञान वश तुझसे नहीं कहती हूँ।

 

 

 

4- सखी! क्या करूँ,मेरा स्वभाव सीधा,तथा सरल है। मैं दायां-बायां कुछ भी नहीं जानती हूँ।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Vaimanika Shastra Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!