Advertisements

Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi / तैत्तिरीय उपनिषद Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Dhruvswamini Pdf in Hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi

 

 

पुस्तक का नाम  Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi
पुस्तक के लेखक  वेदव्यास 
फॉर्मेट  Pdf 
भाषा  हिंदी 
साइज  2.11 Mb 
पृष्ठ  86 
श्रेणी  संदर्भ पुस्तक 

 

 

 

तैत्तिरीय उपनिषद Pdf Download

 

 

Advertisements
Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi
Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi
कृष्ण कुंजी नावेल Pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

Advertisements
Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi
संमोहन बांसुरी हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

जब स्वामी जी की ख्याति पूरे विश्व में फैल चुकी थी. तब उनसे प्रभावित होकर एक विदेशी महिला उनसे मिलने आई. उस महिला ने स्वामी जी से कहा- “मैं आपसे विवाह करना चाहती हूँ.” स्वामी जी ने कहा- हे देवी मैं तो ब्रह्मचारी पुरुष हूँ, आपसे कैसे विवाह कर सकता हूँ?

 

 

 

वह विदेशी महिला स्वामी जी से इसलिए विवाह करना चाहती थी ताकि उसे स्वामी जी जैसा पुत्र प्राप्त हो सके और वह बड़ा होकर दुनिया में अपने ज्ञान को फैला सके और नाम रोशन कर सके. उन्होंने महिला को नमस्कार किया और कहा- “हे माँ, लीजिये आज से आप मेरी माँ हैं.”

 

 

 

आपको मेरे जैसा पुत्र भी मिल गया और मेरे ब्रह्मचर्य का पालन भी हो जायेगा. यह सुनकर वह महिला स्वामी जी के चरणों में गिर गयी. 4 जुलाई 1902 को स्वामी जी ने बेलूर मठ में पूजा अर्चना की और योग भी किया. उसके बाद वहां के छात्रों को योग, वेद और संस्कृत विषय के बारे में पढाया।

 

 

 

संध्याकाल के समय स्वामी जी ने अपने कमरे में योग करने गए व अपने शिष्यों को शांति भंग करने लिए मना किया और योग करते समय उनकी मृत्यु हो गई.मात्र 39 वर्ष की आयु में स्वामी जी जैसे प्रेरणा पुंज का प्रभु मिलन हो गया. स्वामी जी के जन्मदिवस को पूरे भारतवर्ष में “युवा दिवस“ के रूप में मनाया जाता हैं.

 

 

 

‘उठो, जागो, स्वयं जागकर औरों को जगाओ. अपने मानव जन्म को सफल बनाओ और तब तक नहीं रूको जब तक लक्ष्य प्राप्त न कर लो’ हम ऐसी शिक्षा चाहते हैं जिससे चरित्र निर्माण हो. मानसिक शक्ति का विकास हो. ज्ञान का विस्तार हो और जिससे हम खुद के पैरों पर खड़े होने में सक्षम बन जाएं।

 

 

 

१)शिवाजी महाराज का आरम्भिक जीवन

शिवाजी महाराज का जन्म 19 फ़रवरी 1630 में शिवनेरी दुर्ग में हुआ था. इनके पिता का नाम शाहजी भोसलें और माता का नाम जीजाबाई था. शिवनेरी दुर्ग पुणे के पास हैं, शिवाजी का ज्यादा जीवन अपने माता जीजाबाई के साथ बीता था. शिवाजी महाराज बचपन से ही काफी तेज और चालाक थे।

शिवाजी ने बचपन से ही युद्ध कला और राजनीति की शिक्षा प्राप्त कर ली थी। भोसलें एक मराठी क्षत्रिय हिन्दू राजपूत की एक जाति हैं. शिवाजी के पिता भी काफी तेज और शूरवीर थे. शिवाजी महाराज के लालन-पालन और शिक्षा में उनके माता और पिता का बहुत ही ज्यादा प्रभाव रहा हैं. उनके माता और पिता शिवाजी को बचपन से ही युद्ध की कहानियां तथा उस युग की घटनाओं को बताती थी।

मित्रों यह पोस्ट Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Taittiriya Upanishad Pdf in Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!