Advertisements

5 + Swami Vivekanand Books In Hindi / स्वामी विवेकानंद बुक्स इन हिंदी

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Swami Vivekanand Books In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Swami Vivekanand Books In Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से हिन्दू धर्म कोश Pdf भी डाउनलोड कर सकते है।

 

Advertisements

 

Swami Vivekanand Books In Hindi 

 

 

 

पुस्तक का नाम व्यक्तित्व का विकास 
पुस्तक के लेखक स्वामी विवेकानंद 
पुस्तक की भाषा हिंदी 
श्रेणी व्यक्तित्व विकास 
फॉर्मेट Pdf
साइज 2 Mb
कुल पृष्ठ 80

 

 

व्यक्तित्व का विकास – स्वामी विवेकानन्द Pdf Download

 

Advertisements
Swami Vivekanand Books In Hindi
Swami Vivekanand Books In Hindi
Advertisements

 

 

एकाग्रता का रहस्य book PDF Download

 

ध्यान तथा इसकी पद्धतियाँ PDF Free Download

 

ज्ञानयोग PDF Download

 

मरणोत्तर जीवन का रहस्य Pdf Download

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

फिर एक रावण को सहस्रबाहु ने देखा और उसने दौड़कर उसको एक प्रकार का विशेष जंतु समझकर पकड़ लिया। तमाशे के लिए वह उसे घर ले आया। तब पुलत्स्य ने जाकर उसे छुड़ाया।

 

 

 

 

24- दोहा का अर्थ-

 

 

 

एक रावण की बात कहने में मुझे बहुत ही संकोच होता है – वह बहुत दिनों तक बालि की कांख में रहा था। इनमे से तुम कौन से रावण हो? खीझना छोड़कर सत्य कहो।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

रावण ने कहा – सुन, मैं वही बलवान रावण हूँ जिसकी भुजाओ की लीला कैलाश पर्वत जानता है। जिसकी शूरता उमापति महादेव जी जानते है। जिन्हे अपनी सिर रूपी पुष्प अर्पित करके मैंने पूजा था।

 

 

 

 

सिर रूपी कमल को अपने हाथो से उतारकर मैंने अनेक बार त्रिपुरारी शिव की पूजा की है। मेरी भुजाओ का पराक्रम दिग्पाल जानते है।

 

 

 

 

जब-जब मैं उनसे जबरदस्ती भिड़ा उनके भयानक दांत मेरी छाती में अपना चिन्ह भी नहीं बना सके बल्कि मेरी छाती से लगते ही वह मूली की भांति टूट गए।

 

 

 

 

जिसके चलते समय पृथ्वी इस प्रकार हिलती है जैसे मतवाले हाथी के चढ़ते समय छोटी नाव! मैं वही जगतप्रसिद्ध रावण हूँ। अरे झूठी बकवास करने वाले! क्या तूने अपने श्रवण से मुझको कभी नहीं सुना।

 

 

 

 

25- दोहा का अर्थ-

 

 

 

उस महान प्रतापी जगत प्रसिद्ध रावण को तू छोटा कहता है और मनुष्य की बड़ाई करता है? अरे तुच्छ बंदर! अब मैंने तेरा ज्ञान जान लिया।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Swami Vivekanand Books In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!