Advertisements

Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से 5 + राजीव दीक्षित चिकित्सा आयुर्वेद Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

स्वदेशी चिकित्सा के चमत्कार पीडीएफ डाउनलोड 

 

स्वदेशी चिकित्सा pdf Download

 

 

 

Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf / स्वदेशी चिकित्सा के चमत्कार Pdf

 

 

 

 

 

 

Advertisements
Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf Download
Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf Download
Advertisements

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

उन्होंने पहाड़ की चोटी पर चढ़कर चारो तरफ देखा तो पृथ्वी के अंदर एक गुफा में उन्हें एक कौतुक दिखाई दिया। उसके ऊपर चकवे बगुले और हंस उड़ रहे है और बहुत से पक्षी उसमे प्रवेश कर रहे है।

 

 

 

 

पवनकुमार हनुमान जी पर्वत से उतर आये और सबको ले जाकर वह गुफा दिखलाई। सबने हनुमान जी को आगे करते हुए उस गुफा में घुसने में देर नहीं लगाई।

 

 

 

 

24- दोहा का अर्थ-

 

 

 

अंदर जाकर उन्होंने एक उत्तम उपवन और तालाब देखा जिसमे बहुत से कमल खिले हुए है। वही एक सुंदर मंदिर है जिसमे एक तपोमूर्ति स्त्री बैठी है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

दूर से ही सबने उसे सिर नवाया और पूछने पर सब अपना वृतांत कह सुनाया। तब उसने कहा – जलपान करो और भांति-भांति के सुंदर और रसीले फल खाओ।

 

 

 

 

आज्ञा लेकर सबने स्नान किया और मीठे फल खाये फिर उस तपस्विनी स्त्री के पास चले आये। तब उसने अपनी सब कथा कह सुनाई और कहा – मैं अब वहां जाउंगी जहां श्री रघुनाथ जी है।

 

 

 

 

तुम लोग आँखे मूंद लो और गुफा को छोड़कर बाहर आओ। तुम सीता जी को ढूंढ पाओगे, पछताओ नहीं और निराश मत होओ। आँखे मूंदकर जब फिर आँखे खोली तो वह सब वीर देखते है कि सब एक साथ ही समुद्र के निकट खड़े है।

 

 

 

 

और वह तपस्विनी स्त्री वहां गई जहां श्री रघुनाथ जी थे। उसने जाकर प्रभु के चरण कमलो में मस्तक नवाया और बहुत प्रकार विनती की। प्रभु ने उसे अपनी अनपायनी भक्ति प्रदान किया।

 

 

 

 

25- दोहा का अर्थ-

 

 

 

प्रभु की आज्ञा को शिरोधार्य करके और श्री राम जी के युगल चरणों को जिनकी ब्रह्मा और महेश भी वंदना करते है हृदय में धारण करके वह स्वयं प्रभा बदरिकाश्रम को चली गयी।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Swadeshi Chikitsa Ke Chamatkar Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!