Suspense Novel in Hindi free Download / सस्पेंस नावेल इन हिंदी पीडीएफ

मित्रों इस पोस्ट में Suspense Novel in Hindi free दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से सस्पेंस नावेल इन हिंदी पीडीएफ फ्री डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

Suspense Novel in Hindi free Download

 

 

 

 

 

रोज नए Hindi उपन्यास Pdf  और Hindi कहानी Pdf के लिए मेरे टेलीग्राम चॅनेल Pdf Books Hindi Telegram को जरूर ज्वाइन करें और मेरे फेसबुक पेज Pdf Books Hindi Facebook को ज्वाइन करें।

 

 

 

1- Suspense Novel Hindi Rakt Mandal / रक्त मंडल नावेल फ्री डाउनलोड

 

2- अद्भूत हिंदी सस्पेंस थ्रिलर नावेल 

 

3- Suspense Novel in Hindi Free Download / अण्डमान के पिशाच नावेल

 

4- Best Suspense Novel Hindi / जहन्नुम की अप्सरा इब्ने सैफई

 

5-  R Wing Part – 2 नोवेल्स

 

6- R-Wing भाग 1 हिंदी नोवेल्स फ्री डाउनलोड

 

7- Karn Ki Atmkatha By Manu Sharma / कर्ण की आत्मकथा फ्री डाउनलोड

 

8- Ravan Aryavrat Ka Shatru Novel Free Download / रावण आर्याव्रत का शत्रु

 

9- Sita Mithila Ki Yoddha By Amish Tripathi / सीता मिथिला की योद्धा

 

11- विषकन्या 

 

12- हादसे की रात 

 

13- सबसे बड़ी मिस्ट्री वेद प्रकाश शर्मा नावेल 

 

 

 

रोज नए Hindi उपन्यास Pdf  और Hindi कहानी Pdf के लिए मेरे टेलीग्राम चॅनेल Pdf Books Hindi Telegram को जरूर ज्वाइन करें और मेरे फेसबुक पेज Pdf Books Hindi Facebook को ज्वाइन करें।

 

 

किड्स स्टोरी इन हिंदी न्यू

 

 

श्री कान्हा के चमत्कार और लीलाओं के बारे में भला कौन नहीं जानता है।  वह सर्वशक्तिमान थे।  उन्होंने दुष्टों को मारने के लिए कई लीलाएं रचीं।  उन्ही में से एक लीला के कारण उन्हें रणछोड़ कहा गया। आज इस पोस्ट में हम उसी लीला के बारे में जिक्र करने जा रहे हैं।

 

 

 

 

एक बार मगधराज जरासंध ने भगवान् श्रीकृष्ण को युद्ध के लिए ललकारा।  जरासंध भगवान् श्रीकृष्ण से शत्रुता रखता था। जरासंध ने युद्ध में अपने साथ यवन देश के राजा कालयवन को नहीं साथ ले लिया।

 

 

 

 

कालयवन को भगवान् शिव से यह वरदान था कि उसे कोई भी सूर्यवंशी या चंद्रवंशी नहीं मार सकता है और ना ही युद्ध में हरा सकता है। कालयवन को ताकत से भी मारा नहीं जा सकता था।

 

 

 

 

इस वरदान के कारण वह निर्दयी हो गया था। उसे इसका घमंड हो गया था।  जरासंध के कहने पर उसने मथुरा पर आक्रमण कर दिया।  भगवान् श्रीकृष्ण उसे प्राप्त वरदान के बारे में जानते थे, इसलिए वे रणभूमि छोड़कर वहाँ से भाग निकले हुए एक अँधेरी गुफा में आ गए।

 

 

 

 

भगवान श्रीकृष्ण जिस गुफा में छिपे थे, उसमें पहले से ही इक्ष्वाकु नरेश मांधाता के पुत्र और दक्षिण कोसल के राजा मुचकुन्द गहरी नीद में सोये हुए थे।

 

 

 

दरअसल, उन्होंने असुरों के साथ युद्ध करके देवताओं को जीत दिलाई थी और लगातार कई दिनों तक युद्ध करने के कारण वे काफी थक गए थे।  इसलिए भगवान इंद्र ने उनसे सोने का आग्रह किया और उन्हें वरदान दिया कि जो कोई भी उन्हें नींद से जगायेगा वह जलकर भस्म हो जाएगा।

 

 

 

 

राजा मुचकुन्द को मिले इस वर की बात भगवान श्रीकृष्ण को पता थी और इसीलिए वे कालयवन को अपने पीछे उस गुफा तक लाये।  उसके बाद कालयवन को भ्रमित करने के लिए अपना पीताम्बर राजा मुचकुन्द के ऊपर डाल दिया।

 

 

 

 

राजा को देखकर कालयवन को लगा कि श्रीकृष्ण डरकर इस अंधेरी गुफा में सो गए हैं।  ऐसा समझकर उसने राजा मुचकुन्द को एक जोरदार लात मारी। राजा की नीद टूट गयी और वे उठ गए।  उनके उठते ही कालयवन जलकर भस्म हो गया।

 

 

 

 

Moral – इस कथा से हमें यह शिक्षा मिलती है कि किसी बड़े कार्य को पूरा करने के लिए दो कदम पीछे भी हटना पड़े तो हट जाना चाहिए। 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Suspense Novel in Hindi free आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट और नोवेल्स के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment