Advertisements

सिंदुर की होली नाटक Pdf / Sindur Ki Holi PDF

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Sindur Ki Holi PDF देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Sindur Ki Holi PDF download कर सकते हैं और आप यहां से Antyakarm shradh prakash pdf Hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Sindur Ki Holi PDF

 

पुस्तक का नाम  Sindur Ki Holi PDF
पुस्तक के लेखक  लक्ष्मीनारायण मिश्रा 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  11.5 Mb 
पृष्ठ  185 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  नाटक 

 

 

सिंदुर की होली नाटक Pdf Download

 

 

Advertisements
Sindur Ki Holi PDF
Sindur Ki Holi PDF Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
James Hadley Chase Novels in Hindi Pdf
दुनिया मेरी जेब में हिंदी उपन्यास यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
James Hadley Chase Novels in Hindi Pdf
दौलत आई मौत लाइ हिंदी उपन्यास यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
James Hadley Chase Novels in Hindi Pdf
सुंदरी का चैलेन्ज हिंदी उपन्यास यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
मास्टर माइंड Novel Pdf Free Download
मास्टर माइंड Novel Pdf Free Download
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Sindur Ki Holi PDF
बीवी को मनाना हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

क्षत्रिय चार वर्गों में दूसरे स्थान पर थे। हथियार पहनना और दुनिया की रक्षा करना उनका काम था। और शासन। ब्राह्मण चार वर्गों में प्रथम थे। प्रार्थना करना, पवित्र ग्रंथों का अध्ययन करना और धार्मिक संस्कार करना उनका काम था।

 

 

लेकिन क्षत्रिय बहुत उग्र हो गए और दुनिया और ब्राह्मणों पर अत्याचार करने लगे। विष्णु तब ऋषि जमदग्नि और उनकी पत्नी रेणुका के पुत्र के रूप में पैदा हुए थे। चूंकि यह ऋषि भृगु की पंक्ति थी, परशुराम को भार्गव भी कहा जाता था। परशुराम का मिशन ब्राह्मणों की रक्षा करना और क्षत्रियों को सबक सिखाना था।

 

 

 

कार्तवीर्य नाम का एक राजा था जिसे ऋषि दत्तात्रेय से सभी प्रकार के वरदान प्राप्त थे। इन वरदानों की बदौलत, कार्तवीर्य के पास एक हजार भुजाएँ थीं और उन्होंने पूरे विश्व पर विजय प्राप्त की और शासन किया। एक दिन, कार्तवीर्य जंगल में शिकार पर गए।

 

 

 

ऋषि जमदग्नि द्वारा ऋषि के आश्रम में विश्राम के लिए आमंत्रित किए जाने के बाद वे बहुत थक गए थे। जमदग्निहाद एक कामधेनु गाय थी। इसका मतलब यह हुआ कि गाय अपने मालिक की इच्छानुसार उत्पादन करती थी। जमदग्नि ने कामधेनु का उपयोग कार्तवीर्य और उसके सभी सैनिकों के साथ शानदार दावत के लिए किया।

 

 

 

कार्तवीर्य कामधेनु से आसक्त थे कि उन्होंने ऋषि से उसे देने के लिए कहा। लेकिन जमदग्नि ने मना कर दिया। कार्तवीर्य ने तब बलपूर्वक गाय का अपहरण कर लिया और कार्तवीर्य और परशुराम के बीच युद्ध शुरू हो गया। इस युद्ध में, परशुराम ने अपनी परशु से कार्तवीर्य को भगा दिया और कामधेनु को वापस आश्रम में ले आए।

 

 

 

कुछ समय बाद, परशुराम दूर थे जब कार्तवीर्य के पुत्र आश्रम पहुंचे और जमदग्नि को मार डाला। अपने पिता की मृत्यु पर, परशुराम का क्रोध भड़क उठा। उसने दुनिया के सभी क्षत्रियों को इक्कीस बार मार डाला। कुरुक्षेत्र के मैदान में उन्होंने पांच कुएं बनवाए जो क्षत्रियों के भरे हुए थे।

 

 

 

आखिरकार, परशुराम ने कश्यप को दुनिया सौंप दी और जाकर महेंद्र पर्वत पर रहने लगे। विष्णु की नाभि से ब्रह्मा निकले। ब्रह्मा के पुत्र थे मारीचि, मारीचि के पुत्र कश्यप, कश्यप के पुत्र सूर्य, सूर्य के पुत्र वैवस्वत मनु, मनु के पुत्र इक्ष्वाकु, इक्ष्वाकु के पुत्र काकुत्स्थ, काकुत्स्थ के पुत्र रघु, रघु के पुत्र अज, अज के पुत्र दशरथ, भरत के पुत्र थे।

 

 

 

चूंकि राम काकुत्स्थ और रघु के वंशज थे, इसलिए उन्हें काकुत्स्थ और राघव भी कहा जाता था। चूंकि उनके पिता का नाम दशरथ था, इसलिए उन्हें दशरथी भी कहा जाता था। राम की कहानी सौर रेखा (सूर्य वंश) से संबंधित है, क्योंकि उनके पूर्वजों में से एक सूर्य था

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Sindur Ki Holi PDF आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Sindur Ki Holi PDF की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!