Advertisements

Shiv Rahasya Pdf / शिव के सात रहस्य Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Shiv Rahasya Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Shiv Rahasya Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से  शिव पुराण कथा हिंदी में Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Shiv Rahasya Pdf / शिव रहस्य पीडीएफ

 

 

पुस्तक का नाम  शिव के सात रहस्य
पुस्तक के लेखक देवदत्त पटनायक 
भाषा हिंदी 
श्रेणी धार्मिक 
फॉर्मेट Pdf
पृष्ठ 290
साइज 16 Mb

 

 

 

Advertisements
Shiv Rahasya Pdf
शिव रहस्य पीडीऍफ़ डाउनलोड 
Advertisements

 

 

 

Shiv Rahasya Pdf
हस्तरेखा बुक्स यहाँ से डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

Shiv Rahasya Pdf
Best Palmistry Book in Hindi Pdf Free Download
Advertisements

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

हे प्रभो! सुनने में कठोर परन्तु परिणाम में परम हितकारी वचन जो सुनते है और कहते है ऐसे मनुष्य बहुत थोड़े से है। नीति सुनिए, उसके अनुसार पहले दूत भेजिए और फिर सीता को देकर श्री राम जी से प्रीति और मेल कर लीजिए।

 

 

 

 

9- दोहा का अर्थ-

 

 

 

 

यदि वह स्त्री प्राप्त करने पर लौट जाए तब तो व्यर्थ में झगड़ा न बढ़ाइए। नहीं तो हे तात! युद्ध भूमि में उनके सम्मुख हठ पूर्वक डटकर मुकाबला कीजिए।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

हे प्रभो! यदि आप मेरी यह सम्मति मानेंगे तो जगत में दोनों प्रकार से ही आपका सुयश होगा। रावण ने गुस्से में भरकर अपने पुत्र से कहा – अरे मुर्ख! तुझे यह बुद्धि किसने सिखाई।

 

 

 

 

अभी से हृदय में संदेह हो रहा है, भय लग रहा है? हे पुत्र! तू तो बांस की जड़ में घमोई हुआ। तू मेरे वंश के अनुकूल नहीं हुआ। पिता की अत्यंत घोर और कठोर वाणी सुनकर प्रहस्त यह कड़े वचन कहता हुआ घर को चला गया।

 

 

 

 

हित की सलाह आपको उसी प्रकार से असर नहीं करती है जैसे मृत्यु के वश हुए रोगी को दवा असर नहीं करती है। संध्या का समय जानकर रावण अपनी बीसो भुजाओ को देखता हुआ महला को चला।

 

 

 

 

लंका की चोटी पर एक अत्यंत विचित्र महला था। वहां नाच गाना का अखाडा लगता था। रावण उस महल में जाकर बैठ गया। किन्नर उसके गुण का गान करने लगे। ताल पखावज और बीणा बज रहे है। नृत्य में प्रवीण अप्सराये नाच रही है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Shiv Rahasya Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!