Advertisements

Shiv Mahapuran Pdf / शिव महापुराण Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Shiv Mahapuran Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Shiv Mahapuran Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Shiv Mahapuran Pdf / शिव महापुराण पीडीएफ

 

 

 

पुस्तक का नाम शिव महापुराण
पुस्तक के लेखक गीता प्रेस 
पुस्तक की भाषा हिंदी 
श्रेणी धार्मिक, पुराण 
साइज 9.97 Mb
कुल पृष्ठ 845
फॉर्मेट Pdf

 

 

 

शिव महापुराण पीडीऍफ़ डाउनलोड

 

Advertisements
Shiv Mahapuran Pdf
Shiv Mahapuran Pdf
Advertisements

 

 

शिव आरती Pdf in Hindi

 

भगवान शिव के 108 नाम जाने

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

वह निरंतर सैकड़ो इंद्र के समान विलास करता रहता है। यद्यपि श्री राम जी सरीखा प्रबल शत्रु सिर पर है, फिर भी न तो उसको चिंता है न ही डर है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

यहां श्री रघुवीर जी सुबेल पर्वत पर सेना की बड़ी भीड़ के साथ उतरे। पर्वत का एक बहुत ऊँचा, परम रमणीय, समतल और विशेष रूप से उज्वल देखकर।

 

 

 

 

वहां लक्ष्मण जी ने अपने हाथो से वृक्ष के कोमल पत्ते और सुंदर फूल सजाकर बिछा दिए। उसपर सुंदर और कोमल मृग छाला बिछा दिया। उसी आसन पर कृपालु श्री राम जी विराजमान थे।

 

 

 

 

प्रभु श्री राम जी वानर राज सुग्रीव की गोद में अपना सिर रखे हुए है। उनकी बायीं ओर धनु रखा है। वह अपने दोनों कर कमलो से उसे सुधार रहे है। विभीषण जी कानो से लगकर सलाह कर रहे है।

 

 

 

 

11- दोहा का अर्थ-

 

 

 

इस प्रकार से कृपा, रूप और सौंदर्य तथा गुण के धाम श्री राम जी विराजमान है। वह मनुष्य धन्य है जो सदा इस ध्यान में लयलीन रहते है।

 

 

 

पूर्व दिशा की ओर देखकर प्रभु श्री राम जी ने चन्द्रमा को उदय हुआ देखा। तब वह सबसे कहने लगे – चन्द्रमा को तो देखो कैसा सिंह के समान निडर है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

पूर्व दिशा रूपी पर्वत की गुफा में रहने वाला अत्यंत प्रताप, तेज, बल की राशि यह चन्द्रमा रूपी सिंह अंधकार रूपी मतवाले हाथी के मस्तक को विदीर्ण करके आकाश रूपी वन में निर्भय होकर विचर रहा है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Shiv Mahapuran Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!