Advertisements

Shabar Mantra Bhag 7 Pdf / शाबर मंत्र भाग 7 Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Shabar Mantra Bhag 7 Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Shabar Mantra Bhag 7 Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से  शाबर मंत्र संग्रह भाग 8 Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Shabar Mantra Bhag 7 Pdf / शाबर मंत्र भाग 7 पीडीएफ

 

 

 

Advertisements
शाबर मंत्र संग्रह भाग 8 Pdf Download
यहां से शाबर मंत्र संग्रह भाग 8 Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

 

 

Shabar Mantra Bhag 7 Pdf
यहां से शाबर मंत्र भाग 7 Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

 

फिर मन को सावधान करके शंकर जी अत्यंत सुंदर कथा कहने लगे – हनुमान जी को उठाकर प्रभु ने हृदय से लगाया और उनका हाथ पकड़कर अत्यंत निकट बैठा लिया।

 

 

 

 

हे हनुमान! बताओ तो, रावण के द्वारा सुरक्षित लंका और उसके बहुत बांके किले को तुमने कैसे विध्वंस किया? हनुमान जी ने प्रभु को प्रसन्न जाना और वह अभिमान रहित वचन बोले।

 

 

 

 

बंदर का बस यही पुरुषार्थ है कि वह एक डाल से दूसरी डाल पर चला जाता है। मैं जो समुद्र लांघकर सोने के नगर को विध्वंस किया और निसाचर समूह को परलोक पहुंचाकर अशोक वन को उजाड़ दिया। यह सब तो हे रघुनाथ जी! आपका ही प्रताप है। हे नाथ! इसमें तो मेरी कुछ भी प्रभुता नहीं है।

 

 

 

 

33- दोहा का अर्थ-

 

 

 

हे प्रभु! जिस पर आप प्रसन्न हो जाए तो उसके लिए कुछ भी कार्य कठिन नहीं है। आपके प्रभाव से रुई बड़वानल को अवश्य ही खत्म कर सकती है तथा असंभव कार्य भी संभव हो जाता है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

हे नाथ! मुझे अत्यंत सुख प्रदान करने वाली अपनी निश्चल भक्ति कृपा करके दीजिए। हनुमान जी की अत्यंत सरल वाणी सुनकर हे भवानी! तब प्रभु श्री राम जी ने ‘एवमस्तु’ कहा।

 

 

 

हे उमा! जिसने श्री राम जी का स्वभाव जान लिया उसे भजन छोड़कर दूसरी बात ही नहीं सुहाती है। यह ‘स्वामी-सेवक’ का संवाद जिसके हृदय में आ गया उसे ही रघुनाथ जी के चरणों की भक्ति की प्राप्ति हो जाती है।

 

 

 

 

प्रभु के वचन सुनकर वानरगण कहने लगे -कृपालु आनंद कंद श्री राम जी की जय हो, जय हो, जय हो! तब श्री रघुनाथ जी ने कपिराज सुग्रीव को बुलाया और कहा चलने की तैयारी करो।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Shabar Mantra Bhag 7 Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!