Advertisements

संस्कृत स्तोत्र संग्रह pdf / Sanskrit Stotra Sangrah Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Sanskrit Stotra Sangrah Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Sanskrit Stotra Sangrah Pdf download कर सकते हैं और आप यहां से Chandamama story Pdf hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Sanskrit Stotra Sangrah Pdf

 

 

पुस्तक का नाम  Sanskrit Stotra Sangrah Pdf
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  32 Mb 
पृष्ठ  22 
फॉर्मेट  Pdf 
श्रेणी  धार्मिक 

 

 

संस्कृत स्तोत्र संग्रह pdf Download

 

 

Advertisements
Sanskrit Stotra Sangrah Pdf
Sanskrit Stotra Sangrah Pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Sanskrit Stotra Sangrah Pdf
कालचक्र के रक्षक Pdf Download
Advertisements

 

 

Advertisements
Sanskrit Stotra Sangrah Pdf
बिल्लू और फिल्म की हीरोइन हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

इंसान के अंतरात्मा को जगाना है। वहीं जब लोगों को बौद्ध धर्म के बारे में पता लगना शुरु हुआ तो लोग इस धर्म की तरफ आर्कषित हुए। अब न सिर्फ भारत के लोग बल्कि दुनिया के कई करोड़ लोग बौद्ध धर्म का पालन करते हैं। इस तरह गौतम बुद्ध के अनुयायी पूरी दुनिया में फैल गए।

 

 

 

गौतम बुद्ध की जयंती या फिर वैशाख की पूर्णिमा, हिन्दी महीने के दूसरे महीने में मनाई जाती है। इसलिए इसे वेसक या फिर हनमतसूरी भी कहा जाता है। खासकर यह पर्व बौद्ध धर्म के प्रचलित है। बौद्ध धर्म में आस्था रखने वाले लोग बुद्धि पूर्णिमा को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं, क्योंकि यह उनका एक प्रमुख त्यौहार भी है।

 

 

 

बुद्ध पूर्णिमा के दिन ही गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था, इसी दिन उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी और इसी दिन उनका महानिर्वाण भी हुआ था। जबकि ऐसा किसी अन्य महापुरुष के साथ नहीं हुआ है। इसलिए इसी दिन को गौतम बुद्ध की जयंती या फिर बुद्ध पूर्णिमा के रूप में मनाया जाने लगा।

 

 

 

महात्मा बुद्ध बौद्ध धर्म के संस्थापक और महान समाज सुधारक थे। इनका वास्तविक नाम सिद्धार्थ था। इनको गौतम के नाम से भी पुकारा जाता था। आगे चलकर ये बुद्ध के नाम से अपने अनुयायियों व दुनिया में प्रतिष्ठित हुए।

 

 

 

गौतम बुद्ध का जन्म कब और कहाँ हुआ?

गौतम बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व बैशाख पूर्णिमा के दिन कपिलवस्तु राज्य के लुम्बिनी ग्राम में हुआ।

 

 

 

 

गौतम बुद्ध के माता-पिता कौन थे? पालन पोषण किसने किया?

गौतम बुद्ध के पिता शुद्धोधन थे, जोकि शाक्य कुल के क्षत्रिय थे और कपिलवस्तु के राजा थे। कपिलवस्तु नेपाल की तराई क्षेत्र में स्थित छोटा राज्य था। गौतम बुद्ध की माता का नाम महामाया था। जन्म के सातवें दिन ही माता का देहांत हो गया। अत: पालन-पोषण इनकी मौसी प्रजापति गौतमी ने किया।

 

 

 

सिद्धार्थ का विवाह किसके साथ हुआ?

सिद्धार्थ का विवाह 16 वर्ष की अवस्था में यशोधरा के साथ हुआ, जोकि शाक्य कुल की कन्या थीं।

 

 

 

गौतम बुद्ध के पुत्र का नाम क्या था?

गौतम बुद्धा और यशोधरा के पुत्र का नाम राहुल था।

 

 

 

बुद्ध ने महाभिनिष्क्रमण क्यों और कब किया?

सांसारिक समस्याओं से व्यथित होकर सिद्धार्थ ने 29 वर्ष की अवस्था में गृह त्याग कर दिया। इस त्याग को बौद्ध धर्म में महाभिनिष्क्रमण के नाम से जाना जाता है।

 

 

 

गौतम बुद्ध ने प्रथम दीक्षा किससे ली?

गृहत्याग के उपरांत सिद्धार्थ सर्वप्रथम अनोमा नदी के तट पर ही पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने अपने सिर को मुंडवाकर भिक्षुओं वाले काषाय वस्त्र धारण किए। ज्ञान की खोज में सिद्धार्थ सबसे पहले वैशाली के अलार कलाम नामक संन्यासी के पास पहुंचे, जिन्होंने इन्हें सांख्य दर्शन की दीक्षा दी।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Sanskrit Stotra Sangrah Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Sanskrit Stotra Sangrah Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!