Advertisements

Ruskin Bond Hindi Pdf Free / रस्किन बांड बुक्स फ्री

Advertisements

मित्रों इस पोस्ट में Ruskin Bond Hindi Pdf Free दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से Ruskin Bond Hindi Pdf Free Download कर सकते हैं और आप यहाँ से James Hadley Chase Novels in Hindi Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Ruskin Bond Hindi Pdf Free रस्किन बांड बुक्स फ्री डाउनलोड 

 

 

 

 

 

Advertisements
Ruskin Bond Hindi Pdf Free
नदी बोलली त्या दिवसी Pdf Download
Advertisements

 

 

 

रस्टी के कारनामे Pdf Download
रस्टी के कारनामे Pdf Download
Advertisements

 

 

डुगडुगी डोगा कॉमिक्स Pdf Download
डुगडुगी डोगा कॉमिक्स Pdf Download
Advertisements

 

 

 न्यूमेरो ऊनो राज कॉमिक्स pdf
न्यूमेरो ऊनो राज कॉमिक्स pdf download
Advertisements

 

 

 

2- अरे बाप रे साप 

 

 

 

रस्किन बांड के बारे में 

 

 

 

 

रस्किन बांड नाम से अंग्रेज लेकिन कर्म से एक सच्चे हिंदुस्तानी भारतीय है। इनके भारत में रहने की कथा किसी फ़िल्मी कथानक से कम नहीं है। रस्किन बांड के दादा एक अंग्रेज थे जो अपने जवानी के दिन में घर से भाग निकले और जाकर ब्रिटिश आर्मी में भर्ती हो गए।

 

 

 

 

उस समय ब्रिटिश का भारतवर्ष में शासन था। रस्किन बांड के दादा ब्रिटिश आर्मी के साथ हिमांचल प्रदेश आ गए और वही पर उन्होंने एक भारतीय महिला को अपना हमसफ़र बना लिया। उसके बाद रस्किन बांड के पिता का जन्म हुआ।

 

 

 

रस्किन बांड के पिता ने एक एग्लो इंडियन महिला से शादी किया था जिससे रस्किन बांड का जन्म हुआ। रस्किन बांड जब छोटा था तभी उसके माता पिता का आपसी संबंध विच्छेद हो चुका था। उसके बाद 10 वर्ष की आयु आते-आते रस्किन के पिता का देहांत हो गया और उसकी मां ने दूसरा विवाह कर लिया।

 

 

 

अब रस्किन के ऊपर से मां बाप का साया उठ चुका था। 10 वर्ष की उम्र से ही रस्किन बांड को एकाकी जीवन बिताने पड़े। वह इंग्लैंड चला गया लेकिन उसे वहां का माहौल बिलकुल ही पसंद नहीं आया वह फिर भारत लौट आया। जीवन की इस आपा-धापी में रस्किन की पढ़ाई आगे नहीं बढ़ सकी।

 

 

 

भारत वापस आने के समय तक रस्किन 17 वर्ष का हो चुका था। उसकी जो भी पढ़ाई का कार्य हुआ के हिमाचल प्रदेश के कसौली में ही संपन्न हुआ। रस्किन को अभावो के बीच ही जिंदगी का कुछ सफर तय करना पड़ा था।

 

 

 

17 वर्ष की अल्पायु में रस्किन अपनी प्रथम रचना को मूर्तरूप दिया था। जिसका नाम ‘रूम ऑन दि रूफ’ था। फिछले 40 वर्षो से रस्किन अपनी लेखनी को चलाते आ रहे है। उन्होंने 100 के लगभग लघु कहानिया,निबंध और उपन्यास का लेखन किया। 30 से अधिक बाल साहित्य की रचना कर चुके है।

 

 

 

1957 में रस्किन को जॉन लेविनिन मेमोरियल पुरस्कार प्रदान किया गया था। देहरादून में बांड को ‘अवर ट्रीज स्टिल ग्रो इन देहरा’ पर लिखे गए लेख को ‘साहित्य अकादमी’ पुरस्कार मिला था। इनके द्वारा लिखे गए ‘फ्लाइट ऑफ़ दि पिगौंस’ पर हिंदी में ‘जूनून’ फिल्म का निर्माण हो चुका है।

 

 

 

Note- हम कॉपीराइट का पूरा सम्मान करते हैं। इस वेबसाइट Pdf Books Hindi द्वारा दी जा रही बुक्स, नोवेल्स इंटरनेट से ली गयी है। अतः आपसे निवेदन है कि अगर किसी भी बुक्स, नावेल के अधिकार क्षेत्र से या अन्य किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप हमें [email protected] पर सूचित करें। हम निश्चित ही उस बुक को हटा लेंगे। 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Ruskin Bond Hindi Pdf Freeआपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें, वहाँ आपको नयी बुक्स, नावेल, कॉमिक्स की जानकारी मिलती रहेगी।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!