Advertisements

Rigveda Bhashya Hindi Pdf / ऋग्वेद भाष्य हिंदी Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Rigveda Bhashya Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Rigveda Bhashya Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से ऋग्वेद संस्कृत Pdf भी डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Rigveda Bhashya Hindi Pdf / ऋग्वेद भाष्य हिंदी पीडीएफ

 

 

ऋग्वेद भाष्य हिंदी Pdf Download

 

Advertisements
Rigveda Bhashya Hindi Pdf
Rigveda Bhashya Hindi Pdf
Advertisements

 

ऋग्वेद इन हिंदी Pdf Download

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

4- श्री राम जी के गुण समूह को कहते हुए सब लोग प्रेम से भर गए और अपने भाग्य की सराहना करने लगे कि जगत में हमारे समान पुण्य की पूंजी वाले कम ही है, जिन्हे श्री राम जी अपना जानते है।

 

 

 

 

274- दोहा का अर्थ- 

 

 

 

 

उस समय सब लोग प्रेम में मगन है। इतने में ही मिथिला पति जनक जी को आते हुए सुनकर सूर्यकुल रूपी श्री राम जी की सभा सहित आदर पूर्वक जल्दी से उठ खड़े हुए।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- भाई, मंत्री और पुरवासियों को साथ लेकर श्री रघुनाथ जी आगे जनक जी की अगवानी में चले। जनक जी ने ज्यों ही पर्वत श्रेष्ठ कामदनाथ को देखा, त्यों ही उन्होंने प्रणाम करके रथ छोड़ दिया और पैदल चलना शुरू कर दिया।

 

 

 

 

2- श्री राम जी के दर्शन की लालसा और उत्साह के कारण ही किसी को रास्ते की थकावट और क्लेश जरा भी नहीं है। मन तो वहां है जहां श्री राम जी और जानकी जी है। बिना मन के शरीर की सुख-दुःख किसको है?

 

 

 

 

3- जनक जी इस प्रकार चले आ रहे है। समाज सहित उनकी बुद्धि प्रेम में मतवाली हो रही है। निकट आने पर सब प्रेम में भर गए और आदर पूर्वक ही आपस में मिलने लगे।

 

 

 

 

4- जनक जी वशिष्ठ जी और अयोध्यावासी मुनि के चरणों की वंदना करने लगे और श्री राम जी ने शतानन्द आदि जनकपुर वासी ऋषियों को प्रणाम किया फिर भाइयो समेत श्री राम जी राजा जनक जी से मिलकर उन्हें समाज सहित अपने आश्रम में लेकर आये।

 

 

 

 

275- दोहा का अर्थ-

 

 

 

 

श्री राम जी का आश्रम शांत रस रूपी जल से परिपूर्ण समुद्र है। जनक जी की सेना समाज मानो करुणा रस की नदी है, जिसे रघुनाथ जी उस आश्रम रूपी शान्तरस के समुद्र में मिलाने के लिए ले जा रहे है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Rigveda Bhashya Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!