Advertisements

Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi / ऋग्वेद मंडल 8 Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से  ऋग्वेद इन हिंदी Pdf पढ़ सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi / ऋग्वेद मंडल 8 पीडीएफ

 

 

 

 

Advertisements
Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi
ऋग्वेद मंडल 8 Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi
ऋग्वेद मंडल 10 Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Rigved Mandal 10 Pdf
ऋग्वेद मंडल 9 Pdf Download
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

 

1- कुटिल कैकेयी मन में पश्चाताप से दुखी हो रही है। किससे कहे और किसे दोष दे? और सब नर-नारी इसलिए प्रसन्न हो रहे है कि जनक जी के आने से कुछ दिन और रहने को मिलेगा।

 

 

 

 

2- इस तरह से वह दिन भी बीत गया। दूसरे दिन प्रातःकाल सब लोगो ने स्नान किया, स्नान करके सब लोगो ने गौरी, गणेश और सूर्य भगवान की पूजा किया।

 

 

 

 

3- फिर लक्ष्मपति भगवान विष्णु के चरणों की वंदना करके दोनों हाथ जोड़कर और आंचल पसारकर विनती करते है कि श्री राम जी राजा हो और जानकी जी रानी हो तथा राजधानी अयोध्या की सेना होकर।

 

 

 

 

4- फिर समाज सहित सुख पूर्वक बस जाए और श्री राम जी भरत जी को युवराज बनाये। हे देव! इस सुख रूपी अमृत से सींचकर सब किसी को जगत में जीने का लाभ दीजिए।

 

 

 

 

273- दोहा का अर्थ-

 

 

 

 

गुरु समाज और भाइयो समेत श्री राम जी का राज्य अवधपुरी में हो, और श्री राम जी के राजा रहते ही हम लोगो का अयोध्या में ही उद्धार हो, सब लोग यही मांगते है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

1- अयोध्या वासियो की प्रेममयी वाणी सुनकर ज्ञानी मुनि भी अपने योग और वैराग्य की निंदा करते है। अवधवासी इस प्रकार नित्यकर्म करके श्री राम जी को पुलकित शरीर से प्रणाम करते है।

 

 

 

 

2- ऊंच, नीच और मध्यम सभी श्रेणियों के स्त्री-पुरुष अपने-अपने भाव के अनुसार ही श्री राम जी का दर्शन प्राप्त करते है। श्री राम जी सावधानी के साथ ही सबका सम्मान करते है और सभी लोग कृपानिधान श्री राम जी की सराहना करते है।

 

 

 

 

3- श्री राम जी की लड़कपन से ही यह वान (दिनचर्या) है कि वह प्रेम को पहचानकर नीति का पालन करते है। श्री रघुनाथ जी शील और संकोच के समुद्र है। वह सुंदर मुख के सबके अनुकूल रहने वाले सुंदर नेत्र वाले सबको कृपा दृष्टि से देखने वाले और सरल स्वभाव के है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Rigved Mandal 8 Pdf In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!