Advertisements

5 + Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf / राजीव दीक्षित चिकित्सा आयुर्वेद Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Ayurveda Books Pdf Hindi भी पढ़ सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf / राजीव दीक्षित चिकित्सा आयुर्वेद पीडीएफ

 

 

 

Advertisements
Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf
राजीव दीक्षित चिकित्सा आयुर्वेद पीडीऍफ़ डाउनलोड
Advertisements

 

 

Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf
स्वदेशी चिकित्सा पीडीऍफ़ भाग 1
Advertisements

 

 

 

Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf
स्वदेशी चिकित्सा पीडीऍफ़ भाग 2
Advertisements

 

 

 

Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf
स्वदेशी चिकित्सा पीडीऍफ़ भाग 3
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

तब अंगद आदि वानरों को साथ लेकर और श्री राम जी के छोटे भाई लक्ष्मण जी को आगे करके सुग्रीव हर्षित होकर चले और जहां रघुनाथ जी थे वहां आये।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

श्री रघुनाथ जी के चरणों में सिर नवाकर हाथ जोड़कर सुग्रीव ने कहा – हे नाथ! मेरा कुछ भी दोष नहीं है। हे देव! आपकी माया ही अत्यंत प्रबल है। आप जब दया करते है – हे राम! तभी यह छूटती है।

 

 

 

 

हे स्वामी! देवता, मनुष्य और मुनि सभी विषयो के वश में है। फिर मैं पशु और पशुओ में भी अत्यंत बंदर हूँ और लोभ से अपना गला नहीं बंधाया।

 

 

 

 

हे रघुनाथ जी! वह मनुष्य आपके ही समान है। यह गुण साधन से नहीं मिलते है। आपकी कृपा से ही यह किसी-किसी को प्राप्त होता है।

 

 

 

 

तब श्री रघुनाथ जी मुसकराकर बोले – हे भाई! तुम मुझे भरत के समान ही प्रिय हो। अब मन लगाकर वही उपाय करो जिससे सीता की खबर मिले।

 

 

 

 

21- दोहा का अर्थ-

 

 

 

 

जब इस प्रकार से बात-चीत हो रही थी तभी वानरों के झुण्ड आ गए। अनेक रंग के वानरों के दल सब दिशाओ से दिखाई देने लगे।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

शिव जी कहते है कि हे उमा! वानरों की सेना मैंने देखी थी। उसकी जो गिनती करना चाहे वह महामूर्ख है। सब वानर आकर श्री राम जी के चरणों में मस्तक नवाते है और निधि श्री राम जी के श्री मुख का दर्शन करके कृतार्थ होते है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Rajiv Dixit Chiktsa Ayurveda Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!