Advertisements

पुराण संहिता Pdf / Purana Samhita PDF In Hindi

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Purana Samhita PDF In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Purana Samhita PDF In Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Teen Paheliya Pdf Download कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Purana Samhita PDF In Hindi

 

पुस्तक का नाम  Purana Samhita PDF In Hindi
पुस्तक के लेखक  कृष्ण प्रियाचार्य 
भाषा  हिंदी 
साइज  83.5 Mb 
पृष्ठ  341 
श्रेणी  धार्मिक 
फॉर्मेट  Pdf 

 

 

पुराण संहिता Pdf Download

 

 

Advertisements
Purana Samhita PDF In Hindi
Purana Samhita PDF In Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Purana Samhita PDF In Hindi
भली लड़कियां बुरी लड़कियां नावेल Pdf Download
Advertisements

 

 

Advertisements
Purana Samhita PDF In Hindi
जागो पतलू प्यारे हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये

 

 

 

भगवान सुखद शब्दों का प्रयोग करते हैं, जबकि जानवर कठोर शब्दों का प्रयोग करते हैं। राजा को चाहिए कि वह ईश्वर के समान मधुर वचनों का प्रयोग करे। और उसे न केवल उनके लिए जो उसके मित्र हैं या अच्छे हैं, बल्कि उनके लिए भी जो उसके शत्रु हैं या बुरे हैं, उसके लिए सुखद शब्दों का प्रयोग करना चाहिए।

 

 

 

राजा अपने गुरु को प्रणाम करता है, अच्छे व्यवहार से धर्मी, कर्तव्यों से देवता, प्रेम से सेवकों को और भिक्षा से जो नीच हैं। राज्य के सात घटक हैं। ये राजा, मंत्री, मित्र, कोष, सेना, किले और राज्य ही हैं। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण राज्य है और इसे हर कीमत पर संरक्षित किया जाना है।

 

 

 

राजा को मंत्रियों और शाही पुजारी के चुनाव में बेहद सावधान रहना चाहिए। राजा को मूर्ख मंत्रियों को नहीं चुनना चाहिए या उनसे परामर्श नहीं करना चाहिए। राजा के लक्षण उसकी सोने की छड़ी या राजदंड और उसके सिर पर एक छाता है।

 

 

 

छतरी हंस, मोर या सारस के पंखों से बनानी चाहिए, लेकिन एक ही छत्र में विभिन्न प्रकार के पक्षियों के पंख नहीं मिलाने चाहिए। सिंहासन लकड़ी का बना होना चाहिए और सोने से अलंकृत होना चाहिए। धनुष लोहे, सींग या लकड़ी से बना हो सकता है।

 

 

 

सबसे अच्छा धनु वह है जो चार भुजाओं की लंबाई बढ़ाता है। राजा एक वर्ष तक के कर राजस्व को हथियारों और झंडों पर खर्च कर सकता है। धनुर्वेद पर खंड शस्त्र और शस्त्र पर है। युद्ध में पांच प्रकार के शस्त्रों का प्रयोग किया जाता है। पहली श्रेणी है।

 

 

 

यंत्रमुक्त हथियार, जो एक मशीन से छोड़ा जाता है। यह मशीन अलांचर या धनुष भी हो सकती है। दूसरी श्रेणी पानमुक्त हथियारों की है, जो हथियार हाथ से फेंके जाते हैं। उदाहरण भाले और पत्थर हैं। तीसरी श्रेणी मुक्तसंधारिता के नाम से जानी जाती है।

 

 

 

ये ऐसे हथियार हैं जिन्हें फेंका जा सकता है और वापस भी लिया जा सकता है। चौथी श्रेणी में तलवार जैसे हथियार शामिल हैं जो युद्ध के दौरान हाथ से कभी नहीं निकलते हैं। इन्हें अमुक्त हथियार के रूप में जाना जाता है। और हथियारों की अंतिम श्रेणी में क्रूर बल और ताकत होती है।

 

 

 

कुश्ती के मुकाबलों में इसका उपयोग होता है। लड़ाई का सबसे अच्छा तरीका है धनु से। इसके बाद भाले से लड़ना आता है, उसके बाद से लड़ना। कुश्ती लड़ाई का सबसे खराब रूप है। निशाना लगाने से पहले, धनु को पृथ्वी की ओर इशारा करते हुए आर्च के साथ रखना चाहिए।

 

 

 

वाना को नीचे की ओर सिर करके धनु के खिलाफ रखा जाना चाहिए। अब धनुष को ऊपर उठा लेना चाहिए और धनु का निचला सिरा धनुर्धर की नाभि के अनुरूप होना चाहिए। तरकश सबसे पीछे होना चाहिए। धनु को बाएँ हाथ से और बाण को दाहिने हाथ की उँगलियों से स्थिर रखना चाहिए।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Purana Samhita PDF In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Purana Samhita PDF In Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!