Advertisements

Novel in Hindi Pdf Free Download / हिंदी नोवेल्स फ्री डाउनलोड

Advertisements

मित्रों इस पोस्ट में Novel in Hindi Pdf Free दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से Novel in Hindi Pdf Free Download  कर सकते हैं और आप यहां से अजातशत्रु Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

रोज नए Hindi उपन्यास Pdf  और Hindi कहानी Pdf के लिए मेरे टेलीग्राम चॅनेल Pdf Books Hindi Telegram को जरूर ज्वाइन करें और मेरे फेसबुक पेज Pdf Books Hindi Facebook को ज्वाइन करें।

 

 

 

Novel in Hindi Pdf Free Download

 

 

 

 

 

 

Advertisements
Novel in Hindi Pdf Free
लव स्टोरी उपन्यास Pdf Download
Advertisements

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
एक प्रेम कहानी मेरी भी Novel Pdf Download
Advertisements

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
I Love You Novel Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
the girl in room 105 Hindi pdf free download
Advertisements

 

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
Anupama Ganguli ka Chautha Pyar pdf Download 
Advertisements

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
Devdas novel in Hindi pdf Download
Advertisements

 

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
कुल्हड़ भर इश्क़ उपन्यास Pdf Download
Advertisements

 

 

Novel in Hindi Pdf Free
ओथेलो बुक्स फ्री डाउनलोड
Advertisements

 

 

 

1- एक लड़का और एक लड़की की कहानी 

 

2- अनकहे अहसास 

 

3- अपना – अपना मरुथल 

 

4- अनुभूति के क्षण 

 

5- अपराधिनी 

 

6- आँगन के गुलाब 

 

7- एक लड़की फूल एक लड़की कांटा 

 

8- चारुचित्रा

 

9- चुटकी भर चांदनी 

 

10- गाँव की बेटी 

 

11- चोर की प्रेमिका 

 

 

 

Kapalkundala Pdf Hindi Free बंकिम चंद्र चटर्जी बुक्स फ्री डाउनलोड

 

 

 

कपालकुंडाला पीडीएफ फ्री डाउनलोड करे।

 

 

 

गीता सार सिर्फ पढ़ने के लिए 

 

 

 

अर्जुन कहता है – जो लोग कुल परंपरा को विनष्ट करते है और इस तरह से अवांछित सन्तानो को जन्म देते है। उनके दुष्कर्मो से समस्त प्रकार की सामुदायिक योजनाए तथा पारिवारिक कल्याण कार्य विनष्ट हो जाते है।

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – समाज के अनुत्तरदायी सदस्यों द्वारा समाज में अव्यवस्था का निर्माण हो जाता है और सनातन धर्म के परंपरा के विखंडन से उस समाज में अव्यवस्था फैलती है।

 

 

 

 

सनातन धर्म या वर्णाश्रम धर्म द्वारा निर्धारित मानव समाज के चारो वर्णो के लिए सामुदायिक योजनाए तथा पारिवारिक कल्याण कार्य इसलिए नियोजित होते है कि मनुष्य चरममोक्ष प्राप्त कर सके।

 

 

 

ऐसे अनुत्तरदायी सदस्य नायक अंधे कहलाते है और जो लोग इनका अनुगमन करते है वह निश्चय ही कुव्यवस्था की ओर अग्रसर होते है। जिसके फलस्वरूप जीवन के मूल उद्देश्य विष्णु को भूल जाते है।

 

 

 

 

43- आचार्यो का अनुगमन – अर्जुन कहता है – हे प्रजापालक कृष्ण ! मैंने गुरु परंपरा से सुना है जो लोग कुल धर्म का विनाश करते है वह सदैव नरक में वास करते है।

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – वर्णाश्रम धर्म की एक पद्धति के अनुसार मृत्यु के पूर्व मनुष्य को अपने पाप कर्मो के लिए प्रायश्चित करना पड़ता है। अर्जुन अपने तर्कों को अपने निजी अनुभव पर न आधारित करके आचार्यो से जो सुन रखा है उसपर आधारित करता है। वास्तविक ज्ञान प्राप्त करने की यही विधि है।

 

 

 

 

जिस व्यक्ति ने पहले से ज्ञान प्राप्त कर रखा है उस व्यक्ति की सहायता के बिना कोई भी वास्तविक ज्ञान तक नहीं पहुंच सकता है। जो लोग पापात्मा है उन्हें इस विधि का अवश्य ही उपयोग करना चाहिए। ऐसा किए बिना मनुष्य निश्चित ही नरक भेजा जाएगा। जहां उसे अपने पाप कर्मो के लिए कष्टमय जीवन व्यतीत करना होगा।

 

 

 

 

44- जघन्य पाप कर्म – अर्जुन कहता है, ओह ! कितने आश्चर्य की बात है हम सब जघन्य पाप कर्म करने के लिए उद्यत हो रहे है। राज्यसुख भोगने की इच्छा से प्रेरित होकर हम अपने ही संबंधियों को मारने पर तुले हुए है।

 

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – भगवान का साधु भक्त होने के कारण अर्जुन सदाचार के प्रति जागरूक है। अतः वह ऐसे कार्यो से बचने का प्रयत्न करता है। स्वार्थ वशीभूत होकर मनुष्य अपने सगे भाई बाप या मां के वध जैसे पाप कर्मो में प्रवृत्त हो सकता है। विश्व के इतिहास में ऐसे अनेक उदाहरण प्राप्त होते है।

 

 

 

 

45- अर्जुन का प्रतिरोध न करना (मोह में) – अर्जुन कहता है – यदि शस्त्रधारी धृतराष्ट्र के पुत्र मुझ निहत्थे तथा रणभूमि में प्रतिरोध न करने वाले को मारे तो यह मेरे लिए श्रेयस्कर होगा।

 

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – अर्जुन ने इसपर तनिक भी विचार नहीं किया कि दूसरा पक्ष (कौरव) युद्ध के लिए कितना उद्यत हो रहा है। क्षत्रियो के युद्ध नियमो के अनुसार ऐसी प्रथा है कि निहत्थे तथा विमुख शत्रु पर आक्रमण न किया जाय। किन्तु अर्जुन निश्चय कर चुका था कि शत्रु इस विषम अवस्था में उसपर आक्रमण करे लेकिन वह युद्ध नहीं करेगा। इन सब लक्षणों का कारण उसकी दयार्द्रता है जो भगवान के महान भक्तो में पायी जाती है।

 

 

 

 

46- अर्जुन का युद्ध भूमि में धनुष-बाण रख देना – संजय ने कहा – युद्ध भूमि में इस प्रकार कहकर अर्जुन ने अपना धनुष तथा बाण एक ओर रख दिया और शोक संतप्त चित्त से रथ के आसन पर बैठ गया।

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – अर्जुन शोक संतप्त होकर अपना धनुष तथा बाण एक ओर रखकर रथ के आसन पर पुनः बैठ गया। जबकि अपने शत्रु की स्थिति का अवलोकन करते समय अर्जुन रथ पर खड़ा हो गया था। ऐसा दयालु तथा कोमल हृदय व्यक्ति जो भगवान की सेवा में रत हो। आत्मज्ञान प्राप्त करने के सर्वथा योग्य है।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Novel in Hindi Pdf Free आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Novel in Hindi Pdf Free की तरह की बुक्स के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को जरूर लाइक करें, वहाँ से आपको नयी बुक्स, नोवेल्स की जानकारी मिलती रहेगी।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!