Advertisements

Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf / अंधेरे का अपराध Pdf

Advertisements

मित्रों इस पोस्ट में Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf दिया गया है। आप नीचे की लिंक से Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Rajvansh Novel in Hindi Pdf कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf Download

 

 

 

Advertisements
Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf
अँधेरे का अपराध हिंदी नॉवेल यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Parshuram Sharma Novels Pdf Hindi
नागराज हिंदी नॉवेल यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Rajhans Novel in Hindi Pdf
दिल आशनां है हिंदी नॉवेल यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Horror Novel in Hindi Pdf
अनहोनी उपन्यास यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

मिलन बोला – मैं आज उससे बात करना भूल गया क्योंकि चारपाई पर जाते ही मुझे झपकी आ गयी? अदृश्य आवाज में सुमन बोली – तुम्हे जब झपकी आयी तो हमने भी सोचा थोड़ा मनरोंजन कर लिया जाय। मिलन बोला – यह सब तुम्हारा कार्य था।

 

 

 

 

अदृश्य आवाज में सुमन बोली – हां यह सब मेरा ही कार्य था। मिलन बोला – अब मैं अवश्य ही इस मटके को तोड़ दूंगा। मटका नहीं रहेगा तब तुम हमारे ही रहोगी। अदृश्य आवाज में सुमन बोली – ऐसी गलती मत करना। तुम अगर इस मटके को तोड़ दोगे तब हमे किसी भी प्रकार से हासिल नहीं कर पाओगे और हमारी सहायता से भी वंचित हो जाओगे।

 

 

 

 

फिर से पहले वाली स्थिति में आ जाओगे। मिलन बोला – मैं तुम्हे देखना चाहता हूँ सुमन। सुमन बोली – हर कार्य अपने समय पर ही पूर्ण होता है और समय से पहले तुम्हारी यह अभिलाषा पूर्ण भी नहीं होगी तथा समय आने पर बिना प्रयास के तुम मुझे देख सकोगे।

 

 

 

 

मिलन का क्रोध शांत हो गया था। उसने डंडा कोने में रख दिया और बोला – मैं जब तक तुमसे बात नहीं करता हूँ मुझे संतुष्टि नहीं प्राप्त होती है। अदृश्य आवाज में सुमन बोली – इन सब बातो को छोड़ो मैं तुम्हे एक बात बताने जा रही हूँ उसे ध्यान से सुनो और हमारे कहने के अनुसार ही तुम्हारी ख्याति चारो तरफ फ़ैल जाएगी।

 

 

 

 

अदृश्य आवाज में सुमन बोली – जब पिता जी कल राजा के दरबार में जायेंगे तो उनसे कह देना कि राजा जयंत और उनके राज्य के सभी नागरिको को अपने यहां भोजन करने का निमंत्रण देकर आये। मिलन बोला – लेकिन सुमन! उतने बड़े राज्य के राजा और उनके नागरिको के लिए भोजन और सम्मान की व्यवस्था करना क्या हमारे लिए संभव हो सकता है?

 

 

 

 

सुमन बोली – फिर यह मटके वाली परी किस लिए है क्या तुम्हे हमारे ऊपर विश्वास नहीं है? मिलन उस अदृश्य आवाज से बोला – तुम्हारे ऊपर मुझे पूर्ण विश्वास है और तुम्हारी सहायता से हमारे लिए सब कुछ संभव है। अदृश्य सुमन बोली – अब सो जाओ रात्रि बहुत हो चुकी है।

 

 

 

 

मिलन नींद के आगोश में जाने का प्रयास करने लगा। सुबह हो गयी थी। हरी प्रजापति राज्य में जाने की तैयारी कर रहे थे। मिलन अभी तक नींद में ही था तभी उसे लगा कोई उसके शरीर को जगाने का प्रयास कर रहा है। उसकी नींद खुल गयी।

 

 

 

 

उसने देखा कि मटके से दो हाथ निकलकर उसके शरीर को हिला रहे है। मिलन ने उन दोनो हाथो को अपने हाथ से कसकर पकड़ लिया तभी मटके से खिलखिलाती हुई आवाज आयी मिलन तुम व्यर्थ ही प्रयास कर रहे हो मैं सदैव तुम्हारे आस-पास ही रहती हूँ।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Niranjan Choudhary Novels In Hindi Pdf Download की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!