Advertisements

नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन चरित्र Pdf / Napoleon Bonapart Biogaphy PDF

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Napoleon Bonapart Biogaphy PDF देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Napoleon Bonapart Biogaphy PDF download कर सकते हैं और आप यहां से Shambar Kanya PDF कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Napoleon Bonapart Biogaphy PDF

 

 

पुस्तक का नाम  Napoleon Bonapart Biogaphy PDF
पुस्तक के लेखक  मुंशीराम 
भाषा  हिंदी 
साइज  20.2 Mb 
पृष्ठ  257 
श्रेणी  आत्मकथा 
फॉर्मेट  Pdf 

 

 

 

नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन चरित्र Pdf Download

 

 

Advertisements
Napoleon Bonapart Biogaphy PDF
Napoleon Bonapart Biogaphy PDF Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Napoleon Bonapart Biogaphy PDF
पिंजर उपन्यास पीडीएफ डाउनलोड 
Advertisements

 

 

Advertisements
Napoleon Bonapart Biogaphy PDF
विनाशकारी प्रलय उपन्यास Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

उन्होंने कहा। “शुक्राचार्य का यह कौन सा श्राप है जिसका ययाति ने उल्लेख किया है? आप हमें इसके बारे में बताना भूल गए हैं।” “मैं करूंगा,” लोमहर्षण ने उत्तर दिया। “लेकिन पहले, मैं आपको कच और देवयानी के बारे में बता दूं।” देवता और दैत्य सदैव आपस में लड़ते रहते थे।

 

 

 

जैसा कि आप जानते हैं, बृहस्पति देवताओं के उपदेशक थे और शुक्राचार्य राक्षसों के उपदेशक थे। शुक्राचार्य मृतसंजीवनी के नाम से जानी जाने वाली एक अद्भुत कला जानते थे। यह मृत लोगों को फिर से जीवित करने का ज्ञान था। हरिवंश हमें बताता है कि शुक्राचार्य ने शिव से प्रार्थना करके और उन्हें प्रसन्न करके यह कला सीखी थी।

 

 

 

मत्स्य पुराण इस कहानी को बाद में संदर्भित करता है। चूंकि शुक्राचार्य इस कला को जानते थे, देवता एक भयानक स्थिति में थे। जिन राक्षसों को देवताओं ने मार डाला था, उन्हें शुक्राचार्य ने तुरंत जीवित कर दिया था। लेकिन बृहस्पति ऐसी कोई कला नहीं जानता था।

 

 

 

तो कोई भी देवता जिसे राक्षसों ने मार डाला, वह मर गया। देवताओं ने इस समस्या के बारे में सोचा और अंत में एक समाधान पर पहुंचे। बृहस्पति के कच नाम का एक पुत्र था। देवताओं ने कच को बताया। “जाओ और शुक्राचार्य के शिष्य बनो।

 

 

 

उनसे मृत्युसंजीवनी की कला सीखने की कोशिश करो। शुक्राचार्य की देवयानी नाम की एक सुंदर बेटी है। उसके पक्ष में प्रयास करें ताकि आपका काम आसान हो सके।” कचा शुक्राचार्य के पास गया। “कृपया मुझे अपने शिष्य के रूप में स्वीकार करें,” उन्होंने कहा, “मैं महान बृहस्पति का पुत्र हूं।

 

 

 

मैं एक हजार साल तक ईमानदारी से आपकी सेवा करूंगा।” चूंकि मृत्युसंजीवनी का कोई उल्लेख नहीं किया गया था, शुक्राचार्य इस प्रस्ताव पर सहर्ष सहमत हो गए। कच शुक्राचार्य के साथ रहता था और अपने गुरु की सेवा करता था। देवयानी से उसकी दोस्ती हो गई और देवयानी को कच से प्यार हो गया।

 

 

 

पांच सौ साल बीत गए। राक्षसों को पता चला कि कच बृहस्पति के पुत्र थे। चूँकि वे बृहस्पति से घृणा करते थे, वे कच से भी घृणा करते थे। कच को शुक्राचार्य के मवेशियों को चराने के लिए जंगल में ले जाने की आदत थी। जब कचा जंगल में अकेला था, तो राक्षसों ने उनके मौके का फायदा उठाया।

 

 

 

उन्होंने कचा को मार डाला और उसके शरीर को बाघों को खिलाया। शाम को, मवेशी अकेले घर लौट आए। कच्छ उनके साथ नहीं था। यह देखकर, देवयानी ने अपने पिता से कहा, “पशु बिना कच के घर लौट आए हैं। मुझे यकीन है कि किसी ने उसे मार डाला है।

 

 

 

मैं कच से प्यार करता हूं और उसके बिना जीवित नहीं रह सकता। कृपया कुछ करें।” “चिंता मत करो,” शुक्राचार्य ने देवयानी से कहा। “मृत्सानीजीवनी की कला से मैं कच को जीवन में वापस लाऊंगा।” जैसे ही शुक्राचार्य ने जादुई मंत्र का पाठ किया, कच उनके सामने प्रकट हुआ, स्वस्थ और हार्दिक।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Napoleon Bonapart Biogaphy PDF आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Napoleon Bonapart Biogaphy PDF की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!