Advertisements

मृत्युंजय बुक Pdf / Mrityunjay Book Pdf in Hindi

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Mrityunjay Book Pdf in Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Mrityunjay Book Pdf in Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Vairagya Shatak Pdf कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Mrityunjay Book Pdf in Hindi

 

 

Advertisements
Mrityunjay Book Pdf in Hindi
Mrityunjay Book Pdf in Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Mrityunjay Book Pdf in Hindi
कृष्ण कुंजी नावेल Pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Mrityunjay Book Pdf in Hindi
बिल्लू और फिल्म की हीरोइन हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये

 

 

5. डॉ राजेंद्र प्रसाद अपने जीवन का आखिरी समय कहां बिताया ? मृत्यु कब हुई?

उत्तर – डॉ राजेंद्र प्रसाद अपने जीवन के आखिरी महीने बिताने के लिए उन्होंने पटना के निकट सदाकत आश्रम चुना। यहां पर 28 फरवरी 1963 में उनके जीवन की कहानी समाप्त हुई। हमको इन पर गर्व है और यह सदा राष्ट्र को प्रेरणा देते रहेंगे। बहुत-बहुत धन्यवाद अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और अपने दोस्तों में जानकारी को शेयर करें।

 

 

 

6. डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्म कब और कहां हुआ था ?

उत्तर – डॉ. राजेंद्र प्रसाद का जन्म 1884 ई० में बिहार राज्य के छपरा जिले के जीरादेई नामक स्थान पर हुआ था।

 

 

 

7. डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का पूरा नाम क्या है?

उत्तर – डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का पूरा नाम डॉ राजेंद्र प्रसाद है। इनको लोग राजेंद्र बाबू नाम से पुकारते हैं।

 

 

 

8)डॉ राजेंद्र प्रसाद को नोबेल पुरस्कार कब मिला ?

उत्तर – डॉ राजेंद्र प्रसाद एक भारतीय चिकित्सक एवं वैज्ञानिक है, खासकर छह रोग के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए जाना जाता है। वर्ष 2016 में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा डॉक्टर बी सी राय राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

 

 

 

9. डॉ राजेंद्र प्रसाद की मृत्यु कब हुई?

उत्तर – डॉ राजेंद्र प्रसाद जी का देहावसान 28 फरवरी, 1963 में हो गया।

 

 

 

10. डॉ राजेंद्र प्रसाद की पत्नी का क्या नाम था ?

उत्तर – डॉ राजेंद्र प्रसाद की पत्नी का नाम राजवंशी देवी था।

 

 

 

स्वामी विवेकानंद भारतीय वैदिक सनातन संस्कृति की जीवंत प्रतिमूर्ति थे. जिन्होंने संपूर्ण विश्व को भारत की संस्कृति, धर्म के मूल आधार और नैतिक मूल्यों से परिचय कराया. स्वामी जी वेद, साहित्य और इतिहास की विधा में निपुण थे. स्वामी विवेकानंद को सयुंक्त राज्य अमेरिका और यूरोप में हिन्दू आध्यात्मिक ज्ञान का प्रचार प्रसार किया।

 

 

 

उनका जन्म कलकत्ता के के उच्च कुलीन परिवार में हुआ था. उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था. युवावस्था में वह गुरु रामकृष्ण परमहंस के संपर्क में आये और उनका झुकाव सनातन धर्म की और बढ़ने लगा. गुरु रामकृष्ण परमहंस से मिलने के पहले वह एक आम इंसान की तरह अपना साधारण जीवन व्यतीत कर रहे थे।

 

 

 

गुरूजी ने उनके अन्दर की ज्ञान की ज्योति जलाने का काम किया. उन्हें 1893 में शिकागो में आयोजित विश्व धर्म महासभा में दिए गए अपने भाषण के लिए जाना जाता हैं. उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत “मेरे अमरीकी भाइयो एवं बहनों” कहकर की थी।

 

 

 

स्वामी विवेकानंद की अमेरिका यात्रा से पहले भारत को दासो और अज्ञान लोगों की जगह माना जाता था. स्वामी जी ने दुनिया को भारत के आध्यात्मिकता से परिपूर्ण वेदान्त दर्शन कराये। स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता के गौरमोहन मुखर्जी स्ट्रीट में हुआ. स्वामी जी के बचपन का नाम नरेन्द्र दास दत्त था. वह कलकत्ता के एक उच्च कुलीन परिवार के सम्बन्ध रखते थे. इनके पिता विश्वनाथ दत्त एक नामी और सफल वकील थे।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Mrityunjay Book Pdf in Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Mrityunjay Book Pdf in Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!