Advertisements

Mental health Books pdf in Hindi / मानसिक चिकित्सा बुक्स Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Mental health Books pdf in Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Mental health Books pdf in Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Indrajal Comics Pdf in Hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

Mental health Books pdf in Hindi Download

 

 

पुस्तक का नाम  Mental health Books pdf in Hindi
पुस्तक के लेखक  लालजीराम शुक्ल 
फॉर्मेट  Pdf 
भाषा  हिंदी 
साइज  58.9 Mb 
पृष्ठ  445 
श्रेणी  मनोवैज्ञानिक 

 

 

 

Advertisements
Mental health Books pdf in Hindi
Mental health Books pdf in Hindi यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Mental health Books pdf in Hindi
Manifestation Books PDF in Hindi यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Mental health Books pdf in Hindi
Warren Buffett Books in Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

वे इस तरह खड़े या बैठे रह गए मानो उनपर विशेष मोह छा गया हो। भृगु के मंत्र बल से भाग जाने के कारण जो वीर शिवगण नष्ट होने से बच गए थे वे भगवान शिव की शरण में गए। उन सबने अमित तेजस्वी भगवान रूद्र को भली-भांति सादर प्रणाम करके वहां यज्ञ में जो कुछ हुआ था वह सारी घटना उनसे कह सुनाई।

 

 

 

 

गण बोले – महेश्वर! दक्ष बड़ा दुरात्मा और घमंडी है। उसने वहां जाने पर सती देवी का अपमान किया और देवताओ ने भी उनका आदर नहीं किया। अत्यंत गर्व से भरे हुए उस दुष्ट दक्ष ने आपके लिए यज्ञ में भाग नहीं दिया। दूसरे देवताओ के लिए दिया और आपके विषय में उच्च स्वर से दुर्वचन कहे।

 

 

 

 

प्रभो! यज्ञ में आपका भाग न देखकर सती देवी कुपित हो उठी और पिता की बारंबार निंदा करके अपने शरीर को योगाग्निद्वारा जलाकर भस्म कर दिया। यह देख दस हजार से अधिक पार्षद लज्जावश वहां मर गए। शेष हम लोग दक्ष पर कुपित हो उठे और सबको भय पहुंचाते हुए वेग पूर्वक उस यज्ञ का विध्वंस करने को उद्यत हो गए।

 

 

 

 

परन्तु विरोधी भृगु ने अपने प्रभाव से हमे तिरस्कृत कर दिया। हम उनके मंत्र बल का सामना न कर सके। प्रभो! विश्वंभर! वे ही हम लोग आज आपकी शरण में आये है। दयालो! वहां प्राप्त हुए भय से आप ही हमे बचाइए। निर्भय कीजिये। महाप्रभो! उस यज्ञ में आदि सभी दुष्टो ने घमंड में आकर आपका विशेष रूप से अपमान किया है।

 

 

 

 

कल्याणकारी शिव! इस प्रकार हमने अपना सती देवी का और मूढ़ बुद्धि वाले दक्ष आदि का भी सारा वृतांत कह सुनाया। अब आपकी जैसी इच्छा हो वैसा करे। ब्रह्मा जी कहते है – नारद! अपने पार्षदों की यह बात सुनकर भगवान शिव ने वहां की सारी घटना जानने के लिए शीघ्र ही तुम्हारा स्मरण किया।

 

 

 

 

देवर्षे! तुम दिव्य दृष्टि से सम्पन्न हो। अतः भगवान के स्मरण करने पर तुरंत वहां आ पहुंचे और शंकर जी को भक्ति पूर्वक प्रणाम करके खड़े हो गए। स्वामी शिव ने तुम्हारी प्रशंसा करके तुमसे दक्ष यज्ञ में गयी हुई सती का समाचार तथा दूसरी घटनाओ को पूछा।

 

 

 

 

तात! शंभु के पूछने पर शिव में मन लगाए रखने वाले तुमने शीघ्र ही वह सारा वृतांत कह सुनाया जो दक्ष यज्ञ में घटित हुआ था। मुने! तुम्हारे मुख से निकली हुई बात सुनकर उस समय महान रौद्र पराक्रम से सम्पन्न सर्वेश्वर रूद्र ने तुरंत ही बड़ा भारी क्रोध प्रकट किया।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Mental health Books pdf in Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Billu Mental health Books pdf in Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!