Advertisements

Mantra Yoga Pdf / मंत्र योग पीडीएफ डाउनलोड

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Mantra Yoga Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Mantra Yoga Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से योगिनी तंत्र Pdf भी पढ़ सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Mantra Yoga Pdf / मंत्र योग Pdf

 

 

योग वशिष्ठ Pdf फ्री डाउनलोड करें। 

 

Advertisements
Mantra Yoga Pdf
Mantra Yoga Pdf
Advertisements

 

मंत्र योग Pdf Download

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

जो बड़े ही विकट योद्धा थे और जो युद्ध में किसी को कुछ भी नहीं गिनते थे। उन मारीच और सुबाहु को सहायको के साथ तुमने कैसे मारा?

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- हे तात! मैं बलैया लेती हूँ। मुनि की कृपा से ही ईश्वर ने तुम्हारी बहुत सी बलाओ को टाल दिया। दोनों भाइयो ने यज्ञ की रखवाली करके गुरु जी के प्रसाद से सब प्रकार विद्याये पायी। .

 

 

 

2- चरणों की धूलि लगते ही मुनि की पत्नी अहल्या तर गई। यह कीर्ति विश्वभर में व्याप्त हो गई। कच्छप की पीठ, वज्र और पर्वत से भी कठोर जो शिव जी का धनु था सारे राजाओ से भरे हुए समाज में उसे भी तुमने ही तोड़ दिया।

 

 

 

3- विश्व विजय के यश और जानकी को प्राप्त किया और सब भाइयो को ब्याह कर घर आये, तुम्हारे सभी कार्य मनुष्य की शक्ति के बाहर (अमानुषी) है जो केवल विश्वामित्र जी की कृपा से ही सम्पन्न हुए ‘सुधरे’ है।

 

 

 

 

4- हे तात! तुम्हारा यह चन्द्रमुख देखकर आज हमारा जगत में जन्म लेना सफल हुआ। जो दिन तुम्हे देखे ही बीत गए उनको ब्रह्मा हमारी आयु में शामिल न करे और गिनती में न लावे।

 

 

 

ऐसे सुंदर और उत्तम बंदनवार बनाए मानो स्वयं कामदेव ने आकर ही फंदे सजाये है। अनेको मंगल-कलश और सुंदर ध्वजा, पताका, परदे और चंवर बनाये गए है।

 

 

 

2- जिसमे मणियों के अनेक सुंदर दीपक है, वह विचित्र मंडप तो अवर्णनीय है और उसका तो वर्णन ही नहीं किया जा सकता है। जिस मंडप में जानकी जी दुलहिन होंगी, किस कवि की बुद्धि ऐसी है जो उस मंडप का वर्णन कर सके।

 

 

 

 

3- जिस मंडप में रूप और गुण के समुद्र श्री राम जी दूल्हे होंगे, तो उस मंडप को तीनो लोको और चौदहो भुवन में प्रसिद्ध होना ही चाहिए, जनक जी के महल की शोभा के जैसी ही नगर के प्रत्येक घर की शोभा दिखाई दे रही है।

 

 

 

4- उस समय जिसने भी तिरहुत को देखा, उसे चौदह भुवन बहुत ही तुच्छ जान पड़े। जनक पुर में तुच्छ मनुष्य के घर जो सम्पदा उस समय सुशोभित थी उसे देखकर इंद्र भी मोहित हो जाता था।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Mantra Yoga Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!