Lord Vishnu 108 Names pdf in Hindi / लार्ड विष्णु 108 नाम पीडीऍफ़

मित्रों इस पोस्ट में Lord Vishnu 108 Names दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से Lord Vishnu 108 Names Download कर सकते हैं।

 

 

 

 

Lord Vishnu 108 Names  भगवान विष्णु के 108 नाम 

 

 

 

 

 

 

 

भगवान विष्णु  के 108 नाम 

 

 

1. नारायण – ईश्वर             

 

2. क्षेत्रज्ञ – क्षेत्र के ज्ञाता         

 

3. मुक्तानां परमागति – मोक्ष प्रदान करने वाले          

 

4. भूतभावन – ब्रह्माण्ड के सभी प्राणियों का पोषण करने वाले         

 

5. पूतात्मा – शुद्ध छवि वाले प्रभु            

 

6. वषट्कार – यज्ञ से प्रसन्न होने वाले           

 

7. विष्णु – हर जगह विराजमान रहने वाले        

 

8. भूतभृत – सभी प्राणियों का पोषण करने वाले   

 

9. भूतकृत – सभी प्राणियों के रचयिता          

 

10. भाव – सम्पूर्ण अस्तित्व वाले          

 

11. भूतात्मा – ब्रह्माण्ड के सभी प्राणियों की आत्मा में वास करने वाले         

 

12. साक्षी – ब्रह्माण्ड के सभी घटनाओ के साक्षी         

 

13. पुरुष – हर जन में वास करने वाले          

 

14. परमात्मा – श्रेष्ठ आत्मा            

 

15. अव्यय: – हमेशा एक रहने वाले           

 

16. भूतभव्यभवत्प्रभु – वर्तमान और भविष्य के स्वामी      

 

17. प्रभु – सर्वशक्तिमान प्रभु            

 

18. योगाविंदां नेता – सभी योगियों का स्वामी        

 

19. संभव – सभी घटनाओ के स्वामी    

 

20. प्रभव – सभी चीजों में उपस्थित होने वाले          

 

21. योग – श्रेष्ठ योगी            

 

22. गरुड़ध्वज – गरुड़ पर सवार होने वाले         

 

23. भावन – भक्तो को सब कुछ देने वाले      

 

24. भूतादि – सभी को जीवन देने वाले         

 

25. पुरुषोत्तम – श्रेष्ठ पुरुष          

 

26. श्रीमान – देवी लक्ष्मी के साथ रहने वाले        

 

27. भर्ता – सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के संचालक          

 

28. निधिरव्यय – अमूल्य धन के समान        

 

29. प्रधानपुरुषेश्वर – प्रकृति एवं प्राणियों के भगवान         

 

30. नारसिंहवपुषः – नरसिंह रूप धारण करने वाले           

 

31. केशव – सुंदर बाल वाले         

 

32. स्थाणु – स्थिर रहने वाले       

 

33. सर्व – जिसमे सब चीजे समाहित हो            

 

34. शिव – सदैव शुद्ध रहने वाले          

 

35. शर्व – बाढ़ में सब कुछ नाश करने वाले           

 

36. स्थविष्ठ – मुख्य               

 

37. हृषिकेशा – सभी इद्रियों के स्वामी          

 

38. विधाता – सभी कार्यो की रचना करने वाले         

 

39. त्वष्टा – बड़े को छोटा करने वाले       

 

40. धातुरुत्तम – ब्रह्मा से भी महान          

 

41. ईश्वर – पूरे ब्रह्माण्ड पर अधिपति  

 

42. विश्वकर्मा – ब्रह्माण्ड के रचयिता      

 

43. पद्मनाभ – जिनके पेट से ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति हुई           

 

44. मनु – सभी विचार के दाता         

 

45. अमरप्रभु – अमर रहने वाले          

 

46. महास्वण – वज्र की तरह स्वर वाले         

 

47. अप्रेमय – परिभाषाओ से परे          

 

48. धाता – सभी का समर्थन करने वाले       

 

49. स्वयंभू – स्वयं प्रकट होने वाले            

 

50. अनादिनिधन – जिनका ना आदि है ना ही अंत     

 

51. पुष्कराक्ष – कमल जैसे नयन वाले            

 

52. आदित्य – देवी अदिति के पुत्र       

 

53. शम्भु – खुशियां देने वाले            

 

54. माधव – देवी लक्ष्मी के पति           

 

55. कृष्ण – काले रंग वाले         

 

56. त्रिककुबधाम – सभी दिशाओ के भगवान          

 

57. हिरण्यगर्भ – विश्व के गर्भ में वास करने वाले         

 

58. श्रेष्ठ – सबसे महान         

 

59. प्राणद – प्राण देने वाले         

 

60. ईशान – हर जगह वास करने वाले          

 

61. शाश्वत – हमेशा अवशेष छोड़ने वाले       

 

62. प्राण – जीवन के स्वामी         

 

63. प्रजापति – सभी के मुख्य         

 

64. लोहिताक्ष – लाल आंखो वाले         

 

65. प्रभूत – ज्ञान के दाता        

 

66. अग्राह्य – मांसाहार का त्याग करने वाले      

 

67. पवित्रां – हृदय पवित्र करने वाले          

 

68. ज्येष्ठ – सबसे बड़े प्रभु          

 

69. मंगलपरम – श्रेष्ठ कल्याणकारी        

 

70. प्राणद – प्राण देने वाले           

 

71. स्थविरो ध्रुव – प्राचीन देवता        

 

72. भूगर्भ – खुद के भीतर पृथ्वी का वहन करने वाले          

 

73. अह्र – दिन की तरह चमकने वाले           

 

74. विक्रम – ब्रह्माण्ड को मापने वाले       

 

75. सुरेश – देवो के देव        

 

76. विश्वरेता – ब्रह्माण्ड के रचयिता         

 

77. कृतज्ञ – अच्छाई बुराई का ज्ञान देने वाले     

 

78. प्रजाभव – भक्तो के अस्तित्व के लिए अवतार लेने वाले         

 

79.कृति – कर्मो का फल देने वाले            

 

80. शरणम – शरण देने वाले         

 

81.आत्मवान – सभी मनुष्य में वास करने वाले        

 

82. अनुत्तम – श्रेष्ठ ईश्वर      

 

83. मधुसूदन – रक्षक मधु के विनाशक         

 

84. मेधावी – सर्वज्ञाता        

 

85. ईश्वर – सबको नियंत्रित करने वाले           

 

86. क्रम – हर जगह वास करने वाले          

 

87. दुराधर्ष – सफलता पूर्वक हमला न करने वाले         

 

88. धन्वी – श्रेष्ठ धनुष धारी          

 

89. विक्रमी – सबसे साहसी भगवान          

 

90. सममित – सभी प्राणियों में असीमित रहने वाले       

 

91. वसु – सभी प्राणियों में रहने वाले    

 

92. सिद्ध – सब कुछ करने वाले           

 

93. सत्य – सत्य का समर्थन करने वाले          

 

94. सर्वेश्वर – सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के स्वामी      

 

95. अच्युत – कभी न चूकने वाले         

 

96. वृषाकपि – धर्म और वराह का अवतार लेने वाले          

 

97. व्याल – नाग द्वारा कभी न पकड़े जाने वाले        

 

98. सम्वत्सर – अवतार लेने वाले         

 

99. समात्मा – सभी के लिए एक जैसे          

 

100. वसुमना – सौम्य हृदय वाले                 

 

101. सर्वयोगविनि – सभी योगियों के स्वामी         

 

102. प्रत्यय – ज्ञान का अवतार कहे जाने वाले           

 

103. सर्वादि – सभी क्रियाओ के प्राथमिक कारण        

 

104. अमेयात्मा – जिनका कोई आकार नहीं है।           

 

105. सिद्धि – कार्यो के प्रभाव देने वाले         

 

106. अज – जिनका जन्म नहीं हुआ           

 

107. सर्वदर्शन – सब कुछ देखने वाले         

 

108. शम्भु – खुशियां देने वाले            

 

 

 

Lord Vishnu 108 Names

 

 

Lord Vishnu 108 Names pdf Hindi

 

 

भगवान विष्णु के 108 नाम यहाँ से डाउनलोड करें। 

 

 

 

Lord Vishnu 108 Names In English

 

1. Narayan – Ishwar 

 

2. Kshetragy – Kshetr Ke Gyata 

 

3. Muktaanaan Paramaagati – Moksh Pradaan Karane Wale 

 

4. Bhutabhaawan – Brahmand Ke Sabhi Praaniyo Ka Poshan Karane Wale 

 

5. Putaatma – Shuddh Chhavi Wale Prabhu  

 

6. Wshtkaar – Yagy Se Prasann Hone Wale

 

7. Vishnu – Har Jagah Virajman Rahane Wale 

 

8. Bhutbhrit – Sabhi Praaniyo Ka Poshan Karane Wale 

 

9. Bhutkrit – Sabhi Praaniyo Ke Rachayita 

 

10. Bhaaw – Sampurn Astitw Wale 

 

11. Bhutaatma – Brahmand Ke Sabhi Praaniyo Waas Karane Wale 

 

12. Sakshi – Brahmand Ke Sabhi Ghatanaao Ke Sakshi

 

13. Purush – Har Jan Me Waas Karane Wale 

 

14. Parmaatma – Shreshth Aatma 

 

15. Avyayh – Hamesha Ek Rahane Wale 

 

16. Bhutabhavyabhawtprabhu – Wrtmaan Aur Bhawishy Ke Swami 

 

17. Prabhu – Sarwshaktimaan Prabhu 

 

18. Yogaavindaan Neta – Sabhi yogiyon ka Swami 

 

19. Sambhaw – Sabhi Ghatanao ke Swami 

 

20. Prabhaw – Sabhi Chijo Me Upasthit hone Hone Wale 

 

21. Yog – Shreshth Yogi 

 

22. garudadhwaj – Garud Par Sawaar Hone Wale 

 

23. Bhaawan – Bhakto Ko Sab Kuchh Dene Wale 

 

24. Bhutaadi – Sabhi Ko Jiwan Dene Wale 

 

25. Purushottam – Shreshth Purush 

 

26. Shrimaan – Devi Lakshmi Ke Saath Rahane Wale 

 

27. Bhartaa – Sampurn Brahmand Ke Sanchaalak

 

28. Nidhiravyay – Amuly Dhan ke Samaan

 

29. Pradhaanapurusheshwar – Prakriti Evan Praaniyo Ke Swami  

 

30. Naarasinghawapushah – Narasingh Rup Dhaaran Karane Wale  

 

31. Keshav – Sundar Baal Wale  

 

32. Sthaanu – Sthir Rahane Wale 

 

33. Sarw – Jisame Sab Chije Samaahit Ho 

 

34. Shiv – Sadaiw Shuddh Rahane Wale 

 

35. Sharw – Baadh Me Sab Kuchh Naash Karane Wale 

 

36. Sthavishth – Mukhya 

 

37. Hrishikeshaa – Sabhi Indriyo Ke Swami 

 

38. Vidhata – Sabhi Karyo Ki Rachana Karane Wale 

 

39. Twashtaa – Bade Ko Chhota Karane wale 

 

40. Dhaaturuttam – Brahma Se Bhi Mahaan 

 

41. Ishwar – Pure Brahmand Par Adhipati 

 

42. Vishwakrma – Brahmand Ke Rachayita 

 

43. Padmanaabh – Jinake Pet Se Brahmand Ki Utpatti Hui 

 

44. Manu – Sabhi Vichar Ke Data 

 

45. Amarprabhu – Amar Rahane Wale 

 

46. Mhaaswan – Vajr Ki Tarah Swar Wale 

 

47. Apremay – Paribhashao Se Pare 

 

48. Dhaata – Sabhi Ka Samrthn Karane Wale 

 

49. Swaymbhu – Swayn Prakat Hone Wale 

 

 50. Anaadinidhan – Jinaka Na Aadi Hai Na Hi Ant 

 

51. Pusharaaksh – Kamal Jaise Nayan Wale 

 

52. Aaditya – Devi Aditi Ke Putra 

 

53. Shambhu – Khushiyan Dene Wale 

 

54. Maadhaw – Devi Lakshmi Ke Pati 

 

55. Krishn – Kaale Rang Wale 

 

56. Trikakubdhaam – Sabhi Dishaao Ke Bhagawan 

 

57. Hiranyagarbh – Vishw Ke Garbh Me Waas Karane Wale 

 

58. Shreshth – Sabase Mahaan 

 

59. Praanad – Praan Dene Wale 

 

60. Ishaan – Har Jagah Waas Karane Wale 

 

61. Shaashwat – Hameshaa Awshesh Chhodane Wale 

 

62. Praan – Jiwan Ke Swami 

 

63. Prjapati – Sabhi Ke Mukhya 

 

64. Lohitaaksh – Lal Aankho Wale 

 

65. Prabhut – Gyan Ke Data 

 

66. Agraahy – Mansahar Ka Tyag Karane Wale 

 

67. Pawitraan – Hriday Pawitr Karane Wale 

 

68. Jyeshth – Sabase Bade Prabhu 

 

69. Mangalaparam – Shreshth Kalyankari 

 

70. Praanad – Praan Dene Wale 

 

71. Sthaviro Dhruw – Praachin Dewta 

 

72. Bhugarbh – Khud Ke Bhitar Prithwi Ka Wahan Karane Wale 

 

73. Ahra – Din Ki Tarah Chamakne Wale

 

74. Vikram – Brhamand Ko Maapane Wale

 

75. Suresh – Devo Ke Dev

 

76. Vishareta – Brhamand Ke Rachayita 

 

77. Kritagy – Achhai Buraai Ka Gyan Dene Wale 

 

78. Prajabav – Bhakto Ke Astitw Ke Liye Awatar Lene Wale 

 

79. Kriti – Karmo Ka Fal Dene Wale 

 

80. Sharnam – Sharan Dene Wale 

 

81. Aatmawan – Sabhi Manushy Me Waas Karane Wale 

 

82. Anuttam – Shreshth Ishwar 

 

83. Madhusudan – Rakshak Madhu Ke Vinashak 

 

84. Medhawi – Sarwagyata 

 

85. Ishwar – Sabako Niyatrit Karane Wale 

 

86. Kram – Har Jagah Waas Karane Wale 

 

87. Duraadharsh – Safalata Purwak Hamala Na Karane Wale 

 

88. Dhanvi – Shreshth Dhanush Dhaari 

 

89. Vikrami – Sabase saahasi Bhagawan 

 

90. Samamit – Sabhi Praaniyo Me Asimiti Rahane Wale 

 

91. Wasu – Sabhi Praaniyo Me Rahane Wale 

 

92. Siddh – Sab Kuchh Karane Wale 

 

93. Saty – Saty Ka Samrthan Karane Wale 

 

94. Sarweshwar – Sampurn Brhamand Ke Swami 

 

95. Achyut – Kabhi Na Chukane Wale 

 

96. Vrishakapi – Dharm Aur Waraah Ka Awatar Lene Wale 

 

97. Vyaal – Naag Dwara Kabhi Na Pakade Jaane Wale 

 

98. Samwatsar – Awatar Lene Wale 

 

 99. Samaatma – Sabhi Ke Liye Ek Jaise 

 

100. Wasumana – Saumy Hriday Wale 

 

101. Sarwyogavini – Sabhi Yogiyo Ke Swami 

 

102. Pratyay – Gyan Ka Awatar Kahe Jaane Wale 

 

103. Srwaadi – Sabhi Kriyao Ke Praathamik Kaaran 

 

104. Ameyaatma – Jinaka Koi Aakar Nahi Hai 

 

105. Siddhi – Karyo Ke Prabhaw Dene Wale 

 

106. Aj – Jinaka janm Nahi Huaa

 

107. Sarwadarshan – Sab Kuchh Dekhane Wale 

 

108. 

 

 

गीता सार सिर्फ पढ़ने के लिए 

 

 

श्री कृष्ण कहते है – इस तरह से भगवद्भक्ति में लगे रहकर बड़े-बड़े ऋषि मुनि अथवा भक्तगण अपने आप को इस भौतिक संसार में कर्म के फलो से मुक्त कर लेते है। इस प्रकार से वह जन्म मृत्यु के चक्र से छूट जाते है और भगवान के पास जाकर उस अवस्था को प्राप्त करते है जो समस्त दुखो से परे है।

 

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – अज्ञान के वशीभूत होकर ही मनुष्य यह समझने में सफल नहीं होता कि यह भौतिक जगत ऐसा दुखमय स्थान है जहां पग-पग पर संकट है। केवल अल्पज्ञानी पुरुष ही यह सोचते है कि वह कर्मो के द्वारा ही सुखी रह सकते है। सकाम कर्म करते हुए स्थिति को सहन करते रहते है। संसार में सर्वत्र ही जीवन के दुख, जन्म, मरण, जरा, व्याधि विद्यमान है। अज्ञानी मनुष्यो को यह ज्ञात नहीं है कि इस संसार में कही भी कोई भी शरीर दुखो से रहित नहीं है।

 

 

 

 

अपने स्वरुप को जानने का अर्थ है कि भगवान की अलौकिक स्थिति एक समान है। ऐसे पुरुष अंधकार में रहते है और भगवद्भक्ति कदापि नहीं करते है या कि भगवद्भक्ति करने में असमर्थ है। किन्तु जो अपने वास्तविक स्वरुप को समझ लेता है इस प्रकार भगवान की स्थिति को समझ लेता है वही व्यक्ति भगवान की प्रेमाभक्ति में आसक्त होता है। अतः फलस्वरूप वह बैकुंठ जाने का अधिकारी बन जाता है। जहां न तो भौतिक कष्टमय जीवन है न ही काल का प्रभाव तथा मृत्यु है।

 

 

 

 

जो भगवान की भक्ति नहीं करता है या भगवद्भक्ति करने में असमर्थ है वह अंधकार में ही रहता है और ऐसा व्यक्ति अपने आप को प्रभु मान लेता है और इस तरह से वह जन्म मृत्यु का पथ स्वयं ही चुन लेता है। किन्तु जो यह समझते हुए कि उसकी स्थिति सेवक की है। अपने आप को भगवान की सेवा में लगा देता है वह तुरंत ही बैकुंठ ही बैकुंठ जाने का अधिकारी हो जाता है। भगवान की सेवा कर्मयोग या बुद्धियोग कहलाती है जिसे स्पष्ट शब्दों में भगवद्भक्ति कहते है।

 

 

 

मुक्त जीवो का संबंध उस स्थान से होता है जहां भौतिक कष्ट नहीं होते है। भागवत में (10. 14. 58) कहा गया है “जिसने उन भगवान के चरण कमल रूपी नाव को ग्रहण कर लिया है जो इस भौतिक दृश्य जगत के आश्रय है और मुकुंद नाम से विख्यात है अर्थात मुक्ति के दाता है। उसके लिए यह भवसागर गोखुर में समाए जल के समान है। उसका लक्ष्य तो परं पदम् है अर्थात वह स्थान जहां भौतिक कष्ट नहीं है या कि बैकुंठ है वह स्थान नहीं कि जहां पग-पग पर संकट व्याप्त है।”

 

 

 

 

 

इसे भी पढ़े ——> 1- Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Text / हनुमान चालीसा लिरिक्स हिंदी

 

 

इसे भी पढ़े ——>2- Shiv Chalisa PDF Free Download / शिव चालीसा PDF फ्री डाउनलोड करें।

 

 

इसे भी पढ़े ——>3- Yada Yada Hi Dharmasya Meaning in Hindi / यदा यदा ही धर्मस्य मीनिंग हिंदी

 

 

इसे भी पढ़े ——>4- Mahabharat in Hindi PDF Download / सम्पूर्ण महाभारत हिंदी डाउनलोड

 

 

 

Note- हम कॉपीराइट का पूरा सम्मान करते हैं। इस वेबसाइट Pdf Books Hindi द्वारा दी जा रही बुक्स, नोवेल्स इंटरनेट से ली गयी है। अतः आपसे निवेदन है कि अगर किसी भी बुक्स, नावेल के अधिकार क्षेत्र से या अन्य किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप हमें [email protected] पर सूचित करें। हम निश्चित ही उस बुक को हटा लेंगे। 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Lord Vishnu 108 Names आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें, वहाँ आपको नयी बुक्स, नावेल, कॉमिक्स की जानकारी मिलती रहेगी।

 

 

 

 

 

Leave a Comment