Advertisements

Law Books Pdf / पंचमुखी हनुमान कवच पीडीएफ डाउनलोड

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Law Books Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Law Books Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Advertisements
Law Books Pdf
यहां से लॉ बुक्स इन हिंदी Pdf Download करें।
Advertisements

 

 

 

 

पंचमुखी हनुमान कवच पीडीएफ
यहां से पंचमुखी हनुमान कवच पीडीएफ डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

 

भगवान शिव के 108 नाम Pdf
यहां से भगवान शिव के 108 नाम Pdf Download करें।
Advertisements

 

 

 

 

Charak Samhita Pdf
यहां से Charak Samhita Pdf Free Download करें।
Advertisements

 

 

 

हरिवंश पुराण पीडीएफ
यहां से हरिवंश पुराण पीडीएफ फ्री डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

 

प्रचंड क्रोध की ज्वाला से जलती हुई कैकेयी इस प्रकार से दिखाई पड़ी मानो क्रोध रूपी दावानल में राजा को भस्म कर देना चाहती है। कुबुद्धि रूपी क्रोध को निष्ठुरता रूपी ज्वाला से कुबड़ी रूपी लकड़ी के ईंधन से तीव्र की हुई आग है।

 

 

 

2- राजा ने देखा यह आग बड़ी भयानक है क्या यह सत्य ही मेरा जीवन लेगी? राजा अपनी छाती कड़ी करके बहुत ही नम्रता के साथ कैकेयी को प्रिय लगने वाली वाणी बोले।

 

 

 

3- हे प्रिये! हे भीरु! विश्वास और प्रेम को नष्ट करके ऐसे बुरे वचन किस तरह कह रही हो। मैं शंकर जी को साक्षी देकर कहता हूँ कि राम और भरत तो हमारी दोनों आंखो के समान है।

 

 

 

4- मैं अवश्य सबेरे दूत भेजूंगा। दोनों भाई भरत शत्रुघ्न सुनते ही तुरंत आ जायेंगे। अच्छा दिन और शुभ मुहूर्त देखकर सब तैयारी के साथ ही डंका बजाकर मैं भरत को राज्य दे दूंगा।

 

 

 

31- दोहा का अर्थ-

 

 

 

राम को राज्य का लोभ नहीं है और भरत पर उनका बड़ा प्रेम है। मैं ही अपने मन में बड़े छोटे का विचार करके राजनीती का पालन कर रहा था अर्थात बड़े राजतिलक देने जा रहा था।

 

 

 

मित्रों, यह पोस्ट Law Books Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!