Kung Fu Book in Hindi Pdf Free Download / कुंग फू बुक्स इन हिंदी पीडीएफ

मित्रों इस पोस्ट में Kung Fu Book in Hindi Pdf दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से कुंग फू बुक्स इन हिंदी पीडीएफ फ्री डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

Kung Fu Book in Hindi Pdf Free कुंग फू बुक्स इन हिंदी पीडीएफ 

 

 

 

 

 

 

कुंग फू बुक्स इन हिंदी पीडीएफ फ्री डाउनलोड करें।

 

 

 

हिम्मत हिंदी कहानी 

 

 

 

किसान अपने खेतों की जुताई कर रहा था। अचानक उसके बैल हल के साथ बहुत तेजी से दौड़ने लगे। यह देखकर किसान परेशान हो गया अगर वह हल छोड़ देता तो बैल के पैर में लगने का डर था हल नहीं छोड़ने पर बैल के साथ ही घिसटना पड़ता।

 

 

 

 

 

उसने तुरंत ही हल में बधी रस्सी जो बैलो के गले से सम्बद्ध थी उसे जोर से खींचा। बैल धीरे-धीरे स्वतः ही रुक गए। किसान को चोट तो बहुत ही लगी वह बहुत थक भी गया था और उसे खेत की जुताई भी करनी थी। अगर वह आराम करने लगता तब उसके बैल को आदत लग जाती वह उसे रोज ही परेशान करते।

 

 

 

 

 

इसलिए किसान ने हिम्मत दिखाई और खेत के कार्य में लग गया और उस दिन के बाद से बैल भी किसान को परेशान नहीं करते थे। शायद उन सबों को भी मालूम हो गया था कि यह कार्य करना ही होगा।

 

 

 

 

 

Moral Of This Story – किसान अपने आराम का ख्याल करता तब उसके बैल उसे प्रतिदिन परेशान करते जिससे उसका कार्य नहीं हो पाता। संकट की घड़ी में संयम और हिम्मत से कार्य करना चाहिए।

 

 

 

 

 

 

कभी दिखावा नहीं करना चाहिए 

 

 

 

 

 

२- एक युवक मैनेजमेंट की परीक्षा में सफल होता है और साक्षात्कार के बाद उसकी अच्छी कंपनी में नौकरी लग जाती है।  उसे काम करने के लिए कंपनी की तरफ से अलग से केबिन दी जाती है।

 

 

पहले दिन जब वह आफिस आता है और शानदार कुर्सी पर बैठकर अपनी ऑफिस को निहार रहा होता है तभी केबिन के दरवाजे पर किसी की दस्तक होती है।
वह देखता है कि दरवाजे पर एक साधारण व्यक्ति रहता है।  वह युवक उस व्यक्ति को अंदर बुलाने के बजाय उसे आधा घंटा बाहर बैठने के लिए कहता है।

आधा घंटा बीतने के बाद वह व्यक्ति पुनः अंदर आने की अनुमति मांगता है।  युवक उसे अनुमति तो दे देता है परन्तु उसके बाद वह फोन पर बात करने लगता है और काफी समय तक वह फोन पर बातें करता है और फोन पर बहुत डींगे हांकता है।

सामने वाला व्यक्ति आश्चर्य से उसकी और देखता है।  बात ख़त्म होने के बाद वह युवक उस व्यक्ति से पूछता है, ” तुम किसलिए यहां आये हो ? “
वह व्यक्ति विंनम्र भाव से बोला, ” साहब मैं टेलीफोन रिपेयर करने आया हूँ।  मुझे कहा गया था कि जिस फोन से आप बात कर रहे थे वह १० दिन से बंद है। “

व्यक्ति की बात सुनते ही वह युवक शर्म ले लाल हो गया और अपनी नज़रे झुकाकर कमरे से बाहर चला जाता है।  उसे अपने दिखावे का फल मिल चुका था।

Moral – इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है कि कभी भी दिखावा नहीं करना चाहिए और हर किसी का सम्मान करना चाहिए अन्यथा उस युवक की तरह हमें भी शर्मिन्दा होना पड़ सकता है। 

 

मित्रों यह पोस्ट Kung Fu Book in Hindi Pdf आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —->बाबरनामा इन हिंदी Pdf Free

 

 

 

Leave a Comment

स्टार पर क्लिक करके पोस्ट को रेट जरूर करें।