Advertisements

Koka shastra Sachitra Varnan pdf / कोक शास्त्र सचित्र वर्णन Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Koka shastra Sachitra Varnan pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Koka shastra Sachitra Varnan pdf Download कर सकते हैं और यहां से Aalha Khand Pdf Free कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Koka shastra Sachitra Varnan pdf

 

 

पुस्तक का नाम  Koka shastra Sachitra Varnan pdf
पुस्तक के लेखक  आचार्य गौतम 
फॉर्मेट  Pdf 
भाषा  हिंदी 
साइज  101 Mb 
पृष्ठ  440 
श्रेणी  स्वास्थ्य 

 

 

 

कोक शास्त्र सचित्र वर्णन Pdf Download

 

 

Advertisements
Koka shastra Sachitra Varnan pdf
Koka shastra Sachitra Varnan pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Koka shastra Sachitra Varnan pdf
अनदेखा खतरा सस्पेंस उपन्यास Pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Koka shastra Sachitra Varnan pdf
Andha Yug Pdf in Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये

 

 

केवल मैं ही अपने पति के बिना दुःख में डूबी हुई हूँ। देव! शंकर! प्रसन्न होईये और मुझे सनाथ कीजिए। दीनबन्धो! परम प्रभो! अपनी कही हुई बात को सत्य कीजिए। चराचर प्राणियों सहित तीनो लोको में आपके सिवा दूसरा कौन है जो मेरे दुःख का नाश करने में समर्थ हो?

 

 

 

ऐसा जानकर आप मुझपर दया कीजिए। दीनों पर दया करने वाले नाथ! सबको आनंद प्रदान करने वाले अपने इस विवाहोत्सव में मुझे भी उत्सव सम्पन्न बनाइये। मेरे प्राणनाथ के जीवित होने पर ही अपनी प्रिया पार्वती के साथ आपका सुंदर विहार परिपूर्ण होगा।

 

 

 

इसमें संशय नहीं है। सर्वेश्वर! आप सब कुछ करने में समर्थ है क्योंकि आप ही परमेश्वर है। यहां अधिक कहने से क्या लाभ? सर्वेश्वर! आप शीघ्र मेरे पति को जीवित कीजिए। ऐसा कहकर रति ने गांठ में बंधा हुआ कामदेव के शरीर का भस्म शंभु को दे दिया और उनके सामने हा नाथ! हा नाथ! कहकर विलाप करने लगी।

 

 

 

रति का रोदन सुनकर सरस्वती आदि सभी देवियां रोने लगी और अत्यंत दीन वाणी में बोली – प्रभो! आपका नाम भक्तवत्सल है। आप दीनबंधु और दया के सागर है। अतः काम को जीवनदान दीजिए और रति को उत्साहित कीजिए। आपको नमस्कार है।

 

 

 

ब्रह्मा जी कहते है – नारद! उन सबकी यह बात सुनकर महेश्वर प्रसन्न हो गए। उन करुणासागर प्रभु ने तत्काल ही रति पर कृपा की। भगवान शूलपाणि की अमृतमयी दृष्टि पड़ते ही पहले जैसे रूप, वेश और चिन्ह से युक्त अद्भुत मूर्तिधारी सुंदर कामदेव उस भस्म से प्रकट हो गया।

 

 

 

अपने पति को वैसे ही रूप, आकृति, मंद मुस्कान से युक्त देख रति ने महेश्वर को प्रणाम किया। वह कृतार्थ हो गयी। उसने प्राणनाथ की प्राप्ति कराने वाले भगवान शिव का अपने जीवित पति के साथ हाथ जोड़कर बारंबार स्तवन किया। पत्नी सहित काम की की हुई स्तुति को सुनकर दयार्द्रहृदय भगवान शंकर अत्यंत प्रसन्न हुए और इस प्रकार बोले।

 

 

 

मनोभव! पत्नी सहित तुमने जो स्तुति की है उससे मैं बहुत प्रसन्न हूँ। स्वयं प्रकट होने वाले काम! तुम वर मांगो। मैं तुम्हे मनोवांछित वस्तु दूंगा। शंभु का यह वचन सुनकर कामदेव महान आनंद में निमग्न हो गया और हाथ जोड़ मस्तक झुकाकर गदगद वाणी में बोला।

 

 

 

देवदेव महादेव! करुणासागर प्रभो! यदि आप मुझपर प्रसन्न है तो मेरे लिए आनंददायक होइए। प्रभो! पूर्वकाल में मैंने जो अपराध किया था उसे क्षमा कीजिए। स्वजनों के प्रति परम प्रेम और अपने चरणों की भक्ति दीजिए। कामदेव का यह कथन सुनकर परमेश्वर शिव प्रसन्न हो बोले।

 

 

 

बहुत अच्छा! इसके बाद उन करुनानिधान से हंसकर कहा – महामते कामदेव! मैं तुम पर प्रसन्न हूँ। तुम अपने मन से डर को निकाल दो। भगवान विष्णु के पास जाओ और इस घर से बाहर ही रहो। तदनन्तर काम शिव जी को प्रणाम करके बाहर आ गया।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Koka shastra Sachitra Varnan pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Koka shastra Sachitra Varnan pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!