Advertisements

Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF / कालनिर्णय कैलेंडर 2022 Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF Download कर सकते हैं और आप यहां से  महालक्ष्मी कैलेंडर 2022 Pdf भी पढ़ सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF / कालनिर्णय कैलेंडर 2022 पीडीऍफ़ 

 

 

 

कालनिर्णय कैलेंडर 2022 Pdf Download

 

 

 

 

 

Advertisements
Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF
Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF
Advertisements

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

मागध, सूत, भाट और चतुर नट तीनो लोको को उजागर “प्रकाश देने वाले परम प्रकाश स्वरुप” श्री राम जी के यश का गान कर रहे है। जय ध्वनि तथा वेद की निर्मल श्रेष्ठ सुंदर वाणी, मंगल शुभ से ओत प्रोत हुई सभी दशो दिशाओ में सुनाई पड़ रही है।

 

 

 

2- बहुत से बाजे बज रहे है। आकाश में देवता तथा नगर के सभी लोग प्रेम में मग्न है। सभी बाराती ऐसे बने-ठने है कि उनका वर्णन नहीं किया जा सकता है। परम आनंद के साथ उनके मन में सुख नहीं समा रहा है।

 

 

 

 

3- तब सभी अयोध्या वासियो ने राजा की वंदना (जोहार) की। सभी लोगो ने श्री राम जी को देखकर सुख पाया। सब लोग मणियां और वस्त्र निछावर कर रहे है और उन सभी का शरीर पुलकित है।

 

 

 

 

4- आनंद के साथ नगर की सभी स्त्रियां आरती कर रही है और सुंदर चारो कुमारो को देखकर हर्षित हो रही है। पालकियों  परदे हटा-हटाकर  दुलहिनो को देखकर सुखी हो रही है।

 

 

 

 

348- दोहा का अर्थ-

 

 

 

इस प्रकार से सबको सुख देते हुए राजद्वार पर आये। सब माताए आनंदित होकर, बहुओ के साथ कुमारो का परछन कर रही है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- वह बार-बार आरती कर रही है। उस प्रेम और महान आनंद को कहने में कोई भी समर्थ नहीं हो सकता है। अनेक प्रकार के आभूषण के साथ रत्न और वस्त्र तथा अगणित प्रकार की वस्तुए निछावर कर रही है।

 

 

 

2- बहुओ सहित चारो पुत्रो को देखकर माताए परम आनंद में मग्न हो गयी। सीता जी और श्री राम जी की छवि को देखकर वह बार-बार अपने जीवन को इस जगत में सफल मानकर आनंदित हो रही है।

 

 

 

3- सखियाँ सीता जी के मुख को देखकर बार-बार अपने पुण्यो की सराहना कर रही है और गान कर रही है। देवता लोग क्षण-क्षण में फूल बरसाते हुए, नाचते गाते तथा अपनी सेवा को समर्पित कर रहे है।

 

 

 

 

4- चारो मनोहर जोड़ियों को देखकर सरस्वती जी ने सारी उपमाओ को खोज डाला, पर कोई उपमा देते नहीं बनी क्योंकि सारी उपमा उन्हें एकदम तुच्छ जान पड़ती है। तब हारकर शारदा जी भी श्री राम जी के रूप में अनुरक्त होकर उन्हें एकटक देखती रह गयी।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Kalnirnay Calendar 2022 Hindi PDF आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!