Advertisements

Jyotish Tantra Books in Hindi Pdf / ज्योतिष तंत्र बुक्स हिंदी Pdf

Advertisements

मित्रों इस पोस्ट में Jyotish Tantra Books in Hindi Pdf दिया गया है। आप नीचे की लिंक से ज्योतिष तंत्र बुक्स हिंदी Pdf डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Advertisements
Jyotish Tantra Books in Hindi Pdf
यहां से Jyotish Shastra Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

समुद्र शास्त्र हिंदी Pdf Free Download
यहां से Samudra Shastra Pdf in Hindi डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

नक्षत्र फल दर्पण Pdf
यहां से नक्षत्र फल दर्पण Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

सिद्धांत ज्योतिष Pdf
यहां से सिद्धांत ज्योतिष Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

नंदी नाड़ी ज्योतिष Pdf
यहां से नंदी नाड़ी ज्योतिष Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

नक्षत्र ज्योतिष Pdf
यहां से नक्षत्र ज्योतिष Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

अंक ज्योतिष Pdf
यहां से अंक ज्योतिष Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

समुद्र शास्त्र Pdf Download
यहां से समुद्र शास्त्र हिंदी Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

Jyotish Gyan in Hindi Pdf
यहां से Jyotish Gyan in Hindi Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

रमल ज्योतिष बुक इन हिंदी Pdf
यहां से रमल ज्योतिष बुक इन हिंदी Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

नक्षत्र ज्ञान Pdf
यहां से नक्षत्र ज्ञान Pdf डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

भारतीय ज्योतिष विज्ञान 
यहां से भारतीय ज्योतिष विज्ञान डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

रत्न परिचय 
यहां से रत्न परिचय डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

समुद्र शास्त्र Pdf Download
यहां से समुद्र शास्त्र Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

गलती का एहसास सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

एक बहुत ही अच्छा शहर था।  वहाँ पर रीना और मीना नाम की दो सगी बहने अपने मम्मी – पापा के साथ ख़ुशी – ख़ुशी रहती थी।  रीना 6 साल की थी और मीना 9 साल की थी।

 

 

 

एक  दिन की बात है मीना और रीना अपनी मम्मी-पापा के साथ में रात का भोजन कर रही थी।  तभी रीना का दांत हिलने लगा और उसे भोजन करने में परेशानी होने लगी।

 

 

 

 

उसने अपनी मम्मी से कहा, ” नहीं मैं  भोजन नहीं करूंगी। मेरा दांत टूटने वाला है।  ” तब  उसकी मम्मी ने उसे समझाया, ” बेटा आप मुंह के दूसरी तरफ से जहां दांत दर्द नहीं कर रहा है उस तरफ से भोजन करो।  सब के दांत टूटते हैं और फिर नए दांत आते हैं और हां जब तुम्हारे दांत टूट जाए तो उसे तकिए के नीचे रख देना।  इससे दांतों की परी आएगी और तुम्हें आसमान में  घुमाने  ले जाएगी। ”

 

 

 

 

क्या सच में दांतो की परी आती है ? रीना ने कहा।  इस पर उसकी मम्मी ने कहा, ” हां सच में दांतों की परी आती है, लेकिन वह सिर्फ उन्हीं बच्चों के पास आती है जो अच्छे से भोजन करते हैं।  ” उसके बाद रीना ने खुशी-खुशी भोजन कर लिया।

 

 

 

जब रीना मुंह धोने के लिए गई तो उसका दांत और भी तेजी से हिलने लगा और वह टूट गया। रीना को अपनी मम्मी की बात याद आ गई।  उसने टूटे हुए दांत को तकिए के नीचे रखा और सो गई।

 

 

 

 

रात को उसके कमरे की खिड़की खुली और कुछ आहट हुई। आहट सुनकर रीना  की नींद खुल गई। उसने देखा एक परी सामने पर ही खड़ी थी। वह  बहुत खूबसूरत थी।  उसने चमकीला ड्रेस पहना हुआ था  और उनके  पंख भी थे।

 

 

 

 

परी ने कहा रीना मैं दाँतों की परी हूँ ।  तुम अपने टूटे हुए दांत मुझे  दे दो और मैं तुम्हे आसमान में  घुमाने ले जाऊंगी। रीना बड़ी खुशी हुई। उसने अपने टूटे हुए दांत परी  को दी।

 

 

 

उसके बाद परी ने अपनी जादुई छड़ी से रीना को भी नन्ही परी  बना दिया और उसे लेकर बादलों के बीच में आ गयी और उसके बाद वे दोनों खूब  घूमी।  कुछ देर बाद  दोनों वापस आ गए।

 

 

 

 

उसके बाद परी ने रीना को वापस उसके रूप में ला  दिया और जब परी  जाने लगी तब रीना ने कहा अब आप फिर कब आओगी ? परी  ने कहा, ” जब तुम्हारे दूसरे दांत टूट जाएंगे तो फिर मैं उन्हें लेने आऊंगी।  ”

 

 

 

इसके बाद परी  चली गई।  सुबह हुई रीना ने यह बात अपने मम्मी पापा और अपनी बड़ी बहन मीना को भी बताया।  इससे मीना भी बहुत खुश हुई।  उसने कहा, ” मेरे  भी दांत टूटने वाले हैं। अब मैं भी उसे अपने तकिए के नीचे रखूंगी और परी आएगी  तो मैं भी उसके साथ बादलों में घुमाने जाऊंगी।  ”

 

 

 

 

कुछ दिन बाद मीना के दांत टूट गए। उसने दांतो को अपने तकिए के नीचे रखा और सो गई।  लेकिन रात को उसकी छोटी बहन रीना  दाँतों को चुरा लिया। वह परी से मिलना चाहती थी।

 

 

 

 

उसने दांतो को अपने तकिए के नीचे रखा और सो गई।  कुछ देर बाद उसकी नींद खुली उसे ऐसा लगा जैसे उसके सारे दांत टूट गए हो। उसने तुरंत ही शीशे में देखा तो उसके सारे दांत टूट गए थे।

 

 

 

 

रीना वहीं खड़ी ही थी, तब तक मीना भी जाग गई और तभी वहां दांतो की परी भी आ गई। तब रीना ने उससे कहा,” मेरे सारे दांत टूट गए हैं।  अब क्या होगा ?”

 

 

 

तब परी ने कहा, ”  तुमने  चोरी की है।  तुमने मीना के दांत चुराए।  तुम्हें इसकी सजा मिली है। ”  रीना को अपनी गलती का एहसास हो गया। उसने कहा,” अब मैं कभी चोरी नहीं करूंगी।  एक अच्छी बच्ची बनूंगी और मैं कभी लालच भी नहीं करूंगी। ”

 

 

 

 

उसके बाद दांतों की परी खुश हुई।  उसने रीना के दांत लौटा दिए और  दोनों को लेकर आसमान में गई। दोनों बहनों ने खूब मस्ती की और उसके बाद दाँतों  की परी उन्हें उनके कमरे में छोड़ दिया और वह चली गयी।  उसके बाद दोनों बहने सो गयीं।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Jyotish Tantra Books in Hindi Pdf आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें, वहाँ आपको नयी बुक्स, नोवेल्स की जानकारी पा सकते हैं।

 

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!