Advertisements

Jain Ramayan Pdf / जैन रामायण Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Jain Vivah Vidhi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Jain Vivah Vidhi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से जैन साहित्य Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Jain Ramayan Pdf / जैन रामायण पीडीएफ

 

 

जैन रामायण पीडीऍफ़ डाउनलोड 

 

जिनवाणी संग्रह पीडीऍफ़ डाउनलोड

 

Advertisements
Jain Ramayan Pdf
Jain Ramayan Pdf
Advertisements

 

 

जैन पद्म पुराण Pdf Download

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

जब से रमापति श्री राम जी ने वहां निवास किया तब से वह वन मंगलमय हो गया। सुंदर स्पटिक मणि की एक अत्यंत उज्वल शिला पर दोनों भाई सुखपूर्वक विराजमान है।

 

 

 

 

श्री राम जी छोटे भाई लक्ष्मण जी से भक्ति, वैराग्य, ज्ञान और राजनीति की अनेक कथाये कहते है। वर्षाकाल में आकाश में छाये बादल गरजते हुए बहुत ही सुहावने लगते है।

 

 

 

 

13- दोहा का अर्थ-

 

 

 

 

श्री राम जी कहने लगे – हे लक्ष्मण! देखो, मोर के झुण्ड बादलो को देखकर नाच रहे है। जैसे वैराग्य में अनुरक्त गृहस्थ किसी विष्णु भक्त को देखकर हर्षित होते है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

आकाश में बादल घुमड़-घुमड़कर घोर गर्जना कर रहे है। प्रिया के बिना मेरा मन डर रहा है। बिजली की चमक बादलो में नहीं ठहरती है जैसे दुष्ट की प्रीति स्थिर नहीं रहती है।

 

 

 

 

बादल पृथ्वी के समीप आकर बरस रहे है। जैसे विद्या प्राप्त करने पर विद्वान नम्र हो जाते है। पानी के बूंदो की मार पर्वत कैसे सहते है जैसे दुष्टो के वचन संत सहते है।

 

 

 

 

छोटी नदियां भरकर किनारो को तोड़ती हुई वह चली जैसे थोड़े से धन मिलने पर लोभी  इतराने लगते है और मर्यादा का त्याग कर देते है। पृथ्वी पर गिरते ही पानी मटमैला हो गया है जसी शुद्ध जीव से माया लिपट गयी है।

 

 

 

 

जल एकत्रित होकर तालाबों में भर रहा है जैसे सद्गुण एक-एक करते हुए सज्जन के पास चले आते है। नदी का जल समुद्र में जाकर इस प्रकार से स्थिर हो जाता है जैसे जीव श्री हरि से मिलने पर आवागमन से मुक्त होकर अचल हो जाता है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Jain Ramayan Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!