Advertisements

J Krishnamurti Book Pdf / दुर्गा मंत्र हिंदी पीडीएफ डाउनलोड

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको J Krishnamurti Book Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से J Krishnamurti Book Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Advertisements
J Krishnamurti Book Pdf
यहां से शिक्षा क्या है ? बुक डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

J Krishnamurti Book Pdf
यहां से जे.कृष्णमूर्ति द्वारा लिखित डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

J Krishnamurti Book Pdf
यहां से दुर्गा मंत्र हिंदी पीडीएफ डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

J Krishnamurti Book Pdf
यहां से स्वप्न फल लाल किताब पीडीएफ डाउनलोड करें।
Advertisements

 

 

 

लक्ष्मण जी और जानकी जी सहित प्रभु श्री राम जी सुंदर घास पत्तो के घर में शोभायमान है, मानो कामदेव मुनि का वेश धारण करके पत्नी रति और बसंत ऋतु के साथ सुशोभित हो।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- उस समय देवता,  दिग्पाल चित्रकूट में आये। श्री राम जी ने सब किसी को प्रणाम किया। देवता नेत्र का लाभ पाकर आनंदित हुए। फूलो की वर्षा करते हुए देव समाज ने कहा – हे नाथ! आज हम आपका दर्शन पाकर सनाथ हो गए, फिर उन्होंने अपने दुःसाध्य दुःख को श्री राम जी से कह सुनाया और दुखो के नाश का आश्वासन मिलने पर हर्षित होकर अपने स्थान को चले गए।

 

 

 

3- श्री राम जी को चित्रकूट में आकर बसने का समाचार सुनकर बहुत से मुनि आये। रघुकुल के चन्द्रमा श्री राम जी मुदित हुई मुनि मंडली को आते हुए देखकर दंडवत प्रणाम किया।

 

 

 

4- मुनिगण श्री राम जी को हृदय से लगाकर सफल होने के लिए आशीर्वाद दिए। वह सीता जी, लक्ष्मण जी और श्री राम जी की छवि को देखकर अपने सारे साधन को सफल हुआ समझते है।

 

 

 

134- दोहा का अर्थ-

 

 

 

प्रभु श्री राम जी यथा योग्य सभी मुनियो का सम्मान करके उन्हें विदा किया। श्री राम जी के आने से वह सब मुनिगण अपने-अपने आश्रम में स्वतंत्रता पूर्वक योग, जप, यज्ञ, तप करने लगे।

 

 

 

श्री राम जी के आने का समाचार जब  पाया तो वह ऐसे हर्षित हुए मानो नव निधि उनके घर आ गयी हो। वह फल पात्र (दोना) में फल भरकर चले, मानो चले हो।

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!