Advertisements

Indrajal Book in Hindi Free Download / इंद्रजाल बुक फ्री डाउनलोड

Advertisements

Indrajal Book in Hindi Free Download मित्रों यहां Asli Prachin Maha Indrajal Book PDF के बारे में बताया गया है।  आप यहां से फ्री में  Indrajal  Book in Hindi फ्री  में DOWNLOAD कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Indrajal Book in Hindi Free Download इंद्रजाल बुक Pdf फ्री डाउनलोड

 

 

Advertisements
Indrajal Book in Hindi Free
यहां से इंद्रजाल बुक इन हिंदी पीडीऍफ़ डाउनलोड करे  
Advertisements

 

 

Horror Novel in Hindi Pdf
स्वाहा उपन्यास यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

Indrajal Book in Hindi Free
यहां से प्राचीन दुर्लभ महा इंद्रजाल Pdf Free Download करे
Advertisements

 

 

 

इसे भी पढ़ें —->ज्योतिष बुक्स पीडीएफ फ्री

 

 

 

 

 

 

 

 

इंद्रजाल के बारे में ( इंद्रजाल इन हिंदी Pdf )

 

 

 

इंद्रजाल के बारे में समाज में अनेक तरह की भ्रांतियां प्रचलित है। जैसे- कोई इसे मायावी खेल से जोड़ता है। कुछ लोग तंत्र मंत्र व काला जादू से जोड़ते है।

 

 

 

 

कुछ लोग इसे जादू विद्या ही मानते है। यह खेल भारत में प्राचीन काल से विद्यमान था और भारत से निकलकर यह कला विदेशों में फ़ैल गयी और लोक प्रिय भी हुई।

 

 

 

 

कुछ लोग इससे गलत फायदा उठाते है जो कि बहुत ही निंदनीय है। इस विद्या के अंतर्गत मंत्र, तंत्र, संमोहन, उच्चाटन, वशीकरण नाना तरह के कौतुक आश्चर्यजनक खेल तमाशे प्रकाश एवं रंग के प्रायोजन आदि कई चीजे आती है। लेकिन लोगों के मन में काला जादू की जिज्ञासा अधिक जागृत होती है।

 

 

इंद्रजाल के बारे में और अधिक जानें 

 

 

 

 

इन्द्रजाल के बारे में बहुत लोगो ने सुना होगा। जब कही किसी भी तरह के जादू आदि की बात आती है तो इसमें Indrjal का नाम सर्वप्रथम आता है। परन्तु Asli Prachin Maha Indrajal Books मिलना बहुत मुश्किल होता है।

 

 

 

आज इस Bolg पर हम आपको Asli Prachin Maha Indrajal Book देंगे। लेकिन सबसे पहले Indrjal के बारे में जान और समझ ले। इंद्रजाल सबसे बड़ी तंत्र-मंत्र की किताब है जो जादूगर अपना करतब दिखाते है। वह इसी किताब से सीखे रहते है और आप भी सीख सकते है और उसके साथ ही हम यह भी आशा करते है कि इसका सही उपयोग करे ना कि इसका दुरुपयोग करे और एक बात अगर जहां तक हो सके इसे सिखने के लिए किसी गुरु का सानिध्य जरूर ले और वैसे भी किसी भी चीज को सिखने के लिए गुरु का सानिध्य आवश्यक है। इससे आपको किसी तरह के संकट का सामना नहीं करना पड़ता है।

 

 

 

 

इंद्रजाल की भाषा सामान्य न होकर मुहावरों और संकेतो में है। इसीलिए इसे सिद्ध करना थोड़ा कठिन है और अगर आपको शुद्ध Indrjal Book Read करना है तो आपको 1965 के पहले का संस्करण पढ़ना चाहिए।

 

 

 

 

आज के समय में Indrjal Vidya सिर्फ हाथो की सफाई तक सिमित रह गई है लेकिन Indrjal Book में हर समस्या का समाधान है। एक सबसे बड़ी बात यह होती है कि ऐसी तंत्र-मंत्र की शक्तियों की अगर सही स्थिति में पाठ नहीं किया जाय तो इसका उल्टा असर भी हो सकता है लेकिन सही पठन हुआ तो इसका असर भी एकदम सही होता है।

 

 

 

Vashikaran Indrajal में या अगर Brihad Indrajal Book लेते है तो उसमे वशीकरण के बारे में भी विस्तृत ढंग से बताया गया है। अगर आप बिना गुरु के भी सीखना चाहते है तो काफी हद तक सीख सकते है। परन्तु गुरु के द्वारा सीखना ही श्रेयस्कर होता है।

 

 

 

 

क्या है इंद्रजाल विद्या –

 

 

 

स्वर्ग के देवता इंद्र को इस कला में महारत हासिल होने के कारण ही कुछ लोगों को यह विद्या इंद्र से जुड़ी हुई है। जो सम्भवतः सही प्रतीत होती है। इसलिए ही इसका नाम इंद्रजाल पड़ा।

 

 

 

 

 

इस विद्या के ज्ञाता रावणमेघनाद इत्यादि राक्षस थे और इंद्रजीत इस विद्या में बहुत ही निपुण था, क्योंकि लड़ाई के मैदान वह कभी छुप जाता था कभी सामने आता था। कभी-कभी जल, नभ, थल से एक साथ प्रहार कर देता था। ऐसा वह इंद्रजाल के द्वारा ही संभव कर लेता था।

 

 

 

 

 

इसकी विद्या की मदद से कोई अपने जाल में किसी को भी फंसा सकता है इस विद्या के जानकर को ऐन्द्र जालिक कहा जाता है। ग्रंथों में इंद्रजाल से जुड़ा श्लोक भी मिलता है।

 

 

 

 

 

चाणक्य के एक शिष्य का उल्लेख पौराणिक कथाओं में मिलता है। चाणक्य के शिष्य का नाम कामंदक था। उसका मत था कि पूरी सभा में अपनी बात को सभी लोगो को समझाना और राजी करना संभव नहीं है। इसलिए ही दुश्मन के मन में डर पैदा करने के लिए ही राजनीति में इंद्रजाल के प्रयोग का सुझाव दिया था।

 

 

 

 

 

जिस किसी भी बात पर मनुष्य का दिल और दिमाग नहीं कर पाते वही इंद्रजाल है और उसके द्वारा कोई भी मनुष्य भ्रमित हो जाता है। मनुष्य को यह कला धोका लगती है।

 

 

 

 

 

लेकिन यह विद्या बहुत ही चालाकी से दिमाग के द्वारा संचालित की जाती है। इसलिए ही कोई व्यक्ति जादूगर की विद्या को नहीं पकड़ पाता क्योंकि वह बहुत ही तेजी से अपने हाथों की कला को अंजाम देता है।

 

 

 

Indrajal Book Pdf इंद्रजाल किताब डाउनलोड 

 

 

 

 

मित्रों यह Indrajal Book in Hindi Free आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Vrihat Indrajal Book PDF की तरह की दूसरी बुक्स और जानकारियों के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और Indrajaal PDF शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!