Advertisements

हिमालय का इतिहास Pdf / History of Himalaya PDF

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको History of Himalaya PDF देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से History of Himalaya PDF download कर सकते हैं और आप यहां से Teen Andhe Chuhe Story Pdf कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

History of Himalaya PDF

 

पुस्तक का नाम  History of Himalaya PDF
पुस्तक के लेखक  राम चंद्र 
भाषा  हिंदी 
साइज  15.9 Mb 
पृष्ठ  178 
श्रेणी  इतिहास 
फॉर्मेट  Pdf 

 

 

हिमालय का इतिहास Pdf Download

 

Advertisements
History of Himalaya PDF
History of Himalaya PDF Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
History of Himalaya PDF
पोस्टबॉक्स नं. 203 नाला सोपारा Pdf Download
Advertisements

 

 

Advertisements
History of Himalaya PDF
बिल्लू और फिल्म की हीरोइन हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

धनु की डोरी को इस प्रकार पीछे की ओर खींचना चाहिए कि तीर का तना धनुर्धर के कान और दाहिनी आंख के बीच हो।छोड़ते समय शरीर को झुकना नहीं चाहिए। न ही किसी को उत्तेजित होना चाहिए। तीरंदाज को अभी भी एक स्तंभ के रूप में होना है।

 

 

 

लक्ष्य को बाईं मुट्ठी के अनुरूप होना चाहिए और तीरंदाज की मुद्रा त्रिभुज की तरह होनी चाहिए। धनु की डोरी को दाहिने कान तक वापस खींचना सबसे अच्छा है। एक फंदा दस भुजाओं की लंबाई का होता है, जिसमें हथियार के दोनों सिरे गोलाकार होते हैं।

 

 

 

हथियार का मुख्य शरीर रस्सी से बना होता है। ऐसे ग्यारह अलग-अलग तरीके हैं जिनमें फंदा लगाया जा सकता है। फंदा हमेशा दाहिने हाथ से फूँकना चाहिए। कमर के बायीं ओर असी लटकनी चाहिए। जब तलवार निकालनी हो तो म्यान को बायें हाथ से पकड़ना चाहिए दाहिने हाथ से निकालना चाहिए।

 

 

 

बत्तीस अलग-अलग तरीके हैं जिनमें एक तलवार और राखी धारण की जा सकती है। जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके ऋणों का क्या होता है? यदि उसके कोई पुत्र नहीं है, तो संपत्ति प्राप्त करने वाले व्यक्ति को भी ऋण विरासत में मिलता है और उसे चुकाना पड़ता है।

 

 

 

पुत्र होता है तो पुत्र ऋण चुकता करता है। लेकिन एक महिला को उसके पति या उसके बेटे द्वारा अनुबंधित ऋण के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। न ही कोई व्यक्ति अपनी पत्नी या पुत्र द्वारा अनुबंधित ऋणों के लिए उत्तरदायी है।

 

 

 

अपवाद ऐसे उदाहरण हैं जहां पति और पत्नी संयुक्त रूप से एक ऋण का अनुबंध करते हैं। यदि अनुबंधित ऋण के कोई गवाह नहीं हैं, लेकिन राजा को लगता है कि ऋण वास्तव में अनुबंधित था, तो राजा को चौंसठ दिनों की अवधि के भीतर ऋण चुकाने की व्यवस्था करनी चाहिए।

 

 

 

विवाद की स्थिति में झूठा वाद लाने वाले को राजा दण्डित करेगा। और झूठे गवाह को दुगना दण्ड दिया जाएगा जो झूठा मुकदमा करने वाले को दिया जाएगा। झूठी गवाही देने वाले ब्राह्मण को राज्य से निकाल दिया जाएगा। एक व्यक्ति जो गवाह बनने के लिए सहमत हो जाता है।

 

 

 

लेकिन बाद में वापस ले लेता है, उसे झूठा मुकदमा लाने वाले की तुलना में आठ गुना अधिक दंडित किया जाएगा। ऐसा करने वाले अब्राहम को राज्य से भगा दिया जाएगा। यह बेहतर है कि अनुबंधित ऋण का विवरण नीचे लिखा जाए, जिसमें दोनों पक्षों के नाम और गवाहों का स्पष्ट रूप से संकेत दिया गया हो।

 

 

 

यदि देनदार किश्तों में भुगतान करता है, तो ऐसे सभी भुगतानों का विवरण लिखित दस्तावेज पर दर्ज किया जाना चाहिए। गवाहों की उपस्थिति में किए गए ऋण। साक्षी को शपथ लेनी हो तो साक्षी के सिर पर रुई, अग्नि, जल या विष रख कर शपथ दिलाई जानी चाहिए।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट History of Himalaya PDF आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और History of Himalaya PDF की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!