10 + Top Best Hindi Novels Surendra Mohan Pathak Pdf Download

मित्रों हम इस पोस्ट में आपको Hindi Novels Surendra Mohan Pathak Pdf देने जा रहे हैं। आप नीचे की लिंक से Surendra Mohan Pathak Hindi Novel Pdf Download कर सकते हैं और इसे खरीद भी सकते हैं।

 

 

 

Best Hindi Novels Surendra Mohan Pathak Pdf सुरेंद्र मोहन पाठक नॉवेल पीडीएफ फ्री 

 

 

1- दस मिनट 

 

 

 

 

 

 

 

मित्रों सुरेंद्र मोहन पाठक एक बेहद लोकप्रिय उपन्यास लेखक हैं। उनके द्वारा लिखा गया उपन्यास बहुत ही उम्दा होता है। इंटरनेट पर उनके फ्री उपन्यास बहुत कम हैं, फिर भी हम आपको कुछ फ्री नॉवेल उपलब्ध करवा रहे हैं।

 

 

 

सुरेंद्र मोहन पाठक के उपन्यास खरीदें 

 

 

हमने ऊपर सुरेंद्र मोहन पाठक के उपन्यास Pdf Download करवाएं हैं, लेकिन Surendra Mohan Pathak Hindi Novel Pdf free Download अधिक उपलब्ध नहीं हैं, आप उनके बेहतरीन Surendra Mohan Pathak Novels नीचे की लिंक से खरीद सकते हैं।

 

 

 

 

अगर सुरेंद्र मोहन पाठक जी का कोई और भी उपन्यास आपको चाहिए तो कृपया [email protected] पर मेल करें, हम उस उपन्यास को इस वेबसाइट पर उपलब्ध करवा देंगे और भी अधिक नोवेल्स के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें।

 

 

 

दहेज़ चाहिए या बहू?

 

 

इसे भी पढ़ें —-> वेद प्रकाश शर्मा नावेल पीडीएफ फ्री

 

 

 

नरोत्तम गायकवाड़ की एक विदुषी कन्या थी। उसका नाम सुरभि था। वह अच्छे ढंग से पढ़ी-लिखी हुई लड़की थी। उसे समाज में लड़कियों के साथ होता पक्षपात सहन नहीं होता था।

 

 

 

 

नरोत्तम ने अपनी कन्या का विवाह देवनरायण के लड़के के साथ तय कर दिया था। देवनरायण पैसे का लोभी था। उसका लड़का किशोर सरकारी नौकरी करता था।

 

 

 

Hindi Novels Surendra Mohan Pathak

 

 

 

 

इसलिए उसने दहेज़ में किशोर का सारा पढ़ाई का पैसा वसूलने की सोच रखा था। नरोत्तम जब अपनी लड़की का रिश्ता देवनरायण के लड़के के साथ तय करने पहुंचे थे तभी देवनरायण ने नरोत्तम से कह दिया था कि पूरे दस लाख रुपये दहेज में चाहिए तब ही यह रिश्ता होगा अन्यथा नहीं।

 

 

 

 

 

नरोत्तम ने दस लाख रुपये दहेज देने का आश्वासन दिया था। लेकिन यह बात नरोत्तम गायकवाड़ ने अपनी लड़की सुरभि को नहीं बताई थी।

 

 

 

 

उन्हें डर था कि दहेज की बात मालूम होने पर सुरभि शादी से इंकार कर देगी। शादी का समय धीरे-धीरे नजदीक आ गया था। वर वधू लग्न मंडप में बैठे हुए थे। पंडित जी मंत्रोच्चार कर रहे थे।

 

 

 

 

 

वर वधू के पास नरोत्तम की अर्धांगिनी को बैठना था लेकिन वह भी दहेज के खिलाफ थी। इसलिए वहां से चली गई थी। अब नरोत्तम गायकवाड़ ने यह रश्म निवाही और वर वधू के पीछे आकर बैठ गए।

 

 

 

 

तभी देवनरायण ने पीछे से आकर कहा, “नरोत्तम जी आपको बात याद है ना।”

 

 

 

 

नरोत्तम ने कहा, “आप फ़िक्र मत करिए मैं आधा पैसा अभी और आधा पैसा बाद में दे दूंगा।”

 

 

 

 

देवनरायण ने कहा, “हमे बात के मुताबिक पूरा पैसा इसी समय चाहिए अन्यथा मैं अपने लड़के को विवाह मंडप से बाहर बुला ले जाऊंगा।”

 

 

 

 

सुरभि को बात समझते देर नहीं लगी कि यह सब दहेज के लिए हो रहा है। उसने मंडप में बैठे किशोर को इस विषय में बोलने के लिए कुछ कहा तो किशोर बोला, “पिता जी के सामने कोई भी उनकी बात नहीं काट सकता है।”

 

 

 

 

देवनरायण पुनः जिन्न की भांति प्रकट होते हुए नरोत्तम से बोला, “आपको हमारी बात का ध्यान रखना होगा नहीं तो मैं अपने लड़के को अपने साथ लेकर चला जाऊंगा।”

 

 

 

 

नरोत्तम ने कहा, “आप थोड़ा धैर्य रखिए। मैंने छोटे भाई को व्यवस्था करने के लिए कह दिया है।”

 

 

 

 

कुछ समय में नरोत्तम का छोटा भाई एक बैग में नौ लाख रुपये लेकर आया और नरोत्तम से बोला, “सिर्फ नौ लाख का ही इंतजाम हो सका है।”

 

 

 

 

तभी दहेज का दानव प्रकट होते हुए बोला, “हमे पूरे दस लाख चाहिए तभी यह व्याह हो सकता है।”

 

 

 

 

नरोत्तम ने देवनरायण से कहा, “मैं आपके पैर पकड़ता हूँ। मैं आपको यह रिश्ता होने के बाद एक लाख रुपये दे दूंगा।”

 

 

 

 

अब तो सुरभि के धैर्य का बांध टूट चुका था। उसने नरोत्तम से कहा, “पिता जी रिश्ते हाथ पकड़कर संपन्न किए जाते है। पैर पकड़कर रिश्ते नहीं होते है। मैं यह शादी नहीं करुँगी।”

 

 

 

 

सुरभि के इतना कहते ही वहां के सभी लोग ताली बजाने लगे क्योंकि दहेज को दूर करने के लिए किसी एक को पहल तो करना ही था।

 

 

 

 

वह पहल सुरभि ने किया था। अब तो सुरभि मुखर हो चुकी थी। उसने देवनरायण को सम्बोधित करते हुए कहा, “आपका नाम देवनरायण भले ही हो लेकिन आपका काम तो असुरो जैसा ही है। मैं अब आपके बेटे के साथ शादी नहीं कर सकती हूँ। आप जल्द से जल्द यहां से अपने बेटे के साथ चले जाइए अन्यथा हमे आपको जेल भिजवाने का प्रबंध अवश्य ही करना पड़ेगा।”

 

 

 

 

सुरभि के इतना कहते ही देवनरायण ने अपने बेटे के साथ वहां से हटने में ही अपनी भलाई समझी और उनका दहेज़ का सपना अधूरा ही रह गया।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Hindi Novels Surendra Mohan Pathak Pdf आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए और फ्री नॉवेल्स और कहानियों के लिए ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और भी अधिक नावेल के लिए फेसबुक पेज को लाइक भी करें वहाँ नए नोवेल्स और कॉमिक्स, कहानियों की जानकारी दी जायेगी।

 

 

 

Note- हम कॉपीराइट का पूरा सम्मान करते हैं। इस वेबसाइट Pdf Books Hindi द्वारा दी जा रही बुक्स, नोवेल्स इंटरनेट से ली गयी है। अतः आपसे निवेदन है कि अगर किसी भी बुक्स, नावेल के अधिकार क्षेत्र से या अन्य किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप हमें [email protected] पर सूचित करें। हम निश्चित ही उस बुक को हटा लेंगे। 

 

 

 

इसे भी पढ़ें —-> शिवानी नोवेल्स Pdf Free

 

 

 

Leave a Comment