Advertisements

Hanuman Chalisa Bengali Pdf / বাংলা ভাষায় হনুমান চালিশা Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Hanuman Chalisa Bengali Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Hanuman Chalisa Bengali Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Hanuman Chalisa Bengali Pdf / हनुमान चालीसा बंगाली पीडीएफ

 

 

 

বাংলা ভাষায় হনুমান চালিশা Pdf Download 

 

Advertisements
Hanuman Chalisa Bengali Pdf
Hanuman Chalisa Bengali Pdf
Advertisements

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

हे दशमुख! संत जन ऐसी नीति कहते है कि चौथेपन में राजा को वन चले जाना चाहिए। हे स्वामी! वहां वन में आप उनका भजन कीजिए जो शृष्टि का पालन करने वाले, रचने वाले तथा संहार कर्ता है।

 

 

 

 

हे नाथ! आप विषयो की भारी ममता छोड़कर उन्हों शरणागत पर प्रेम करने वाले भगवान का भजन कीजिए। जिनके लिए श्रेष्ठ मुनि साधन करते है और राजा राज्य त्यागकर वैरागी हो जाते है।

 

 

 

 

वही कोशलाधीश श्री रघुनाथ जी आप पर दया करने आये है। हे प्रियतम! यदि आप मेरी सीख मान लेंगे तो आपका पवित्र और सुंदर यश यह तीनो लोक में फ़ैल जायेगा।

 

 

 

 

7- दोहा का अर्थ-

 

 

 

ऐसा कहकर नेत्रों में करुणा का जल भरकर और पति के चरण पकड़कर कांपते हुए शरीर से मंदोदरी ने कहा – हे नाथ! श्री रघुनाथ जी का भजन करिये जिससे मेरा अहिवात अचल हो जाय।

 

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

तब रावण ने मंदोदरी को उठाया और उससे अपनी प्रभुता कहने लगा। हे प्रिये! सुन, तूने व्यर्थ ही भय मान रखा है। बता तो जग में मेरे समान योद्धा कौन है?

 

 

 

 

वरुण, कुबेर, पवन, यमराज आदि सभी दिग्पालों को तथा काल को भी मैंने अपनी भुजाओ के बल से जीत रखा है। देवता, दानव और मनुष्य सभी मेरे वश में है। फिर तुझको यह भय किस कारण से उत्पन्न हो गया?

 

 

 

 

मंदोदरी ने उसे बहुत तरह से समझाकर कहा किन्तु रावण ने उसकी एक भी बात न सुनी और वह फिर जाकर सभा में बैठ गया। मंदोदरी ने अपने हृदय में जान लिया कि काल में वश में होने से पति को अभिमान हो गया है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Hanuman Chalisa Bengali Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!