Advertisements

Garud Puran Pdf Hindi / संपूर्ण गरुड़ पुराण Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Garud Puran Pdf Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Garud Puran in Hindi Pdf Free Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Garud Puran Pdf Hindi / गरुड़ पुराण पीडीएफ 

 

 

गरुड़ पुराण सारोद्धार pdf

 

Advertisements
Garud Puran Pdf Hindi
गरुड़ पुराण सारोद्धार pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Garud Puran Pdf Hindi
गरुण पुराण पीडीएफ डाउनलोड यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Garud Puran Pdf Hindi
ललिता सहस्रनाम Pdf
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

93- सोरठा का अर्थ-

भूत प्रेत नाचते और गाते है, वे सब बड़े मौजी है। देखने में बहुत ही बेढंगे जान पड़ते है और बड़े ही विचित्र ढंग से बोलते है।

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

1- जैसा दूल्हा है, अब वैसी ही बारात बन गई है। मार्ग में चलते हुए भांति-भांति के कौतुक (तमासे) होते जाते है। इधर हिमाचल में ऐसा विचित्र मंडप बनाया गया कि जिसका वर्णन नहीं हो सकता।

 

 

 

2- जगत में जितने छोटे बड़े पर्वत थे, जिनका वर्णन करके पार नहीं मिलता तथा जितने वन, समुद्र, नदियां और तालाब थे हिमाचल ने सबको नेवता भेजा।

 

 

 

3- वे सब अपनी इच्छानुसार रूप धारण करने वाले, सुंदर शरीर धारण कर सुंदरी स्त्रियों और समाजो के साथ हिमाचल के घर गए। सभी स्नेह सहित मंगल गीत गाते है।

 

 

 

 

4- हिमाचल ने पहले से ही घर सजवा रखे थे। यथा योग्य उन-उन स्थानों में  उतर गए। नगर की शोभा देखकर ब्रह्मा की रचना- चातुरी भी तुच्छ लगती थी।

 

 

 

छंद का अर्थ-

 

 

 

नगर की शोभा देखकर ब्रह्मा की निपुणता सचमुच तुच्छ लगती है। वन, वाग, कुए, तालाब, नदियां सभी सुंदर है। उनका वर्णन कौन कर सकता है? घर-घर बहुत से मंगल सूचक तोरण और ध्वजा-पताकाएं सुशोभित हो रही है। वहां के चतुर स्त्री-पुरुषो की छवि देखकर मुनियो के भी मन मोहित हो जाते है।

 

 

 

94- दोहा का अर्थ-

 

 

 

जिस नगर में स्वयं जगदंबा ने अवतार लिया, क्या उसका वर्णन हो सकता है? वहां रिद्धि-सिद्धि, सुख-संपत्ति नित नए-नए वढ़ते जाते है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- बारात को नगर के निकट आयी सुनकर नगर में चहल-पहल मच गई, जिससे उसकी शोभा बढ़ गई। अगवानी करने वाले लोग बनाव- श्रृंगार करके तथा नाना प्रकार की सवारियो को सजाकर आदर सहित बारात लेने चले।

 

 

 

 

2- देवताओ के समाज को देखकर सब प्रसन्न हुए और विष्णु भगवान को देखकर तो बहुत सुखी हुए। किन्तु जब शिव जी के दल को देखने लगे तब तो उनके वाहन सभी (सवारियों के हाथी, घोड़े रथ के बैल आदि) डरकर भाग चले।

 

 

 

 

3- कुछ बड़ी उम्र के समझदार लोग धीरज धरकर वहां डटे रहे। लड़के तो सब अपने अपने प्राण लेकर भागे घर पहुँचने पर जब उनके माता-पिता पूछते है, तब भय से कांपते हुए अपने मुंह से ऐसा कहते है।

 

 

 

 

4- क्या कहे कोई बात कही नहीं जाती – यह बारात है या यमराज की सेना? दूल्हा पागल है और बैल पर सवार है, उसके गहने तो सांप, कपाल और राख है, उसे ही धारण कर रखा है।

 

 

 

छंद का अर्थ-

दूल्हे के शरीर पर राख लगी है, सांप और कपाल के गहने है, वह नंगा जटाधारी और भयंकर है। उसके साथ भयानक मुख वाले भूत, प्रेत, पिशाच, योगिनियां और राक्षस है। जो बारात को देखकर जीवित बचेगा, सचमुच उसे बड़े पुण्य है और वही पार्वती का विवाह देखेगा।

 

 

 

95- दोहा का अर्थ-

 

 

महेश्वर शिव जी का समाज समझकर सब लड़को के माता-पिता हंसने लगे उन्होंने लड़को को बहुत तरह से समझाया कि निडर रहो डरने की कोई बात नहीं है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

1- अगवानी करने आये लोग बारात को लिवा लाये। उन्होंने सबको सुंदर जनवासे में ठहराया, मैना (पार्वती जी की माता) ने शुभ आरती सजाई और उनके साथ की स्त्रियां उत्तम मंगल गीत गाने लगी।

 

 

 

2- सुंदर हाथो में सोने का थाल लेकर मैना शिव जी का परछन करने चली, जब महादेव जी को भयानक वेश में मैना के साथ अन्य स्त्रियों ने देखा तो सबके मन में बड़ा भारी भय उत्पन्न हो गया।

 

 

 

3- बहुत डर के मारे भागकर वे घर में घुस गई और शिव जी जनवासे में आ गए मैना के हृदय में बड़ा दुःख हुआ और उन्होंने पार्वती जी को अपने पास बुला लिया।

 

 

 

 

4- और अत्यंत स्नेह से गोंद में बैठाकर अपने नील कमल के समान नेत्रों में आंसू भरकर कहा – जिस विधाता ने तुम्हे ऐसा सुंदर रूप दिया, उस मुर्ख ने तुम्हारे दूल्हे को बावला कैसे बनाया?

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Garud Puran Pdf Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!