Advertisements

Durga Puja Pustak Pdf / दुर्गा पूजा पुस्तक Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Durga Puja Pustak Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Durga Puja Pustak Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से दुर्गा चालीसा पाठ हिंदी में Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Durga Puja Pustak Pdf / दुर्गा पूजा पुस्तक पीडीएफ

 

 

 

Advertisements
Durga Puja Pustak Pdf
दुर्गा पूजा पुस्तक पीडीऍफ़ डाउनलोड यहां से करे।
Advertisements

 

 

 

Devi Pushpanjali Stotra Pdf
देवी पुष्पांजलि स्तोत्र पीडीऍफ़ डाउनलोड यहां से करे।
Advertisements

 

 

 

Durga Puja Pustak Pdf
दुर्गा कवच हिंदी Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Durga Puja Pustak Pdf
Maa Durga Mantra Pdf Download
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

3- रास्ते में अपनी अनुपम भक्ति का वर्णन करते हुए देवताओ के राज राजेश्वर श्री राम जी अगस्त्य मुनि के आश्रम पहुंचे। सुतीक्ष्ण तुरंत ही अगस्त्य जी के पास गए और दंडवत करके ऐसा कहने लगे।

 

 

 

 

4- हे नाथ! अयोध्या के राजा दशरथ जी के कुमार जगदाधार श्री राम जी छोटे भाई लक्ष्मण जी और सीता जी सहित आपसे मिलने आये है। हे देव! आप जिनका दिन-रात जप करते रहते है।

 

 

 

 

5- यह सुनते ही अगस्त्य जी तुरंत ही उठकर दौड़ पड़े। भगवान को देखते ही उनके नेत्रों में आनंद और प्रेम का आंसू भर आया। दोनों भाई मुनि के चरण कमल पर गिर पड़े। ऋषि ने उठाकर उन्हें बड़े प्रेम से हृदय से लगा लिया।

 

 

 

 

6- ज्ञानी मुनि ने आदर पूर्वक कुशल पूछकर उनको लाकर आसन पर बैठाया। फिर बहुत प्रकार से प्रभु की पूजा करके कहा – मेरे समान भाग्यवान आज दूसरा कोई नहीं है। जहां तक जितने भी अन्य मुनिगण थे। सभी आनंद कंद श्री राम जी का दर्शन करके हर्षित हो गए।

 

 

 

 

12- दोहा का अर्थ-

 

 

 

मुनियो के समूह में श्री राम जी सबकी ओर सम्मुख होकर बैठे है। सभी मुनि को श्री राम जी अपने सम्मुख ही बैठे दिखाई दे रहे है और सब मुनि एकटक उनके मुख की ओर देख रहे है। ऐसा जान पड़ता है कि चकोर का समुदाय शरद पूर्णिमा के चन्द्रमा की तरफ देख रहा है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

1- तब श्री राम जी ने मुनि से कहा – हे प्रभो! आप से कुछ छिपाव नहीं है। मैं जिस कारण से आया हूँ वह तो आप जानते ही है। इसी से हे तात! मैंने आपसे समझाकर कुछ नहीं कहा।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Durga Puja Pustak Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!