Debited Meaning In Hindi / Debited का मतलब उदाहरण के साथ जाने

आज इस पोस्ट में हम Debited Meaning In Hindi बताने जा रहे है। आप इस पोस्ट में Debited का मतलब क्या होता है जान पायेंगे। इसके कुछ उदाहण भी दिये जा रहे हैं।

 

 

 

Debited Meaning In Hindi / Debited का मतलब क्या होता है ?

 

 

 

 

 

 

 

यहां आप Debit का पहले अर्थ समझे। Debit का अर्थ होता है किसी खाते से भुगतान की गई राशि। इसे आप नीचे दिए जा रहे प्रकारो से भी देख सकते है।

 

 

 

1- बैंक से निकाली गई राशि का रिकार्ड।

2- किसी बैलेंस शीट में एक तरफ लिखी गई खर्च की हुई राशि।

3- किसी प्रतिष्ठान या फिर कंपनी में खर्च की गई राशि को Debit के रूप में दर्ज की जाती है।

4- अगर कोई किसी प्रकार का ऋण (उधार Loan) लेता है तो वह Debit के रूप में दर्ज होती है।

5- किसी खाते से खर्च की जाने वाली रकम।

 

 

 

 

Debited Meaning in English 

 

 

1- Record the amount withdrawn from the bank.

 

2- The amount spent on one side of the balance sheet.

 

3- Amount to be spent from an account.

 

 

 

Examples Of Debited (Debited शब्द के कुछ उदाहरण)

 

 

1- I have debited some money from my bank.

 

2- Some money has been debited from your bank account.

 

 

 

Debited शब्द के पर्यायवाची

 

 

1- Debit Entry

2- Paid 

3- Withdrawn

 

 

Debited के विलोम शब्द

 

 

1- Credited

2- Deposited 

3- Credit Entry 

 

 

Debited शब्द से सम्बंधित कुछ शब्द

 

 

1- Charged

2- Owed

3- Billed

4- Lending

5- Debit Entry 

6- Debit Card 

7- Taken Out

 

 

Debit का अर्थ अन्य भाषाओ में

 

 

Punjabi- ਡੈਬਿਟ

 

English- Debit

 

Marathi- डेबिट 

 

Gujrati- ઉધાર

 

 

 

Debit Card क्या होता है? What Is the Debit Card?

 

 

 

Debited Meaning In Hindi
Debited Meaning In Hindi

 

 

 

अगर सुविधा के बात करे तो Debit Card Credit Cardकी तरह ही होते है। बस फर्क सिर्फ इतना होता है कि जब आप डेविट कार्ड से आप अपने A/C से पैसे निकालते है या फिर किसी को Pay करते है तो जितना पैसा आप Pay करते है उतने पैसे आपके A/C से Debit हो जाते है।

 

 

 

 

उसके बाद आप जिसे Payment करते है उसके A/C से क़्वैरी जनरेट होकर आपके बैंक के पास पहुंचती है और फिर बैंक आपके A/C से डिडक्ट करके सामने वाले के A/C में क्रेडिट कर देती है

 

 

 

 

Debit Card और Credit Card में अंतर

 

 

 

 

Credit Card एक तरह से आपको एक निश्चित सीमा तक पैसे से खरीददारी करने की अनुमति देता है जिसे एक निश्चित समय में चुकाना होता है अन्यथा व्याज लग सकता है। (उस बैंक के नियम के अनुसार)

 

 

 

 

Debit Card आपके बैंक से जुड़ा होता है और खरीददारी की अनुमति देता है। यह एक तरह से Cash की तरह काम करता है। यानी कि आप जितना पैसे का सामान लेते है आप उतने पैसे इससे चुका सकते है। वशर्ते आपके A/C में उतना पैसा होना चाहिए।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Debited Meaning In Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और दूसरी पोस्ट नीचे की लिंक से जरूर पढ़ें।

 

 

 

1- Online Meaning in Hindi / ऑनलाइन को हिंदी में क्या कहते हैं ?

 

2- All Country Code in Hindi / +44 Kis Desh Ka Code Hai?

 

 

 

दिव्य ज्ञान सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

सकाम फल की प्राप्ति – भगवान कहते है कि इस संसार में मनुष्य सकाम कर्मो से सिद्धि चाहते है। फलस्वरूप वह देवताओ की पूजा में संलग्न रहते है। निस्संदेह इस संसार में मनुष्यो को सकाम कर्मो का फल शीघ्र प्राप्त होता है।

 

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का अर्थ – ईश्वर तो एक ही है किन्तु अंश अनेक है। वेदो का भी कथन है ‘नित्यो नित्यानाम’ ईश्वर एक है। इस जगत के देवताओ के विषय में भ्रांत धारणा है और विद्वता का दम्भ भरने वाले अल्पज्ञ मनुष्य इन देवताओ को परमेश्वर के अनेक रूप मान बैठते है किन्तु यह देवता ईश्वर के विभिन्न रूप नहीं होते किन्तु ईश्वर के विभिन्न अंश होते है।

 

 

 

 

(ईश्वरः परमः कृष्ण) कृष्ण ही एक मात्र परमेश्वर है और इन सभी देवताओ को इस भौतिक जगत के प्रबंध करने की शक्तिया प्राप्त है। ये सभी देवता जीवात्माएँ है जिन्हे विभिन्न मात्रा में भौतिक शक्तिया प्राप्त है। वह कभी भी परमेश्वर नारायण विष्णु (नित्यानाम)। या कृष्ण के तुल्य नहीं हो सकते है।

 

 

 

 

तो भी आश्चर्य की बात यह है कि अनेक मुर्ख लोग मनुष्यो के नेताओ की पूजा उन्हें अवतार मानकर करते है। इहः देवताः इस संसार के शक्तिशाली मनुष्य या देवता के लिए ही प्रयुक्त हुआ है। लेकिन नारायण, विष्णु या कृष्ण तो इस संसार के नहीं है। वह भौतिक शृष्टि से परे रहने वाले है।

 

 

 

 

जो व्यक्ति ईश्वर तथा देवताओ को एक स्तर पर सोचता है वह नास्तिक या पाखंडी कहलाता है। यहां तक कि ब्रह्मा तथा शिव जैसे बड़े देवता भी परमेश्वर की समता नहीं कर सकते है। जबकि वास्तविकता यह है कि ब्रह्मा तथा शिव जैसे देवताओ के द्वारा भगवान की पूजा की जाती है।

 

 

 

 

निर्विशेष वादियों के सबसे अग्रणी व्यक्ति श्रीपाद शंकराचार्य भी मानते है कि नारायण या कृष्ण भौतिक शृष्टि से परे है, फिर भी मुर्ख लोग (हृतज्ञान) देवताओ की पूजा करते है क्योंकि उन्हें तत्काल फल की आकांक्षा रहती है। उन्हें फल मिलता भी है लेकिन उन्हें मालूम नहीं कि ऐसे फल क्षणिक होते है और अल्पज्ञ मनुष्यो के लिए है।

 

 

 

 

देवताओ के वरदान भी भौतिक तथा क्षणिक होते है। यह भौतिक संसार तथा इसके निवासी जिनमे देवता तथा उनकी पूजा करने वाले भी सम्मिलित है। विराट सागर में बुलबुले के समान है, किन्तु इस संसार में मानव समाज क्षणिक वस्तुओ यथा संपत्ति परिवार तथा भोग की सामग्री के पीछे पागल रहता है।

 

 

 

 

बुद्धिमान व्यक्ति कृष्ण भावनामृत में स्थित रहता है। उसे किसी तत्काल क्षणिक लाभ के लिए किसी किसी तुच्छ देवता की पूजा करने की आवश्यकता नहीं रहती। इस संसार के देवता तथा उनके पूजक इस संसार के संहार के साथ विनष्ट हो जायेंगे।

 

 

 

 

ऐसी क्षणिक वस्तुओ को प्राप्त करने के लिए मनुष्य देवताओ की या मानव समाज के शक्तिशाली व्यक्तियों की पूजा करते है। यदि कोई व्यक्ति किसी राजनितिक व्यक्ति की पूजा करके ही सरकार में मंत्री का पद प्राप्त कर लेता है तो वह सोचता है उसे महान वरदान मिल गया है। इसलिए ही सभी व्यक्ति तथा कथित नेताओ को साष्टांग प्रणाम करते है।

 

 

 

 

वे सभी इन्द्रिय सुख के लिए दीवाने रहते है और थोड़े से भौतिक ऐन्द्रिक सुख के लिए ही शक्ति प्रदत्त जीवो की पूजा करते है, जिन्हे वह देवता कहते है। जिससे वह अधिक वरदान प्राप्त कर सके और सचमुच उन्हें ऐसी वस्तु मिल भी जाती है। ऐसे मुर्ख व्यक्ति इस संसार के कष्टों के स्थायी निवारण के लिए कृष्ण भावनामृत में अभिरुचि नहीं दिखाते है।

 

 

 

 

यहां इससे स्पष्ट हो जाता है कि विरले लोग ही अपने जीवन की समस्याओ के स्थाई समाधान के कृष्ण भावनामृत में जागृत होते है। जबकि अधिकांशतः लोग भौतिक भोग में तल्लीन रहते है। फलस्वरूप यह किसी न किसी शक्तिशाली व्यक्ति को पूजते रहते है।

 

 

 

Note- हम कॉपीराइट का पूरा सम्मान करते हैं। इस वेबसाइट Pdf Books Hindi द्वारा दी जा रही बुक्स, नोवेल्स इंटरनेट से ली गयी है। अतः आपसे निवेदन है कि अगर किसी भी बुक्स, नावेल के अधिकार क्षेत्र से या अन्य किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप हमें [email protected] पर सूचित करें। हम निश्चित ही उस बुक को हटा लेंगे। 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Debited Meaning In Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें, वहाँ आपको नयी बुक्स, नावेल, कॉमिक्स की जानकारी मिलती रहेगी।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —->अंधभक्त किसे कहते हैं ? अंधभक्ति के गुण

 

इसे भी पढ़ें —->रीयल मी किस देश की कंपनी है ?

 

 

 

Leave a Comment

स्टार पर क्लिक करके पोस्ट को रेट जरूर करें।