Advertisements

Chitrakala Pustak Pdf Hindi / चित्रकला पुस्तक pdf download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Chitrakala Pustak Pdf Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Chitrakala Pustak Pdf Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Namami Shamishan Pdf Hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Chitrakala Pustak Pdf Hindi

 

 

पुस्तक का नाम  Chitrakala Pustak Pdf Hindi
पुस्तक के लेखक  वाचस्पति गैरोला 
भाषा  हिंदी 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  23.39 Mb 
पृष्ठ  407 
श्रेणी  भारत 

 

 

 

चित्रकला पुस्तक pdf download

 

 

Advertisements
Chitrakala Pustak Pdf Hindi
Chitrakala Pustak Pdf Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Chitrakala Pustak Pdf Hindi
बिल्लू और फिल्म की हीरोइन हिंदी कॉमिक्स यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Chitrakala Pustak Pdf Hindi
हरी मौत राज कॉमिक्स Pdf Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

सन 1640 और 1641 के समय बीजापुर महाराष्ट्र पर विदेशियों और राजाओं के आक्रमण हो रहे थें. शिवाजी महाराज मावलों को बीजापुर के विरुद्ध इकट्ठा करने लगे. मावल राज्य में सभी जाति के लोग निवास करते हैं, बाद में शिवाजी महाराज ने इन मावलो को एक साथ आपस में मिलाया और मावला नाम दिया।

इन मावलों ने कई सारे दुर्ग और महलों का निर्माण करवाया था. इन मावलो ने शिवाजी महाराज का बहुत भी ज्यादा साथ दिया. बीजापुर उस समय आपसी संघर्ष और मुगलों के युद्ध से परेशान था जिस कारण उस समय के बीजापुर के सुल्तान आदिलशाह ने बहुत से दुर्गो से अपनी सेना हटाकर उन्हें स्थानीय शासकों के हाथों में सौप दी दिया था।

तभी अचानक बीजापुर के सुल्तान बीमार पड़ गए थे और इसी का फायदा देखकर शिवाजी महाराज ने अपना अधिकार जमा लिया था. शिवाजी ने बीजापुर के दुर्गों को हथियाने की नीति अपनायी और पहला दुर्ग तोरण का दुर्ग को अपने कब्जे में ले लिया था।

 

 

 

तोरण का दुर्ग पूना (पुणे) में हैं. शिवाजी महाराज ने सुल्तान आदिलशाह के पास अपना एक दूत भेजकर खबर भिजवाई की अगर आपको किला चाहिए तो अच्छी रकम देनी होगी, किले के साथ-साथ उनका क्षेत्र भी उनको सौपं दिया जायेगा. शिवाजी महाराज इतने तेज और चालाक थे की आदिलशाह के दरबारियों को पहले से ही खरीद लिया था.

 

 

 

शिवाजी जी के साम्राज्य विस्तार नीति की भनक जब आदिलशाह को मिली थी तब वह देखते रह गया. उसने शाहजी राजे को अपने पुत्र को नियंत्रण में रखने के लिये कहा लेकिन शिवाजी महाराज ने अपने पिता की परवाह किये बिना अपने पिता के क्षेत्र का प्रबन्ध अपने हाथों में ले लिया था और लगान देना भी बंद कर दिया था।

वे 1647 ई. तक चाकन से लेकर निरा तक के भू-भाग के भी मालिक बन चुके थें. अब शिवाजी महाराज ने पहाड़ी इलाकों से मैदानी इलाकों की और चलना शुरू कर दिया था. शिवाजी जी ने कोंकण और कोंकण के 9 अन्य दुर्गों पर अपना अधिकार जमा लिया था. शिवाजी महाराज को कई देशी और कई विदेशियों राजाओं के साथ-साथ युद्ध करना पड़ा था और सफल भी हुए थे।

बीजापुर के सुल्तान शिवाजी महाराज की हरकतों से पहले ही गुस्से में था. सुल्तान ने शिवाजी महाराज के पिता को बंदी बनाने का आदेश दिया था. शाहजी उनके पिता उस समय कर्नाटक राज्य में थें और दुर्भाग्य से शिवाजी महाराज के पिता को सुल्तान के कुछ गुप्तचरों ने बंदी बना लिया था।

मित्रों यह पोस्ट Chitrakala Pustak Pdf Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Chitrakala Pustak Pdf Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!