Advertisements

चन्द्रगुप्त नाटक Pdf / Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Educational Psychology pd Pathak pdf कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf Download

 

 

 

पुस्तक का नाम  Chandragupt Natak 
पुस्तक के लेखक  जयशंकर प्रसाद 
भाषा  हिंदी 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  6.45 Mb 
पृष्ठ  282 
श्रेणी  नाटक 

 

 

 

Advertisements
Chandragupt Natak
Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Ret Samadhi Book Pdf Hindi
रेत समाधि उपन्यास Pdf Download
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

उसका साधन कठिन है और उसमे मन के लिए कोई आधार नहीं है। बहुत कष्ट करने पर कोई उसे प्राप्त कर भी लेता है तो वह भी भक्ति रहित होने से मुझको प्रिय नहीं होता। भक्ति स्वतंत्र है और सब सुखो का भंडार है। परन्तु संतो के संग के बिना प्राणी इसे नहीं प्राप्त कर सकते है और पुण्य समूह के बिना संत नहीं मिलते।

 

 

 

सत्संगित ही जन्म-मरण के चक्र का अंत करती है। जगत में पुण्य केवल एक है उसके समान दूसरा नहीं है। वह है – मन, कर्म और वचन से ब्राह्मणो के चरणों की पूजा करना। जो कपट त्याग करके ब्राह्मणो की सेवा करता है। उस पर मुनि और देवता प्रसन्न रहते है।

 

 

 

और भी एक गुप्त मत है मैं उसे सबसे हाथ जोड़कर कहता हूँ कि शंकर जी के भजन के बिना मनुष्य मेरी भक्ति नहीं प्राप्त कर सकता है।

 

 

 

कहो तो, भक्ति मार्ग में कौन सा परिश्रम है? इसमें न योग की आवश्यकता है। न यज्ञ, जप, तप और उपवास की। यहां इतना ही आवश्यक है कि सरल स्वभाव हो, मन में कुटिलता न हो और जो कुछ भी मिले उसमे ही सदा संतोष रखे। मेरा दास कहलाकर यदि कोई मनुष्यो की आशा करता है तो तुम्ही कहो उसका क्या विश्वास है।

 

 

 

अर्थात उसकी आस्था मुझपर बहुत ही निर्बल है। बहुत बात बढ़ाकर क्या कहूं? हे भाइयो! मैं तो इसी आचरण के वश में हूँ। न किसी से बैर करे, न लड़ाई झगड़ा करे, न आशा रखे न भय करे। उसके लिए सभी दिशाए सदा सुखमयी है। जो कोई भी फल की इच्छा से कर्म नहीं करता है जिसकी घर में ममता नहीं है।

 

 

 

हे नाथ! न तो मुझे कुछ संदेह है और न स्वप्न में भी शोक और मोह है। हे कृपा और आनंद के समूह! यह केवल आपकी कृपा का ही फल है।

 

 

 

तथापि हे कृपानिधान! मैं आपसे एक धृष्टता करता हूँ। मैं सेवक हूँ और आप सेवक को सुख देने वाले है। इससे मेरी धृष्टता को क्षमा करिये और मेरे प्रश्न का उत्तर देकर सुख प्रदान करिये। हे रघुनाथ जी! वेद-पुराणों ने बहुत प्रकार से संतो की महिमा का गायन किया है। आपने भी अपने मुख से उनकी बड़ाई किया है और उनपर प्रभु आपका प्रेम भी बहुत है। हे प्रभो! मैं उनके लक्षण सुनना चाहता हूँ। आप कृपा के सागर है और गुण तथा ज्ञान में अत्यंत निपुण है।

 

 

 

हे शरणागत का पालन करने वाले! संत और असंत के भेद अलग-अलग करके मुझको समझाकर कहिए। श्री राम जी ने कहा – हे भाई! संतो के लक्षण असंख्य है, जो वेद और पुराणों में प्रसिद्ध है। संत और असन्तो की करनी ऐसी है जैसे लकड़हारे और चंदन का होता है। हे भाई! सुनो, लकड़हारा चंदन के वृक्ष को हानि पहुंचाता है किन्तु चंदन का वृक्ष अपने स्वभाव वश अपना गुण उस लकड़हारे को सुगंध से सुवासित कर देता है।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Chandragupt Natak Jayashankar Prasad Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!