Advertisements

Chamatkari Jadi Buti Pdf / चमत्कारी जड़ी-बूटी Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Chamatkari Jadi Buti Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Chamatkari Jadi Buti Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से तांत्रिक जड़ी बूटी इन हिंदी Pdf भी डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Chamatkari Jadi Buti Pdf / चमत्कारी जड़ी-बूटी पीडीएफ

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements
Chamatkari Jadi Buti Pdf
चमत्कारी जड़ी-बूटी Pdf Download
Advertisements

 

 

 

Chamatkari Jadi Buti Pdf
तांत्रिक जड़ी बूटी इन हिंदी Pdf Download
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

राजा ने प्रेम से बिलखते हुए गदगद होकर कहा – भरत जी भूलकर भी श्री राम जी की आज्ञा को नहीं टालेंगे। अतः स्नेह के वश होकर चिंता नहीं करनी चाहिए।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- श्री राम जी और भरत जी के गुणों की प्रेम पूर्वक गणना करते हुए पति-पत्नी को रात पल के समान बीत गयी। प्रातःकाल दोनों राज समाज जागे और नहाकर देवताओ की पूजा करने लगे।

 

 

 

 

2- श्री रघुनाथ जी स्नान करके गुरु वशिष्ठ जी के पास गए और चरण वंदना करके उनका रुख मिलने पर बोले – हे नाथ! भरत, अवधपुर वासी तथा माताए सब शोक से व्याकुल और वनवास से दुखी है।

 

 

 

 

3- मिथिलापति राजा जनक जी को भी समाज के साथ क्लेश सहते हुए बहुत दिन बीत गए। इसलिए हे नाथ! जो उचित हो वही करिये। आपके हाथ में ही सबका हित है।

 

 

 

 

4- ऐसा कहते हुए रघुनाथ जी अत्यंत ही सकुचा गए। उनका शील स्वभाव देखकर प्रेम और आनंद से मुनि वशिष्ठ जी पुलकित हो गए। उन्होंने कहा – हे राम! तुम्हारे बिना घर बार और सम्पूर्ण सुख के साज दोनों राज समाज को नरक के समान है।

 

 

 

 

290- दोहा का अर्थ-

 

 

 

हे राम! तुम प्राणो के भी प्राण, आत्मा के भी आत्मा और सुख के भी सुख हो। हे तात! तुम्हे छोड़कर जिसे घर सुहाता है उनके लिए विधाता ही विपरीत है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- जहां श्री राम जी के चरणों में प्रेम नहीं है। वहां सुख, कर्म और धर्म खत्म हो जाय। जिसमे श्री राम के प्रेम की प्रधानता नहीं है वह योग कुयोग है और ज्ञान अज्ञान है।

 

 

 

 

2- तुम्हारे बिना ही सब दुखी है और जो सुखी है वह तुमसे ही सुखी है। कृपालु आपको तो सभी की स्थिति अच्छी तरह से मालूम है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Chamatkari Jadi Buti Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!