Advertisements

Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi / भारतीय संस्कृति Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से Hanuman Vadvanal Stotra Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi Download

 

 

पुस्तक का नाम  Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi
पुस्तक के लेखक  प्रो. शिवदत्त ज्ञानी 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  11.73 Mb 
पृष्ठ  625 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  भारत 

 

 

 

Advertisements
Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi
Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Prithvi Nath Pandey Hindi Book Pdf
सामान्य हिंदी पृथ्वी नाथ पांडेय हिंदी बुक Pdf Download
Advertisements

 

 

Advertisements
Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi
Raghuvansham Pdf in Hindi यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

अथवा जो सबके एकमात्र मूल है उन भगवान शिव की ही पूजा सबसे बढ़कर है क्योंकि मूल के सीचे जाने पर शाखा स्थानीय सम्पूर्ण देवता स्वतः तृप्त हो जाते है। अतः जो सम्पूर्ण मनोवांछित फलो को पाना चाहता है वह अपने अभीष्ट की सिद्धि के लिए समस्त प्राणियों के हित में तत्पर रहकर लोक कल्याणकारी भगवान शंकर का पूजन करे।

 

 

 

 

ब्रह्मा जी कहते है – अब मैं पूजा की सर्वोत्तम विधि बता रहा हूँ जो समस्त अभीष्ट तथा सुखो को सुलभ करने वाली है। देवताओ तथा ऋषियों! तुम ध्यान देकर सुनो। उपासक को चाहिए कि वह ब्रह्म मुहूर्त में शयन से उठकर जगदंबा पार्वती सहित भगवान शंकर का स्मरण करे तथा हाथ जोड़ मस्तक झुकाकर भक्ति पूर्वक उनसे प्रार्थना करे।

 

 

 

 

देवेश्वर! उठिये, उठिये। मेरे हृदय मंदिर में शयन करने वाले देवता! उठिये! उमाकांत! उठिये और ब्रह्माण्ड में सबका मंगल कीजिए। मैं धर्म को जानता हूँ किन्तु उसमे मेरी प्रवृत्ति नहीं होती। मैं अधर्म को जानता हूँ परन्तु मैं उससे दूर नहीं हो पाता। महादेव! आप मेरे हृदय में स्थित होकर मुझे जैसी प्रेरणा देते है वैसा ही मैं करता हूँ।

 

 

 

 

इस प्रकार भक्ति पूर्वक कहकर और गुरुदेव की चरण पादुकाओं का स्मरण करके गांव से बाहर दक्षिण दिशा में मल-मूत्र का त्याग करने के लिए जाए। मलत्याग करने के बाद आप मिट्टी और जल से धोने के द्वारा शरीर की शुद्धि करके दोनों हाथो और पैरो को धोकर दतुअन करे।

 

 

 

 

सूर्योदय होने से पहले ही दतुअन करके मुंह को सोलह बार जल की अंजलियो से धोये। देवताओ तथा ऋषियों! षष्ठी, अमावस्या, प्रतिपदा और नवमी तिथियों तथा रविवार के दिन शिव भक्त को यत्न पूर्वक दतुअन को त्याग देना चाहिए। अवकाश के अनुसार नदी आदि में जाकर अथवा घर में ही भली भांति स्नान करे।

 

 

 

 

मनुष्य को देश और काल के विरुद्ध स्नान नहीं करना चाहिए। रविवार, श्राद्ध संक्रांति, ग्रहण, महादान, उपवास दिवस, तीर्थ होने पर मनुष्य गरम जल से स्नान न करे। शिव भक्त मनुष्य तीर्थ आदि में प्रवाह के सम्मुख होकर स्नान करे। जो नहाने के पहले तेल लगाना चाहे उसे विहित एवं निषिद्ध दिनों का विचार करके ही तैलाभ्यंग करना चाहिए।

 

 

 

 

जो हर रोज नियम पूर्वक तेल लगाता हो उसके लिए किसी दिन भी तैलाभ्यंग दूषित नहीं है अथवा जो तेल इत्र आदि से वासित हो उसका लगाना किसी दिन भी दूषित नहीं है। सरसो का तेल ग्रहण को छोड़कर दूसरे किसी दिन भी दूषित नहीं होता। इस तरह देश काल का विचार करके ही विधि पूर्वक स्नान करे।

 

 

 

 

स्नान के समय अपने मुख को उत्तर अथवा पूर्व की ओर रखना चाहिए। उच्छिष्ट वस्त्र का उपयोग कभी न करे। शुद्ध वस्त्र से इष्ट देव के स्मरण पूर्वक स्नान करे। जिस वस्त्र को दूसरे ने धारण किया हो अथवा जो दूसरों के पहनने की वस्तु हो तथा जिसे स्वयं रात में धारण किया गया हो वह वस्त्र उच्छिष्ट कहलाता है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Bhartiya Sanskriti Pdf in Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!