Advertisements

Asli Prachin Kali Kitab Pdf / असली प्राचीन काली किताब Pdf

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Asli Prachin Kali Kitab Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Asli Prachin Kali Kitab Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से लाल किताब Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Asli Prachin Kali Kitab Pdf / असली प्राचीन काली किताब पीडीएफ 

 

 

 

Advertisements
Asli Prachin Kali Kitab Pdf
यहां से असली प्राचीन काली किताब Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

 

 

लाल किताब Pdf Download
यहां से लाल किताब Pdf Download करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

श्री राम जी के मुख रूपी चन्द्रमा की छवि को सबके सुंदर नेत्र रूपी चकोर पान कर रहे है, फिर भी आनंद कम नहीं हो रहा है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- समय देखकर वशिष्ठ जी ने शतानन्द जी को आदर पूर्वक बुलाया, वह सभी आदर के साथ आये। वशिष्ठ जी ने कहा – अब जाकर राजकुमारी को शीघ्र ले आइये। मुनि की आज्ञा पाकर वह सब प्रसन्न होकर चले।

 

 

 

 

2- बुद्धिमती रानी पुरोहित की वाणी सुनकर सखियों समेत बहुत ही प्रसन्न हुई। ब्राह्मणो की स्त्रियों और कुल की बूढी स्त्रियों को बुलाकर उन्होंने कुल रीति करके सुंदर मंगल गीत गाये।

 

 

 

 

3- श्रेष्ठ देवांगनाएँ, जो सुंदर मनुष्य की स्त्रियों के वेश में है। सभी स्वाभाविक रूप से सुंदरी और श्यामा है, वह सब सोलह वर्ष की अवस्था वाली है। उन्हें देखकर रनिवास की सारी स्त्रियां सुख पाती है और बिना पहचान के ही वह सबको प्राणो से अधिक प्यारी लग रही है।

 

 

 

 

4- रानी उन्हें पार्वती, लक्ष्मी, सरस्वती के समान समझते हुए बार-बार उनका सम्मान करती है। रनिवास की स्त्रियां और सखियाँ, सीता जी का श्रृंगार करके, मंडली बनाकर प्रसन्न होकर उन्हें मंडप में लेकर गई।

 

 

 

अवधपुरी में रघुकुल शिरोमणि दशरथ नाम के एक राजा हुए, जिनका नाम वेदो में विख्यात है, वह धर्म धुरंधर, गुणों के भंडार और ज्ञानी थे। उनके हृदय में शारंग धनुष करने वाले भगवान की भक्ति थी और उनकी बुद्धि भी उसी भक्ति में लगी रहती थी।

 

 

 

 

मित्रों, यह पोस्ट Asli Prachin Kali Kitab Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!