Advertisements

Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Anil Mohan Novel Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Crime investigation book in Hindi Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download

 

 

 

Advertisements
Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download
हुक्म मेरे आका नॉवेल Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download
दुबई का आका नॉवेल Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

Anil Mohan Novels Devraj Chauhan Series Pdf
Anil Mohan Novels Devraj Chauhan Series Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download
बबूसा का चक्रव्यूह नॉवेल Pdf यहां से डाउनलोड करे।
Advertisements

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

हमारी नजर में उनका स्थान सबसे अग्रणी है और रहेगा। पराग बोले – तुम्हे वहां गांव में भी कार्तिक को समझने के लिए अच्छे ढंग से मौका मिल जायेगा। आभा बोली – कार्तिक जी आज इस आधुनिक दौर में कोयले के बीच से बचकर निकलने की कला अच्छी तरह से जानते है।

 

 

 

हम लोग को उन्हें धोखा में नहीं रखना चाहिए था लेकिन हमारी भी मजबूरी थी। हम भी कार्तिक जी को परखने में सफल हो गए इसमें मांजी का बहुत सहयोग मिला। रचना दीदी और प्रिया दीदी हमारे इस राज को जानती थी लेकिन उन्होंने भी पूरा सहयोग किया।

 

 

हमारी सोच में यहां आने के बाद बदलाव हो गया अभी ऐसे कई लोग है जो कोयले और उसके काले रंग से बचकर निकलने में माहिर है। पराग बोले – अच्छा तुम्हारे गांव जाने का समय हो गया है। आभा पहले से ही तैयार थी। वह केतकी को प्रणाम करके पराग के साथ स्टेशन के लिए चल पड़ी।

 

 

 

पराग और केतकी दोनों स्टेशन पर आ गए थे। आभा को रेलगाड़ी के डिब्बे में बैठाकर पराग उतर पड़े क्योंकि गाड़ी जाने का समय हो गया था। दो मिनट के बाद गाड़ी अपने गंतव्य स्थान के लिए चल पड़ी थी।

 

 

 

कार्तिक अपने गांव कीरतपुर पहुँच गया। विरजू ने उसकी खूब आवभगत किया। विरजू की लड़की चुनमुन उसे कुछ समय तक अजनबी की तरह देखती रही। विरजू ने उसे बताया कि यह तुम्हारे कार्तिक भैया है तो वह कुछ समय के बाद उसे छोड़ने के नाम ही नहीं लेती थी।

 

 

 

चुनमुन बोली – कार्तिक भइया! आप हमारे लिए क्या लाये हो? कार्तिक भी चुनमुन से पूछ लिया – तुम्हे क्या चाहिए? चुनमुन बोली – मुझे तो ढेर सारे खिलौने चाहिए और बिस्किट! कार्तिक चुनमुन को लेकर बाजार चला गया और उसकी पसंद का ढेर सारा खिलौना और बिस्किट खरीद लाया।

 

 

 

विरजू गाय का दूध निकाल चुका था। गाय का बछड़ा दूध पीने के बाद इधर-उधर दौड़ लगा रहा था। चुनमुन बोली – कार्तिक भइया! वह देखो हमारी गाय का बच्चा है क्या आप उसे पकड़ सकते हो? कार्तिक बोला – मैं उसे अभी पकड़ लाता हूँ।

 

 

 

कार्तिक बछड़े को पकड़ने गया तो वह दौड़कर भाग गया काफी प्रयास के बाद भी वह गाय के बछड़े को पकड़ने में सफल नहीं हो सका। चुनमुन बोली – अब मैं उसे पकड़ती हूँ। चुनमुन ने थोड़ी सी घास को उखाड़कर अपने हाथ में लिया और उसे बछड़े को दिखाते हुए बोली – आजा कालू! आजा कालू!

 

 

 

बछड़ा फौरन ही चुनमुन के पास चला आया और थोड़ा-थोड़ा करके चुनमुन के हाथ से घास को खाने का प्रयास करने लगा। कार्तिक बोला – चुनमुन यह गाय का बच्चा तुम्हे अच्छी तरह से पहचानता है। चुनमुन बोली – कार्तिक भइया! हम लोगो को यह हमेशा ही देखता है इसलिए हम लोगो को पहचानता है।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Anil Mohan Novel Hindi Pdf आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Anil Mohan Novel Hindi Pdf Download की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!