Advertisements

असामान्य मनोविज्ञान Pdf / Abnormal Psychology PDF In Hindi

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Abnormal Psychology PDF In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Abnormal Psychology PDF In Hindi download कर सकते हैं और आप यहां से Simple Homeopathic Medicine PDF Hindi कर सकते हैं।

Advertisements

 

 

 

 

 

 

Abnormal Psychology PDF In Hindi

 

पुस्तक का नाम  Abnormal Psychology PDF In Hindi
पुस्तक के लेखक  जगदानंद पाण्डेय 
भाषा  हिंदी 
साइज  18.7 Mb 
पृष्ठ  348 
फॉर्मेट  Pdf 
श्रेणी  मनोवैज्ञानिक 

 

 

असामान्य मनोविज्ञान Pdf download

 

Advertisements
Abnormal Psychology PDF In Hindi
Abnormal Psychology PDF In Hindi Download यहां से करे।
Advertisements

 

 

Advertisements
Agatha Christie Books Pdf in Hindi
उपन्यास यहाँ से डाउनलोड करें। 
Advertisements

 

 

 

Advertisements
Abnormal Psychology PDF In Hindi
रक्त मंडल नावेल फ्री डाउनलोड
Advertisements

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

तिथि, सप्ताह के दिन, नक्षत्रों, महीने, मौसम और सूर्य की स्थिति के आधार पर, कुछ विशिष्ट धार्मिक संस्कार और समारोह करने होते हैं। इन्हें व्रत के नाम से जाना जाता है। चंद्र पखवाड़े के पहले दिन को परतीपदा के नाम से जाना जाता है।

 

 

 

कार्तिक, अश्विन और चैत्र के महीनों में प्रतिपदा के दिन ब्रह्मा की तिथियां हैं। तभी ब्रह्मा की पूजा करनी चाहिए। चंद्र पखवाड़े के दूसरे दिन केवल फूल खाना चाहिए और दो अश्विनी को प्रार्थना करनी चाहिए। यह प्रार्थना करने वाले को सुंदर और भाग्यशाली बनाता है।

 

 

 

शुक्लपक्ष वह चंद्र पखवाड़ा है जिसमें चंद्रमा बढ़ता है और कृष्णपक्ष वह चंद्र पखवाड़ा होता है जिसमें चंद्रमा कम हो जाता है। कार्तिक मास में शुक्लपक्ष द्वितीया को यम की पूजा के लिए रखा गया है। यदि कोई इस व्रत को करता है, तो उसे नरक में जाने की आवश्यकता नहीं है।

 

 

 

यह बलराम और कृष्ण से प्रार्थना करने का दिन भी है। यह चंद्र पखवाड़े के तीसरे दिन, शुक्लपक्ष में और चैत्र के महीने में, शिव ने पार्वती या गौरी से विवाह किया था। इस दिन किए जाने वाले संस्कारों को गौरीव्रत के नाम से जाना जाता है। शिव और पार्वती को फलों का प्रसाद देना चाहिए।

 

 

 

पार्वती के आठ नामों का जाप करना है। ये ललिता, विजया, भाद्र, भवानी, कुमुदा, शिव, वासुदेवी और गौरी हैं। चतुर्थी व्रत चंद्र पखवाड़े के चौथे दिन, शुक्लपक्ष में और माघ महीने में किया जाता है। यह सामान्य देवताओं (गणदेवता) की पूजा करने का दिन है।

 

 

 

इस अवसर पर प्रसाद शराब और सुगंधित इत्र हैं। चंद्र पखवाड़े के पांचवें दिन, व्यक्ति पंचमी व्रत करता है। यह अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है और अशुभ संकेतों का ख्याल रखता है। श्रावण, भाद्र, अश्विन और कार्तिक के महीनों में शुकपक्षों को पंचमी व्रत के लिए विशेष रूप से शुभ माना जाता है।

 

 

 

चंद्र पखवाड़े के छठे दिन व्यक्ति षष्ठी व्रत करता है। मनुष्य को केवल फल पर रहना होता है और यदि कोई इस व्रत को करता है, तो जो भी कर्म करता है उसका फल हमेशा के लिए जीवित रहता है। षष्ठी व्रत विशेष रूप से कार्तिक और भाद्र के महीनों में मनाया जाना चाहिए।

 

 

 

चंद्र पखवाड़े के सातवें दिन सूर्य की पूजा करनी है। यदि शुक्लपक्ष में सप्तमी का व्रत किया जाए तो सारे दुख दूर हो जाते हैं। पापों का प्रायश्चित होता है और सभी मनोकामनाएं प्राप्त होती हैं। जिन महिलाओं के कोई संतान नहीं है, यदि वे इन संस्कारों का पालन करती हैं तो उनके पुत्र हो सकते हैं।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Abnormal Psychology PDF In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Abnormal Psychology PDF In Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Comment

Advertisements
error: Content is protected !!