Advertisements

Aahar Chikitsa Pdf / आहार चिकित्सा Pdf Download

Advertisements

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Aahar Chikitsa Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Aahar Chikitsa Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से स्वदेशी चिकित्सा पार्ट 2 Pdf Download कर सकते हैं।

 

Advertisements

 

 

 

Aahar Chikitsa Pdf / आहार चिकित्सा पीडीएफ

 

 

पुस्तक का नाम आहार चिकित्सा
पुस्तक के लेखक वैद्य सुरेश चतुर्वेदी 
पुस्तक की भाषा हिंदी 
श्रेणी चिकित्सा, स्वास्थ्य 
फॉर्मेट Pdf
साइज 2.4 Mb
कुल पृष्ठ 182

 

 

 

आहार चिकित्सा पीडीऍफ़ डाउनलोड

 

Advertisements
Aahar Chikitsa Pdf
Aahar Chikitsa Pdf
Advertisements

 

 

मिट्टी चिकित्सा Pdf Download

 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

जब तक मैं सीता जी को देखकर लौट न आऊं। काम अवश्य होगा, क्योंकि मुझे बहुत हर्ष हो रहा है। यह कहकर और सबको मस्तक नवाकर तथा अपने हृदय में श्री रघुनाथ जी को धारण करके हनुमान जी हर्षित होकर चले।

 

 

 

 

समुद्र के निकट पर एक सुंदर पर्वत था। हनुमान जी खेल-खेल में अनायास ही उसके ऊपर कूदकर चढ़ गए और बार-बार रघुवीर का स्मरण करके अत्यंत बलवान हनुमान जी उसके ऊपर से बड़े वेग से उछले।

 

 

 

 

जिस पर्वत के ऊपर श्री रघुनाथ जी पैर रखकर उछले वह तुरंत ही पाताल में चला गया। जैसे श्री रघुनाथ जी अमोघ चलाते है उसी तरह से हनुमान जी चले।

 

 

 

 

समुद्र ने उन्हें श्री रघुनाथ जी का दूत समझकर मैनाक पर्वत से कहा कि हे मैनाक! तू इनकी थकावट दूर करने के लिए इन्हे अपने ऊपर विश्राम दे।

 

 

 

 

1- दोहा का अर्थ-

 

 

 

हनुमान जी ने उसे हाथ से छू कर कहा – हे भाई! श्री राम जी का कार्य किए बिना मुझे विश्राम कहाँ?

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

 

देवताओ ने पवन पुत्र को जाते हुए देखा। उनकी विशेष बल बुद्धि को जानने के लिए और परीक्षा लेने के लिए उन्होंने सर्पो की माता सुरसा को पठाया उसने आकर हनुमान जी से यह बात कही।

 

 

 

 

आज देवताओ ने मुझे भोजन दिया है। यह वचन सुनकर पवन कुमार हनुमान जी ने कहा श्री राम जी का कार्य करके मैं लौट आऊं और सीता जी की खबर प्रभु को सुना दूँ।

 

 

 

 

तब आकर मैं तुम्हारे मुंह में घुस जाऊंगा और तुम मुझे खा लेना। हे माता! मैं सत्य कहता हूँ अभी मुझे जाने दो जब किसी भी उपाय से उसने जाने नहीं दिया तब हनुमान जी ने कहा तो फिर मुझे खा ले न।

 

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Aahar Chikitsa Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!