108 Names of Lord Krishna in Hindi Pdf / भगवान कृष्ण के 108 नाम

मित्रों इस पोस्ट में 108 Names of Lord Krishna in Hindi दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से 108 Names of Lord Krishna in Hindi Pdf Free Download कर सकते हैं।

 

 

 

108 Names of Lord Krishna in Hindi Pdf भगवान कृष्ण के 108 नाम 

 

 

 

 

 

 

1. अचला – भगवान                

 

2. अव्युक्ता – भाणम की तरह स्पष्ट        

 

3. बालगोपाल – भगवान कृष्ण का बाल रूप         

 

4. अच्युत – अचूक प्रभु             

 

5. अनादिह – सर्वप्रथम है जो       

 

6. अनिरुद्धा – जिनका अवरोध न किया जा सके          

 

7. अद्भुतह – अद्भुत प्रभु               

 

8. आनंद सागर – कृपा करने वाले          

 

9. अपराजित – जिन्हे हराया न जा सके             

 

10. अनंतजित – हमेशा विजयी होने वाले         

 

11. आदिदेव – देवताओ के स्वामी              

 

12. अम्रुत – अमृत जैसा स्वरूप वाले            

 

13. आदित्या – देवी अदिति के पुत्र              

 

14. अनंता – अंतहीन देव             

 

15. अजंमा – जिनकी शक्ति असीम हो               

 

16. अक्षरा – अविनाशी प्रभु            

 

17. अनया – जिनका कोई स्वामी न हो               

 

18. अजया – जीवन और मृत्यु के विजेता                 

 

19. जगदीशा – सभी के रक्षक            

 

20. गोपाल – ग्वालो के साथ खेलने वाले          

 

21. धर्माध्यक्ष – धर्म के स्वामी             

 

22. जगतगुरु – ब्रह्माण्ड के गुरु              

 

23. ऋषिकेश – सभी इन्द्रियों के दाता             

 

24. ज्ञानेश्वर – ज्ञान के भगवान                  

 

25. देवेश – ईश्वरो के भी ईश्वर             

 

26. हरि – प्रकृति के देवता                

 

27. दयालु – करुणा के भंडार            

 

28. चतुर्भुज – चार भुजाओ वाले             

 

29.  बलि – सर्व शक्तिमान                   

 

30. देवकीनंदन – देवकी के पुत्र                   

 

31. द्वारकाधीश – द्वारका के अधिपति              

 

32. दानवेन्द्रो – वरदान देने वाले             

 

33. गोपालप्रिया – ग्वालो के प्रिय              

 

34. हिरन्यगर्भा – सबसे शक्तिशाली प्रजापति              

 

35. गोविंदा – गाय, भूमि और प्रकृति को चाहने वाले               

 

36. देवाधिदेव – देवो के देव            

 

37. दयानिधि – सब पर दया करने वाले               

 

38. मयूर – मुकुट पर मोर पंख धारण करने वाले              

 

39. कमलनयन – जिनके कमल के समान नेत्र है             

 

40. मनमोहन – सबका मन मोह लेने वाले              

 

41. माधव – ज्ञान के भंडार                 

 

42. ज्योतिरादित्य – जिनमे सूर्य की चमक है             

 

43. मदन – प्रेम के प्रतीक           

 

44. मनोहर – बहुत ही सुंदर रंग रूप वाले           

 

45. जगन्नाथ – ब्रह्माण्ड के ईश्वर             

 

46. कमलनाथ – देवी लक्ष्मी के प्रभु            

 

47. मधुसूदन – मधु दानव का वध करने वाले               

 

48. जयंतह – सभी दुश्मनो को पराजित करने वाले            

 

49. कंजलोचन – जिनके कमल के समान नेत्र है                 

 

50. लोकाध्यक्ष – तीनो लोक के स्वामी               

 

51. कृष्ण – सांवले रंग वाले             

 

52. जनार्धना – सभी को वरदान देने वाले               

 

53. कामसान्तक – कंस का वध करने वाले             

 

54. लक्ष्मीकांत – देवी लक्ष्मी के प्रभु            

 

55. महेंद्र – इंद्र के स्वामी            

 

56. मोहन – सभी को आकर्षित करने वाले                          

 

57. रविलोचन – सूर्य जिनका नेत्र है           

 

58. प्रजापति – सभी प्राणियों के नाथ           

 

59. मुरलीमनोहर – मुरली बजाकर मोहने वाले      

 

60. नारायन – सबको शरण में लेने वाले          

 

61. परब्रह्मन -परम् सत्य              

 

62. पुण्य – निर्मल व्यक्तित्व           

 

63. मुरली – बांसुरी बजाने वाले प्रभु            

 

64. नंदगोपाल – नंद बाबा के पुत्र            

 

65. परमात्मा – सभी प्राणियों के प्रभु           

 

66. पुर्शोत्तम – उत्तम पुरुष               

 

67. मुरलीधर – मुरली धारण करने वाले         

 

68. पार्थसार्थी – अर्जुन के सारथी            

 

69. निरंजन – सर्वोत्तम                

 

70. पद्मनाभ – जिनकी कमल के आकर की नाभि हो              

 

71. निर्गुण – जिनमे कोई अवगुण नहीं       

 

72. परमपुरुष – श्रेष्ठ व्यक्तित्व वाले          

 

73. पद्महस्ता – जिनके कमल की तरह हाथ है              

 

74. स्वर्ग पति – स्वर्ग के राजा        

 

75. सहस्रजित – हजारो को जीतने वाले           

 

76. सनातन – जिनका कभी अंत न हो            

 

77. सर्वेश्वर – समस्त देवो से ऊंचे            

 

78. श्रेष्ठ – महान            

 

79. सुरेशम – सभी जीव जन्तुओ के देव            

 

80. श्यामसुंदर – सांवले रंग में भी सुंदर दिखने वाले             

 

81. साक्षी – समस्त देवो के गवाह          

 

82.श्रीकांत – अद्भुत सौंदर्य के स्वामी             

 

83. सुमेध – सर्वज्ञानी            

 

84. श्याम – जिनका रंग सांवला हो              

 

85. सर्वपालक – सभी का पालन करने वाले             

 

86. सत्यवचन – सत्य कहने वाले          

 

87. सत्यवत – श्रेष्ठ व्यक्तित्व वाले देव            

 

88. सुदर्शन – रूपवान                 

 

89. सहस्रकाश – हजार आंख वाले प्रभु                

 

90. सहस्रपात – जिनके हजारो पैर हो            

 

91. सर्वजन – सब कुछ जानने वाले               

 

92. शंतह – शांत भाव वाले                

 

93. योगिनाम्पति – योगियों के स्वामी              

 

94. विश्वकर्मा – ब्रह्माण्ड के निर्माता              

 

95. विश्वात्मा – ब्रह्माण्ड की आत्मा             

 

96. त्रिविक्रमा – तीनो लोको के विजेता            

 

97. विश्वदक्शिनह – निपुण               

 

98. यदवेंद्रा – यादव वंश के मुखिया              

 

99. वर्धमानह – जिनका कोई आकार न हो                

 

100. उपेंद्र – इंद्र के भाई             

 

101. विश्वरूपा – ब्रह्माण्ड हित के लिए रूप धारण करने वाले           

 

102. योगी – प्रमुख गुरु          

 

103. वृषपर्व – धर्म के भगवान                          

 

104. विष्णु – भगवान विष्णु के स्वरूप            

 

105. बैकुण्ठनाथ – स्वर्ग में रहने वाले      

 

106. विश्वमूर्ति – पूरे ब्रह्माण्ड का रूप           

 

107. वासुदेव – सभी जगह विद्यमान रहने वाले              

 

108.

 

 

 

108 Names of Lord Krishna in English 

 

 

 

1. Achalaa – Bhagawan 

 

2. Avyuktaa – Bhaanam Ki Tarah Spasht 

 

3. Baalagopal – Bhagawan Krishn Ka Baal Rup 

 

4. Achyut – Achuk Prabhu 

 

5. Anaadih – Sarwapratham Hai Jo 

 

6. Aniruddhaa – Jinka Awarodh Na Kiya Ja Sake 

 

7. Adbhuth- Adbhut Prabhu 

 

8. Aanand – Kripa Karane Wale 

 

9. Aparajit – Jinhe Haraya Na Ja Sake 

 

10. Anantajit – Hamesha Vijayi Hone Wale 

 

11. Aadidev – devtaao Ke Swami 

 

12. Amrut – Amrit Jaisa Swarup Wale 

 

13. Aaditya – Devi Aditi Ke Putr 

 

14. Anantaa – Antahin Dev 

 

15. Ajnmaa – Jinaki Shakti Asim Ho 

 

16. Akshara – Avinaashi Prabhu 

 

17. Anayaa – Jinaka Koi Swami Na Ho 

 

18. Ajayaa – jiwan Aur Mrityu Ke Vijeta 

 

19. Jagadishaa – Sabhi Ke Rakshak 

 

20. Gopal – Gwalo Ke Saath Khelane Wale

 

21. Dharmaadhyksh – Dharm Ke Swami 

 

22. Jagataguru – Brhmand Ke Guru 

 

23. Rishikeshaa – Sabhi Indriyo Ke Data 

 

24. Gyaneshwar – Gyan Ke Bhagawan 

 

25. Devesh – Ishwaro Ke Bhi Ishwar 

 

26. Hari – Prakriti Ke Dewata 

 

27. Dayalu – Karunaa Ke Bhandaar 

 

28. Chaturbhuj – Chaar Bhujaao Wale 

 

29. Bali – Sarv Shaktimaan 

 

30. Dewakinandan – Dewaki Ke Putr 30. Dewakinandan – Dewaki Ke Putr 

 

31. Dwarkaadhish – Dwarkaa Ke Adhipati 

 

32. Daanvendro – Waradan Dene Wale 

 

33. Gopalapriyaa – Gwalo Ke Priy 

 

34. Hiranyagarbh – Sabase Shaktishali Prajapati 

 

35. Govinda – gaay Bhumi Aur Prkriti Ko Chahane Wale 

 

36. Devaadhidev – Devo Ke Dev 

 

37. Dayanidhi – Sab Par Daya Karane Wale 

 

38. Mayur – Mukut Par Mor Pankh Dhaaran Karane 

 

39. Kamalanayan – Jinake kamal Ke Saman Netr Hai 

 

40. Manmohan – Sabaka Man Moh Lene Wale 

 

41. Maadhav – Gyan Ke Bhandaar 

 

42. Jyaotiraadity – Jiname Sury Ki Chamak Hai 

 

43. Madan – Prem Ke Pratik 

 

44. Manohar – Bahut Hi Sundar Rang Rup Wale 

 

45. Jagannath – Brhamand Ke Ishwar 

 

46. Kmalanath – Devi Lakshmi Ke Prabhu 

 

47. Madhusudan – Madhu Daanav Ka Vadh Karane wale 

 

48. Jayahanth – Sabhi Dushmano Ko Prajit Karane Wale 

 

49. Kanjalochan – Jinake kamal Ke Saman Netr Hai 

 

50. Lokaadhyksh – Tino Lok Ke Swami 

 

51. Krishn – Saanwale Rang Wale 

 

52. Janaardhanaa – Sabhi Ko Waradan Dene Wale 

 

53. Kaamasaantak – Kans Ka Vadh Karane Wale 

 

54. Lakshmikant – Devi Lakshmi Ke Prabhu 

 

 55. Mahendra – Indr Ke Swami 

 

56. Mohan – Sabhi Ko Akarshit Karane Wale

 

57. Ravilochan – Sury Jinaka Netr Hai 

 

58. Prajapati – Sabhi Praaniyo Ke Nath 

 

59. Muralimanohar – Murali Bajakar Mohane Wale 

 

60. Narayan – Sabako Sharan Me Lene Wale 

 

61. Parabrhman – Param Saty 

 

62. Puny – Nirmal Vyaktitw 

 

63. Murali – Baansuri Bajane Wale Prabhu 

 

64. Nandagopal – Nand Baba Ke Putr 

 

65. Paramaatma – Sabhi Praaniyo Ke Prabhu 

 

66. Purshottam – Uttam Purush 

 

67. Muralidhar – Murali Dhaaran Karane Wale 

 

68. Paaarthasaarthi – Arjun Ke Saarathi 

 

69. Niranjan – Sarwottam 

 

70. Padmanabh – Jinaki Kamal Ke Aakar Ki Naabhi Ho 

 

71. Nirgun – Jiname Koi Awagun Nahi 

 

72. Paramapurush – Shreshth Vyaktitw Wale 

 

73. Padmahstaa – Jinake Kamal Ki Tarah Haath Hai 

 

74. Swarg Pati – Swarg Ke Raja 

 

75. Sahasrajit – Hajaro Ko Jitane Wale 

 

76. Sanaatan – Jinaka Kabhi Ant Na Ho 

 

77. Sarweshwar – Samast Devo Se Uche 

 

78. Shreshth – Mahaan 

 

79. Suresham – Sabhi Jiv Jantuo Ke Dev 

 

80. Shyamsundar – Saanwale Rang Me Bhi Sundar Dikhane Wale 

 

81. Saakshi – Samast Devo Ke Gawah 

 

82. Shrikaant – Adbhut Saundry Ke Swami 

 

83. Sumedh – Sarvagyani 

 

84. Shyam – Jinaka Rang Saanwala Ho 

 

85. Sarwapalak – Sabhi Ka Palan Karane Wale 

 

86. Satyvachan – Saty Kahane Wale 

 

87. Satywat – Shreshth Vyaktitw Wale Dev 

 

88. Sudarshan – Rupwan 

 

89. Sahasrakaash – Hajar Aankh Wale Prabhu 

 

90. Sahasrapaat – Jinake Hajaro Pair Ho 

 

91. Sarwajan – Sab Kuchh Janane Wale 

 

92. Shantah – Shant Bhaw Wale 

 

93. Yoginaampati – Yogiyo Ke Swami 

 

94. Vishwakarma – Brhmand Ke Nirmata 

 

95. Vishwatma – Brhmand Ki Aatma 

 

96. Trivikramaa – Tino Loko Ke Vijeta 

 

97. Vishwadakshinah – Nipun 

 

98. Yadavendraa – Yadav Vansh Ke Mukhiya 

 

99. Wardhmaan – Jinaka Koi Aakaar Na Ho 

 

100. Upendra – Indr Ke Bhai 

 

101. Vishvarupaa – Brhmand Hit Ke Liye Rup Dhaaran Karane Wale 

 

102. Yogi – Pramukh Guru 

 

103. Wrishaparv – Dharm Ke Bhagawan 

 

104. Vishnu – Bhagawan Vishnu Ke Swarup 

 

105. Baikunthanath – Swarg Me Rahane Wale 

 

106. Vishwamurti – Pure Brhmand Ka Rup 

 

107. Wasudev – Sabhi Jagah Vidyaman Rahane Wale 

 

108.

 

 

 

गीता सार सिर्फ पढ़ने के लिए 

 

 

 

इच्छाओ का निरंतर प्रवाह – श्री कृष्ण कहते है – जो पुरुष समुद्र में निरंतर प्रवेश करती रहने वाली नदियों के समान इच्छाओ में निरंतर प्रवाह से विचलित नहीं होता है और जो सदैव ही स्थिर रहता है वही व्यक्ति शान्ति प्राप्त कर सकता है। वह नहीं जो ऐसी इच्छाओ को तुष्ट करने की चेष्टा करता है।

 

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – यद्यपि विशाल सागर में सदैव जल रहता है किन्तु वर्षा ऋतु में यह विशेषतया अधिकाधिक जल से भरा रहता है तो भी सागर उतने पर ही स्थिर रहता है, वह न तो विक्षुब्ध होता है और न तट की सीमा का उल्लंघन ही करता है। यही स्थिति कृष्ण भावना भावित व्यक्ति की होती है।

 

 

 

 

कृष्ण भावना भावित व्यक्ति का यही प्रमाण है कि इच्छाओ के होते हुए भी वह कभी इन्द्रिय तृप्ति के लिए उन्मुख नहीं होता है। चूंकि वह भगवान की दिव्य प्रेमाभक्ति में ही तुष्ट रहता है, अतः वह समुद्र की भांति स्थिर रहकर ही पूर्ण शांति का आनंद उठा सकता है। किन्तु दूसरे लोग जो मुक्ति की सीमा तक इच्छाओ की पूर्ति करना चाहते है फिर तो भौतिक सफलताओ का क्या कहना उन्हें कभी शांति मिल ही नहीं पाती है।

 

 

 

जब तक यह मनुष्य शरीर है तब तक इन्द्रिय तृप्ति के लिए शरीर की मागे बनी रहेगी किन्तु भक्त अपनी पूर्णता के कारण ही ऐसी इच्छाओ से विचलित नहीं होता है। कृष्ण भावना भावित व्यक्ति को किसी वस्तु की आवश्यकता नहीं होती क्योंकि भगवान उसकी सारी इच्छाओ को पूरी करते रहते है।

 

 

 

कर्मी, मुमुक्ष तथा वह योगी सिद्धि के कामी होते है। यह सभी अपनी अपूर्ण इच्छाओ के कारण ही दुखी रहते है। किन्तु कृष्ण भावना भावित पुरुष भगवत सेवा में ही सुख पूर्वक रहता है और उसकी कोई इच्छा नहीं होती है। वस्तुतः वह तो तथा कथित भवबंधन की कामना भी नहीं करता है। कृष्ण के भक्तो की कोई इच्छा नहीं रहती है इसलिए ही वह शांत रहते है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट 108 Names of Lord Krishna in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —->भगवान शिव के 108 नाम जाने

 

इसे भी पढ़ें —-> हनुमान जी के 108 नाम

 

 

 

Leave a Comment