108 Names of Ganesha in Hindi Pdf / गणेश जी के 108 नाम

मित्रों इस पोस्ट में 108 Names of Ganesha in Hindi दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से 108 Names of Ganesha in Hindi Pdf Free Download कर सकते हैं।

 

 

 

108 Names of Ganesha in Hindi Pdf गणेश जी के 108 नाम 

 

 

 

 

 

 

1. बालगणपति – सबसे प्रिय बालक             

 

2. महागणपति – देवो के देव      

 

3. एकाक्षर – एकल अक्षर     

 

4. गजानन – हाथी के मुख वाले भगवान   

 

5. गणाध्यक्ष – सभी गणो के मालिक    

 

6. गौरीसुत – माता गौरी के पुत्र     

 

7. भालचंद्र – जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो     

 

8. गजवक्र – हाथी की सूंड वाला     

 

9. लंबकर्ण – बड़े कान वाले       

 

10. महाबल – बलशाली     

 

11. बुद्धिनाथ – बुद्धि के भगवान      

 

12. एकदन्त – एक दांत वाले     

 

13. गजकर्ण – हाथी की तरह आँखे वाला      

 

14. गजवक्त्र – जिसका हाथी की तरह मुंह है     

 

15. धूम्रवर्ण – धुंए को उड़ाने वाला      

 

16. लम्बोदर – बड़े पेट वाला     

 

17. गणपति – सभी गणो के मालिक     

 

18. महेश्वर – ब्रह्माण्ड के भगवान           

 

19. भूपति – धरती के मालिक       

 

20. मूषक वाहन – जिसका सारथी चूहा          

 

21. शूपकर्ण – बड़े कान वाले            

 

22. प्रथमेश्वर – सबके बीच प्रथम आने वाले        

 

23. अलंपता – अनंत देव        

 

24. अवनीश – पूरे विश्व के प्रभु      

 

25. वक्रतुण्ड – घुमावदार सूंड     

 

26. अमित – अतुलनीय प्रभु      

 

27. नीदिश्वरम – धन और निधी के दाता      

 

28. मंगल मूर्ति – शुभ कार्य के देव       

 

29. सिद्धिविनायक – सफलता के स्वामी        

 

30. सिद्धिदाता – इच्छाओ के स्वामी           

 

31. सुरेश्वरम – देवो के देव    

 

32. शुभम – सभी शुभ कार्यो के प्रभु            

 

33. अखूरथ – जिसका सारथी मूषक है     

 

34. भीम – विशाल            

 

35. अनंतचिदरूपम – अनंत चेतना       

 

36. अविघ्न – बाधाओं को हरने वाले      

 

37. भुवन पति – देवो के देव           

 

38. बुद्धिप्रिय – ज्ञान के देवता             

 

39. कपिल – भूरे रंग वाला       

 

40. चतुर्भुज – चार भुजाओ वाले      

 

41. द्वैमातुर – दो माताओ वाले        

 

42. ईशान पुत्र – भगवान शिव के पुत्र      

 

43. गणाध्यक्षिण – सभी पिंडो के नेता            

 

44. देवादेव – सभी भगवान में सर्वोपरि       

 

45. दूर्जा  – अपराजित देव       

 

46. गदाधर – जिसका हथियार गदा है       

 

47. देवांतकनाशकारी – असुरो के विनाशक       

 

48. देवव्रत – सबकी तपस्या स्वीकार करने वाले       

 

49. बुद्धिविधाता – बुद्धि के मालिक           

 

50. एकदन्त – एक दांत वाले      

 

51. देवेन्द्राशिक – सभी देवताओ की रक्षा करने वाले         

 

52. गुणिन – सभी गुणों के ज्ञानी        

 

53. हेरंब – माँ का प्रिय पुत्र      

 

54. धार्मिक – दान देने वाला          

 

55. हरिद्र – स्वर्ण के रंग वाला          

 

56. नादप्रतिष्ठित – जिसे संगीत से प्यार हो          

 

57. कवीश – कवियों के स्वामी                            

 

58. रक्त – लाल रंग के शरीर वाले                  

 

59. क्षिप्रा – आराधना के योग्य             

 

60. कृपाकर – कृपा करने वाले       

 

61. नमस्थेतु – पापो पर विजय प्राप्त करने वाले         

 

62. प्रमोद – आनंद        

 

63. नंदन – भगवान शिव का बेटा        

 

64. मुक्तिदायी – शाश्वत आनंद के दाता        

 

65. सिद्धांत – उपलब्धियों की गुरु       

 

66. मूढ़ाकरम – जिनमे ख़ुशी का वाश होता है      

 

67. नादप्रतिष्ठित – जिसे संगीत से प्यार हो          

 

68. कीर्ति – यश के स्वामी    

 

69. कृष्णपिंगाश – भूरी आँख वाले        

 

70. पीतांबर – पीले वस्त्र धारण करने वाला       

 

71. पुरुष – अद्भुत व्यक्ति        

 

72. मनोमय – दिल जीतने वाला       

 

73. क्षेमंकारी – माफ़ी प्रदान करने वाला        

 

74. मृत्युंजय – मौत को हरने वाला           

 

75. श्वेता – जो सफेद रंग के रूप में शुद्ध है           

 

76. वीरगणपति – वीर प्रभु         

 

77. रुद्रप्रिय – भगवान शिव के चहीते         

 

78. स्कन्दपूर्वज – भगवान कार्तिकेय के भाई         

 

79. वरगणपति – अवसरों के स्वामी     

 

80. तरुण – जिसकी कोई आयु न हो       

 

81. सिद्धिप्रिय – इच्छापूर्ति करने वाले     

 

82. सर्वदेवात्मन – सभी स्वर्गीय प्रसाद के स्वीकर्ता           

 

83. उमापुत्र – पार्वती के बेटे     

 

84. वरप्रद – अवसरों के अनुदाता     

 

85. सर्वसिद्धांत –  बुद्धि के दाता      

 

86. ओमकार – ओम के आकार वाला      

 

87. सुमुख – शुभ मुख वाले         

 

88. शुभगुणकानन – जो सभी गुण के गुरु है           

 

89. शशिवर्णम – जिसका रंग चन्द्रमा को भाता हो       

 

90. वरदविनायक – सफलता के स्वामी         

 

91. स्वरूप – सौंदर्य के प्रेमी      

 

92. विद्यावारिधि – बुद्धि के देव     

 

93. योगाधिपति – ध्यान के प्रभु        

 

94. विनायक – सबका भगवान       

 

95. विघ्नहर्ता – बुद्धि के देवता            

 

96. विघ्नविनाशाय – सभी बाधाओं का नाश करने वाला      

 

97. यज्ञकाय – बलि को स्वीकार करने वाला         

 

98. यशस्विन – लोकप्रिय देव            

 

99. विघ्नहर – बाधाओं को दूर करने वाले          

 

100. विकट – अत्यंत विशाल             

 

101. यशस्कर – भाग्य के स्वामी           

 

102. विश्वराजा – संसार के स्वामी         

 

103. विघ्नेश्वर – सभी बाधाओं को हरने वाले भगवान       

 

104. विघ्नराजेन्द्र – सभी बाधाओं के भगवान         

 

105. विघ्नराज – सभी बाधाओं के मालिक          

 

106. विघ्न विनाशन – बाधाओं का अंत करने वाले           

 

107. उद्दंड – शरारती       

 

108. सर्वात्मन – ब्रह्माण्ड की रक्षा करने वाला             

 

 

108 Names of Ganesha in English 

 

 

 1. Baalganapti – Sabase Priy Balak

 

 2. Mahaaganpati – Devo Ke Dev

 

3. Ekaakshar – Ekal Akshar 

 

4. Gajanan – Haathi Ke Mukh Wale Bhagawan 

 

5. Ganaadhyksh – Sabhi Gano Ke Malik 

 

6. Gauri Sut – Mata Guri Ke Putr 

 

7. Bhaalchandr – Jisake Mastak Par Chndrma Ho 

 

8. Gajwakr – Haathi Ki Sund Wala 

 

9. Lambkarn – Bade Kaan Wale 

 

10. Mahaabal – Balashaali 

 

11. Buddhinaath – Buddhi Ke Bhagawan 

 

12. Ekadant – Ek Daat Wale

 

13. Gajakarn – Haathi Ki Tarah Aankhe Wala 

 

14. Gajawaktr – Jisaka Haathi Ki Tarah Munh Hai 

 

15. Dhumrawarn – Dhune Ko Udaane Wala 

 

16. Lambodar – Bade Pet Wala 

 

17. Ganapati – Sabhi Gano Ke Malik 

 

18. Maheshwr – Brahmand Ke Bhagawan

 

19. Bhupati – Dharati Ke Malik

 

20. Mushak Wahan – Jiska Sarathi Chuha

 

21. Shupakarn – Bade Kaan Wale

 

22. Prathameshwar – Sabake Bich Pratham Aane Wale

 

23. Almapata – Anant Dev

 

24. Avanish – Pure Vishw Ke Prabhu

 

25. Wakratund – Ghumawadar Sund

 

26. Amit – Atulaniy Prabhu

 

27. Nidishwar – Dhan Aur Nidhi Ke Data

 

28. Mangal Murti – Shubh Kary Ke Dev

 

29. Siddhivinayak – Safalta Ke S30.wami

 

30. Siddhidata – Ichhao Ke Swami 

 

31. Sureshwaram – Devo Ke Dev

 

32. Shubham – Sabhi Shubh Karyo Ke Prabhu 

 

33. Akhurath – Jisaka Saarathi Mushak Hai

 

34. Bhima – Vishal 

 

35. Anantchitrupam – Anant Chetana 

 

36. Avighna – Badhaao Ko Harane Wale 

 

37. Bhuwan pati – Dewo Ke Dev 

 

38. Buddhipriy – Gyan Ke Dewata 

 

39. Kapil – Pile Rang Wala 

 

40. Chaturbhuj – Char Bhujao Wale 

 

41. Dwaimaatur – Do Matao Wale 

 

42. Ishaan Putr – Bhagawan Shiv Ke Putr 

 

43. Ganaadhyakshin – Sabhi Pindo Ke Swami 

 

44. Devaadev – Sabhi Bhagawan Me Sarwopari 

 

45. Durja – Aparaajit Dev 

 

46. Gadadhar – Jisaka Hathiyaar Gada Hai 

 

47. Devantknashakari – Asuro Ke Vinaashak 

 

48. Devavrat – Sabaki Tapasya Swikar Karane Wale 

 

49. Buddhividhata – Buddhi Ke Malik 

 

50. Ekdant – Ek Daat Wale 

 

51. Devendraashik – Sabhi Devtaao Ki Raksha Karane Wale 

 

52. Gunin – Sabhi Guno Ke Gyani 

 

53. Heramb – Maa Ka Priy Putr 

 

54. Dharmik – Daan Dene Wala 

 

55. Haridr – Swarn Ke Rang Wala 

 

56. Naadpratishthit – Jise Snagit Se Pyar Ho 

 

57. Kavish – Kaviyo Ke Swami

 

58. Rakt – Lal Rang Ke Sharir Wale

 

59. Kshipra – Aradhna Ke Yogy

 

60. Kripashankr – Kripa Karane Wale

 

61. Amosthetu – Papo Par Vijay Praapt Karane Wale

 

62. Pramod – Anand

 

63. Nandan – Bhagawan Shiv Ka Beta

 

64. Muktidayi – Shashwat Aananad Data

 

65. Siddhant – Uplabdhiyo Ki Guru

 

66. Mudhaakaram – Jiname Khushi Ka Waash Hota Hai

 

67. Naadapratishithit – Jise Sangit Se Pyar Ho

 

68. Kiriti – Yash Ke Swami

 

69. Krishnpingaash – Bhuri Aankh Wale

 

70. Pitaambar – Pile Wastr Dharan Karane Wala

 

71. Purush – Adbhut Vyakti

 

72. Manomay – Dil Jitane Wala

 

73. Kshemnkaari – Maafi Pradaan Karane Wala

 

74. Mrityunjy – Maut Ko Harane Wala 

 

75. Shwetaa – Jo Safed Rang Ke Rup Me Shuddh Hai

 

76. Virganapati – Vir Prabhu

 

77. Rudrpriy – Bhagawan Shiv Ke Chahite

 

78. Skndapurwj – Bhagawan Kartikey Ke Bhai

 

79. Waraganapati – Awasaro Ke Swami

 

80. Tarun – Jisaki Koi Aayu Na Ho

 

81. Siddhipriy – Ichhapurti Karane Wale

 

82. Sarwadewaatman – Sabhi Swargiy Prasad Ke Swikaarta

 

83. Umaputr – Parwati Ke Bete

 

84. Warprad – Awsaro Ke Anudata

 

85. Sarwsiddhaant – Buddhi Ke Data

 

86. Omkar – Om Ke Aakaar Wala

 

87. Sumukh – Shubh Mukh Wale

 

88. Shubgunakaanana – Jo Sabhi Gun Ke Guru Hai

 

89. Shashiwarnam – Jisaka Rang Chandrama Ko Bhata Ho

 

90. Waradvininayak – Safalata Ke Swami

 

91. Swarup – Saundry Ke Premi

 

92. Vidyawaaridhi – Buddhi Ke Dev

 

93. Yogaadhipati – Dhyaan Ke Prabhu

 

94. Vinayak – Sabaka Bhagawan

 

95. Vighnaharta – Buddhi Ke Devata

 

96. Vighnavinaashaay – Sabhi Badhaao Ka Naash Karane Wala

 

97. Yagyakaay – Bali Ko Swikaara Karane Wala

 

98. Yashshwin – Lokapriy Dev

 

99. Vighnahar – Badhaao Ko Dur Karane Wale

 

100. Vikat – Atyant Vishal

 

101. Yshaskar – Bhaagy Ke Swami

 

102. Vishwaraja – Sansaar Ke Swami

 

103. Vighneshwar – Sabhi Badhaao Ko Harane Wale Bhagawan

 

104. Vighnrajendr – Sabhi Badhaao Ke Bhagawan

 

105. Vighnraaj – Sabhi Badhaao Ke Malik

 

106. Vighn Vinaashan – Badhaao Ka Ant Karane Wale

 

107. Uddand – Sharaarati

 

108. Sarwaatman – Brahmand Ki Raksha Karane Wale

 

 

 

गीता सार सिर्फ पढ़ने के लिए 

 

 

 

आत्मसंयमी के जागने का समय – जीवो के लिए रात्रि – श्री कृष्ण कहते है – जो सब जीवो के लिए रात्रि का समय होता है वह आत्मसंयमी के लिए जागने का समय होता है। जब सब जीवो के जागने का समय होता है वह आत्म-निरीक्षक के लिए रात्रि होती है।

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – विचारवान पुरुषो या आत्मनिरिक्षक मुनि के कार्य भौतिकता में लीन पुरुषो के लिए रात्रि के समान है। भौतिकतावादी व्यक्ति ऐसी रात्रि में अनभिज्ञता के कारण आत्मसाक्षात्कार के प्रति सोए रहते है। आत्म निरीक्षक मुनि भौतिकतावादी पुरुषो की रात्रि में जागे रहते है।

 

 

 

बुद्धिमान मनुष्यो की दो श्रेणियां होती है। एक श्रेणी के मनुष्य इन्द्रिय तृप्ति के लिए भौतिक कार्य करने में निपुण होते है और दूसरी श्रेणी के मनुष्य आत्मनिरिक्षक होते है जो आत्मसाक्षात्कार के अनुशीलन के लिए ही जागते है।

 

 

 

मुनि को आध्यात्मिक अनुशीलन की क्रमिक उन्नति में दिव्य आनंद का अनुभव होता है किन्तु भौतिकतावादी कार्यो में लगा हुआ व्यक्ति आत्मसाक्षात्कार के प्रति सोया रहकर अनेक प्रकार के इन्द्रिय सुखो का स्वप्न देखता रहता है और उसी सुप्तावस्था में कभी सुख तो कभी दुख का अनुभव करता है। आत्मनिरिक्षक मनुष्य सुख तथा दुख के प्रति अन्यमनस्क रहता है। वह भौतिक कार्यो से अविचलित रहकर आत्म-साक्षात्कार के कार्यो में लगा रहता है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट 108 Names of Ganesha in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —-> भगवान शिव के 108 नाम जाने

 

इसे भी पढ़ें —->  हनुमान जी के 108 नाम

 

 

 

Leave a Comment

स्टार पर क्लिक करके पोस्ट को रेट जरूर करें।

Enable Notifications    सब्स्क्राइब करें। No thanks