RatRating

108 Names of Durga in Hindi Pdf / माता दुर्गा के 108 नाम जाने

मित्रों इस पोस्ट में 108 Names of Durga in Hindi दिया गया है। आप नीचे की लिंक से 108 Names of Durga in Hindi Pdf Free Download कर सकते हैं।

 

 

 

108 Names of Durga in Hindi Pdf माता दुर्गा के 108 नाम जाने 

 

 

 

 

 

1. महातपा – भारी तपस्या करने वाली                           

 

2. दुर्गा – अपराजेय         

 

3. शूलधारिणी – शूल धारण करने वाली        

 

4. सती – अग्नि में जलकर भी जीवित होने वाली           

 

5. भवप्रीता – भगवान शिव पर प्रीति रखने वाली           

 

6. पिनाकधारिणी – शिव का त्रिशूल धारण करने वाली         

 

7. साध्वी – आशावादी           

 

8. त्रिनेत्र – तीन आंखो वाली       

 

9. चंद्रघंटा – घंटे की आवाज निकालने वाली            

 

10. जया – विजयी         

 

11. आर्या – देवी          

 

12. भवानी – ब्रह्मांड की निवास      

 

13. आद्य – शरुवात की वास्तविकता        

 

14. भवमोचनी – संसार बंधनो से मुक्त करने वाली          

 

15. चित्रा – सुरम्य           

 

16. देवमाता – देवगण की माता       

 

17. अहंकारा – अभिमान करने वाली         

 

18. भाव्या – भावना और ध्यान करने योग्य     

 

19. शाम्भवी – शम्भू की पत्नी         

 

20. सत्ता – जो सबसे ऊपर है          

 

21. सदागति – हमेशा गति में        

 

22. चिता – मृत्युशय्या          

 

23. भाविनी – सबको उत्पन्न करने वाली        

 

24. मन – मनन शक्ति      

 

25. भव्या – कल्याणरूपा        

 

26. अभव्या – जिससे बढ़कर भव्य कुछ नहीं        

 

27. चिति – चेतना       

 

28. बुद्धि – सर्वज्ञाता       

 

29. सर्वमन्त्रमयी – सभी मंत्रो का ज्ञान रखने वाली             

 

30. चित्तरूपा – वह जो सच की अवस्था में है              

 

31. अनंता – जिनके स्वरूप का कही अंत नहीं             

 

32. सत्यानन्दस्वरूपिणी – अनंत आनंद का रूप         

 

33. सुरसुन्दरी – अत्यंत सुंदर           

 

34. विक्रमा – असीम पराक्रमी            

 

35. दक्षयज्ञविनाशनी – दक्ष के यज्ञ को रोकने वाली           

 

36. चिंता – चिंता           

 

37. क्रूरा – दैत्यों के प्रति कठोर        

 

38. रत्नप्रिया – गहने से प्यार         

 

39. पाटला – लाल रंग वाली           

 

40. अमेय – जिसकी कोई सीमा नहीं            

 

41. सुंदरी – सुंदर स्वरूप वाली        

 

42. सर्वविद्या – ज्ञान का निवास        

 

43. अनेकवर्णा – अनेक रंगो वाली              

 

44. पट्टाम्बरपरीधाना – रेशमी वस्त्र पहनने वाली          

 

45. दक्षकन्या – दक्ष की बेटी          

 

46. कलामंजीरारंजिनी – पायल को धारण करके प्रसन्न रहने वाली            

 

47. अपर्णा – तपस्या के समय पत्ते को भी न खाने वाली            

 

48. पाटलावती – लाल परिधान या फूल धारण करने वाली              

 

49. बुद्धिदा – ज्ञान देने वाली          

 

50. वनदुर्गा – जंगलो की देवी         

 

51. लक्ष्मी – सौभाग्य की देवी               

 

52. पुरुषाकृति – वह जो पुरुष धारण कर ले              

 

53. वाराही – वाराह पर सवार होने वाली              

 

54. नित्या – अनंत            

 

55. ज्ञाना – ज्ञान से भरी हुई           

 

56. माहेश्वरी – प्रभु शिव की शक्ति            

 

57. कौमारी – किशोरी            

 

58. मातंगी – मतंगा की देवी          

 

59. वैष्णवी – अजेय              

 

60. इंद्री – इंद्र की शक्ति          

 

61. क्रिया – हर कार्य में होने वाली          

 

62. विमिलौत्कार्शिनी – आनंद प्रदान करने वाली             

 

63. चामुंडा – चण्ड और मुण्ड का नाश करने वाली        

 

64. ब्राह्मी – भगवान ब्रह्मा की शक्ति               

 

65. मातंगमुनिपूजिता – बाबा मतंगा द्वारा पूजनीय          

 

66. कैशोरी – जवान लड़की         

 

67. सर्वशास्त्रमयी – सभी सिद्धांतो में निपुण            

 

68. अनेकास्त्रधारिणी – अनेक हथियारों को धारण करने वाली        

 

69. एककन्या – कन्या             

 

70. बहुलप्रेमा – सर्व प्रिय             

 

71. बहुला – विभिन्न रूपों वाली           

 

72. अनेकशस्त्रहस्ता – हाथो में कई हथियार धारण करने वाली       

 

73. मधुकैटभहन्त्री – मधु और कैटभ का नाश करने वाली             

 

74. सर्वासुरविनाशा – सभी राक्षशो का नाश करने वाली           

 

75. सत्या – सच्चाई                

 

76. कुमारी – सुंदर किशोरी           

 

77. महिषासुरमर्दिनि – महिषा सुर का वध करने वाली         

 

78. सर्वास्त्रधारिणी – सभी हथियार धारण करने वाली             

 

79. चण्डमुण्ड विनाशिनि – चण्ड मुण्ड का विनाश करने वाली             

 

80. सर्वदानवघातिनी – संहार के लिए शक्ति रखने वाली          

 

81. निशुंभशुंभहननी – शुम्भ, निशुम्भ का वध करने वाली         

 

82. सर्ववाहनवाहना – सभी वाहन पर विराजमान होने वाली         

 

83. भद्रकाली – काली का भयंकर रूप         

 

84. महाबला – अपार शक्ति वाली           

 

85. वृद्धमाता – शिथिल           

 

86. युवती – नारी         

 

87. कालरात्रि – काले रंग वाली          

 

88. बलप्रदा – शक्ति देने वाली           

 

89. अग्निज्वाला – मार्मिक आग की तरह     

 

90. नारायणी – भगवान नारायण की विनाशकारी रूप         

 

91. रौद्रमुखी – विध्वंसक रूद्र की तरह भयंकर चेहरा         

 

92. तपस्विनी – तपस्या में लगे हुए             

 

93. मुक्तकेशी – खुले बाल वाली         

 

94. अप्रौढ़ा – जो कभी पुराना ना हो             

 

95. यति – तपस्वी            

 

96. महोदरी – ब्रह्माण्ड को संभालने वाली             

 

97. घोररूपा – एक भयंकर दृष्टिकोण वाली             

 

98. प्रौढ़ा – जो पुराना है              

 

99. ब्रह्मवादिनी – वर्तमान में हर जगह वास करने वाली            

 

100. अनंता – विनाश रहित            

 

101. विष्णुमाया – भगवान विष्णु का जादू              

 

102. सावित्री – सूर्य की बेटी              

 

103. जलोदरी – ब्रह्माण्ड में निवास करने वाली             

 

104. परमेश्वरी – प्रथम देवी         

 

105. शिवदूती – भगवान शिव की राजदूत            

 

106. प्रत्यक्षा – वास्तविक           

 

107. कात्यायनी – ऋषि कात्यायन द्वारा पूजनीय       

 

108. करली – हिंसक        

 

 

 

108 Names of Durga in English 

 

 

1. Mahatapa – Bhaari Tapasya Karane Wali

 

2. Durga – Aparajey 

 

3. Shuldhaarini – Shul Dhaaran Karane Wali 

 

4. Sati – Agni Me Jalakar Bhi Jivit Hone Wali 

 

5. Bhawapritaa – Bhagawan Shiv Par Priti Rakhane Wali 

 

6. Pinaakadhaarini – Shiv Ka Trishul Dhaaran Karane Wali 

 

7. Saadhwi – Aashawadi 

 

8. Trinetr – Tin Aankho Wali 

 

9. Chndraghnta – Ghante Ki Awaj Nikaalane Wali

 

10. Jaya – Vijayi 

 

11. Aarya – Devi 

 

12. Bhawani – Brahmand Ki Niwas

 

13. Aady – Shuruwat Ki Waastvikata 

 

14. Bhawamochini – Sansaar Bandhano Se Mukt Karane Wali 

 

15. Chitra – Suramy 

 

16. Devamata – Devgan Ki Mata 

 

17. Ahnkar – Abhiman Karane Wali 

 

18. Bhaavya – Bhawana Aur Dhyan Karane Yogy 

 

19. Shaambhavi – Sambhu Ki Patni 

 

20. satta – Jo Sabase Upar Hai 

 

21. Sadagati – Hamesha Gati Me 

 

22. Chita – Mrityushayya 

 

23. Bhavini – sabako Utpann Karane Wali 

 

24. Man – Manan Shakti 

 

25. Bhavyaa – kalyaanarupaa 

 

26. Abhvya – Jisase Badhakar Bhavy Kuchh Nahi

 

27. Chiti – Chetana

 

28. Buddhi – sarvagyata 

 

29. sarvamantramayi – Sabhi Mantron ka Gyan rakhane Wali 

 

30. Chittarupa – Wah Jo sach Ki Awastha Me Hai 

 

31. Ananta – Jinake Swarup Ka Kahi Ant Nahi

 

32. Satyaanandaswarupini – Anant Aanand Ka Rup 

 

33. Sursundari – Atyant Sundar 

 

34. Vikrma – Asim Paraakrami 

 

35. Dakshayagyvinaashini – Daksh Ke Yagy Ko Rokane Wali 

 

36. Chinta – Chinta 

 

37. Kruraa – Daityo Ke Prati Kathor 

 

38. Ratnapriya – Gahane Se Pyar 

 

39. Patla – Lal Rang Wali 

 

40. Amey – Jisaki Koi Sima Nahi 

 

41. Sundari – Sundar Swarup Wali 

 

42. Sarwavidya – Gyan Ka Niwas 

 

43. Anekawarnaa – Anek Rango Wali 

 

44. Pattambaparidhan – Reshami Wastr Pahanane Wali 

 

45. Dakshaknya – Daksh Ki Beti 

 

46. Klaamanjiraaranjini – Payal Ko Dhaaran Karake Prasann Rahane Wali 

 

47. Aparnaa – Tapasya Ke Samay Patte Ko Bhi Na Khaane Wali 

 

48. Patalawati – Lal Paridhan Ya Ful Dhaaran karane Wali 

 

49. Buddhida – Gyan Dene Wali 

 

50. wanadurga – Jangalo Ki Devi 

 

51. Lakshmi – Saubhagy Ki Devi  

 

52. Purushaakriti – Wah Jo Purush Dhaaran Kar Le 

 

53. warahi – warah Par Sawaar Hone Wali 

 

54. Nitya – Anant

 

55. Gyana – Gyan Se Bhari Huyi 

 

56. Maheshwari – Prabhu Shiv Ki Shakti 

 

57. Kaumaari – Kishori 

 

58. Maatangi – Mantngaa Ki Devi 

 

59. Vaishnavi – Ajey

 

60. Indri – Indr Ki Shakti 

 

61. Kriya – Har Kary Me Hone Wali 

 

62. Vimilautkaarshini – Aanand Pradan Karane wali 

 

63. Chamunda – Chand Aur Mund ka Naash Karane wali 

 

64. Braahmni – Bhagawan Brahma Ki Shakti 

 

65. Maatangmunipujita – Baba Matangaa Dwara Pujaniy 

 

66. Kaisori – Jawan Ladaki 

 

67. Sarwashaastramayi – Sabhi Siddhanto Me Nipun 

 

68. Anekaastradhaarini – Aneka Hathiyaro Ko Dhaaran karane Wali 

 

69. Ekaknya – Kanya 

 

70. Bahulapremaa – Sarw Priy 

 

71. Bahulaa – Vibhinna Rupo Wali 

 

72. Anekashastrahasta – Haatho Me Kai Hathiyaar Dhaaran Karane Wali 

 

73. Madhukaitabhahantri – Madhu Aur Kaitabh ka Naash Karane Wali 

 

74. Sarwaasuravinaasha – Sabhi Rakshasho Ka Naash Karane Wali 

 

75. Satyaa – sachhaai 

 

76. Kumari – Sundar Kishori 

 

77. Mahishasuramardini – Mahisha Sur Ka Vadh Karane Wali 

 

78. Sarwaastradhaarini – Sabhi Hathiyar Dhaaran Karane Wali 

 

79. Chandamunda Vinaashini – Chand Mund Ka Vinaash Karane Wali 

 

80. Sarwadaanavaghaatini – Snhaar Ke Liye Shakti Rakhane Wali 

 

81. Nishumbhshumbhahanani – Sumbh, Nishumbh Ka Vadh Karane Wali 

 

82. Sarwawaahanawaahanaa – Sabhi Wahano Par Virajmaan Hone Wali 

 

83. Bhadrakaali – Kaali Ka Bhaynkar Rup 

 

84. Mahaabalaa – Apaar Shakti Wali 

 

85. Vriddhmata – Shithil 

 

86. Yuwati – Naari 

 

87. Kaalaraati – Kaale Rang Wali 

 

88. Balapradaa – Shakti Dene Wali

 

90. Narayani – Bhagawan Narayan Ki Vinaashkaari Rup 

 

91. Raudramukhi – Vidhwansak Rudr Ki Tarah Bhayankar Chehara 

 

92. Tapaswini – Tapasya Me Lage Huye 

 

93. Muktkeshi – Khule Baal Wali 

 

94. Apraudha – Jo Kabhi Purana Na Ho 

 

95. Yati – tapaswi 

 

96. Mahodari – Brahmand Ko Sambhaalane Wali 

 

97. Ghorarupaa – Ek Bhayankar Drishtikon Wali 

 

98. Praudhaa – Jo Purana Hai 

 

99. Brahmwaadini – Wartmaan Me Har Jagah Waas Karane Wali 

 

100. Anantaa – Vinaash Rahit 

 

101. Vishnumaya – Bhagawan Vishnu Ki Maya 

 

102. Savitri – Sury Ki Beti 

 

103. jalodari – Brahmand Me Niawas Karane Wali 

 

104. Parameshwari – Pratham Devi 

 

105. Shivadut – Bhagawan Shiv Ki Rajdut

 

106. Pratyaksha – Wastvik 

 

107. Katyayani – Rishi Katyayan Dwara Pujaniy 

 

108. Karali – Hinsak 

 

 

 

गीता सार सिर्फ पढ़ने के लिए 

 

 

श्री कृष्ण कहते है – क्रोध से पूर्ण मोह उत्पन्न होता है और मोह से स्मरण शक्ति का विभ्रम हो जाता है। जब स्मरण शक्ति भ्रमित हो जाती है तो बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि के नष्ट होने पर मनुष्य भव कूप में पुनः गिर जाता है।

 

 

 

उपरोक्त शब्दों का तात्पर्य – श्रील रूप गोस्वामी का यह आदेश है –

पपश्चिकतया बुद्धया हरि संबंधी वस्तुनः।

मुमुक्षुभिः परित्यागो वैराग्यं फल्गु कथ्यते।।

 

 

कृष्ण भावनामृत के विकास से मनुष्य यह जान सकता है कि प्रत्येक वस्तु का उपयोग भगवान की सेवा के लिए किया जा सकता है। जो कृष्ण भावनामृत के ज्ञान से रहित है उनका तथा कथित वैराग्य फल्गु अर्थात गौण कहलाता है। वह कृतिम ढंग से बचने का प्रयास करते है। फलतः उनकी मोक्ष कामना होते हुए भी उन्हें मोक्ष प्राप्त नहीं होता है।

 

 

 

 

अथवा उनको वैराग्य की चरम अवस्था भी प्राप्त नहीं हो पाती है। कृष्ण भावना भावित व्यक्ति की स्थिति सर्वदा ही उन सबके विपरीत होती है जो भगवद्भक्त या कृष्ण भावना भावित नहीं है। कृष्ण भावना भावित व्यक्ति जानता है प्रत्येक वस्तु का उपयोग भगवान की सेवा में किस प्रकार से किया जाय फलतः उसे भौतिक माया बांध नहीं पाती अर्थात वह भौतिक चेतना का शिकार नहीं होता है।

 

 

 

 

कृष्ण भावनामृत से सरावोर व्यक्ति (भक्त) यह जानता है कि कृष्ण परम भोक्ता है और भक्ति पूर्वक उन्हें जो भी भेट अर्पित की जाती है उसे वह ग्रहण अवश्य करते है।

 

 

 

अतः भगवान को अच्छा भोजन चढ़ाने के बाद भक्त उस भोजन को प्रसाद रूप में ग्रहण करते है। लेकिन जो निर्विशेषवादी है उनके अनुसार भजन निराकार होने के कारण भोजन नहीं कर सकते है अतः वह अच्छे खाद्यों से बचता है।

 

 

 

 

कृष्ण को अर्पित की हुई हर वस्तु प्राणवान हो जाती है। अर्थात हर उस वस्तु में कृष्ण भावनामृत का संचार हो उठता है जो कृष्ण को अर्पित की जाती है और उस वस्तु को प्रसाद रूप में ग्रहण करने पर भक्त को अधः पतन का कोई संकट नहीं रहता है। जबकि ऐसी वस्तुओ का जो कृष्ण को अर्पित की जाती है अभक्त इसे पदार्थ के रूप में तिरस्कार कर देता है।

 

 

 

कृष्ण भक्ति के बिना जीव मुक्ति के स्तर तक पहुंचने के बाद भी नीचे गिर जाता है क्योंकि उसे भक्ति का जरा भी आश्रय नहीं मिलता है। निर्विशेषवादी अपने कृतिम त्याग के कारण ही जीवन को भोग नहीं पाता यही कारण है कि मन के थोड़े से विचलन से वह पुनः भवकूप में आ गिरता है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट 108 Names of Durga in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —-> शनि देव के 108 नाम

 

इसे भी पढ़ें —->सूर्य देव के 108 नाम जाने

 

 

 

Leave a Comment

स्टार पर क्लिक करके पोस्ट को रेट जरूर करें।

Enable Notifications    सब्स्क्राइब करें। No thanks